Home /News /politics /

भाई समझा था, आस्तीन के सांप निकले आजमः जयाप्रदा

भाई समझा था, आस्तीन के सांप निकले आजमः जयाप्रदा

जयाप्रदा ने कहा कि वह आजम खां को भाई मानती थीं और उन्हें राखी बांधती थीं लेकिन जब राखी वाले हाथ गर्दन तक पहुंचने लगें तो उसका इलाज हो जाना चाहिए।

जयाप्रदा ने कहा कि वह आजम खां को भाई मानती थीं और उन्हें राखी बांधती थीं लेकिन जब राखी वाले हाथ गर्दन तक पहुंचने लगें तो उसका इलाज हो जाना चाहिए।

जयाप्रदा ने कहा कि वह आजम खां को भाई मानती थीं और उन्हें राखी बांधती थीं लेकिन जब राखी वाले हाथ गर्दन तक पहुंचने लगें तो उसका इलाज हो जाना चाहिए।

    लखनऊ। समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खां से फिल्म अभिनेत्री और रामपुर से सांसद जयाप्रदा इस कदर नाराज हैं कि उन्हें आस्तीन का सांप मानती हैं और उनके विधानसभा चुनाव हारने तक वह रामपुर में ही कैम्प करेंगी।

    फिल्म अभिनेत्री और सांसद ने कहा कि आजम खां ने हमें बहुत रुलाया है और अब उनके रोने की बारी है। जयाप्रदा ने कहा कि वह आजम खां को भाई मानती थीं और उन्हें राखी बांधती थीं लेकिन जब राखी वाले हाथ गर्दन तक पहुंचने लगें तो उसका इलाज हो जाना चाहिए।

    उन्होंने कहा कि बनाया था भाई लेकिन वह तो आस्तीन का सांप निकला। उन्होंने कहा कि पहले वह दिल से राजनीति करती थी लेकिन अब दिमाग से करने लगी हैं। उन्हें बहुत देर में पता चला कि राजनीति दिल के बजाय दिमाग से करनी चाहिए। जब तक उन्होंने दिल से राजनीति की, आजम खां ने उन्हें परेशान किया।

    एक सवाल के जवाब में जयाप्रदा ने कहा कि पहले वह स्वयं खां के खिलाफ चुनाव लड़ना चाहती थीं लेकिन प्रथम चरण का चुनाव अंतिम चरण में चले जाने के कारण योजना बदलनी पड़ी। प्रथम चरण में भी रामपुर में चुनाव हो जाता तो वह मतदान के बाद शेष चरणों में पार्टी के लिए राज्य के अन्य क्षेत्रों में प्रचार के लिए जा सकती थीं।

    सपा से निकाले जाने के बावजूद वह पार्टी अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव को पिता तुल्य मानती हैं और उनके बारे में टिप्पणी करने से बचती हैं। उनका कहना था कि यादव उनसे बड़े और आदरणीय हैं इसलिए वह उनके बारे में कुछ भी गलत नहीं बोलना चाहेंगी।

    Tags: Amar singh, Azam Khan, Jaya prada, Uttar pradesh election 2012

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर