Home /News /politics /

यूपी में तेल के खेल में नेता और पुलिस अफसर का गठजोड़

यूपी में तेल के खेल में नेता और पुलिस अफसर का गठजोड़

यूपी में एक नेता और पुलिस अफसर के रिश्ते सवालों के घेरे में आ गए हैं। प्रदेश के डीजी अतुल कुमार की जांच में वाराणसी के SSP बीडी पालसन पर कई गंभीर आरोप लगाए गए हैं।

    लखनऊ। यूपी में एक नेता और पुलिस अफसर के रिश्ते सवालों के घेरे में आ गए हैं। प्रदेश के डीजी अतुल कुमार की जांच में वाराणसी के SSP बीडी पालसन पर कई गंभीर आरोप लगाए गए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक SSP एक पूर्व मंत्री के भांजे के साथ मिलकर तेल का काला कारोबार करते थे।

    दरअसल आईबीएन7 के हाथ लगी उत्तर प्रदेश के डीजी अतुल कुमार की ये जांच रिपोर्ट आईपीएस अफसर बीडी पालसन के इर्द गिर्द घूमती है। पालसन इस वक्त वाराणसी में एसएसपी हैं। 2011 की इस रिपोर्ट में दूसरे किरदार हैं बीएसपी सरकार में मंत्री रहे चौधरी लक्ष्मी नारायण। जबकि तीसरे शख्स है चौधरी लक्ष्मी नारायण के भांजे मनोज चौधरी।

    आरोप है कि एसएसपी पालसन अपनी मथुरा तैनाती के दौरान बीएसपी सरकार में तत्कालीन मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण के सगे भांजे मनोज चौधरी के साथ मिलकर तेल का काला धंधा करते थे। इसमें हर रोज तकरीबन 20 से 25 लाख रुपए तक का कारोबार होता था। आरोप के मुताबिक कमाई का अधिकतर हिस्सा एसएसपी बीडी पालसन को मिलता था। जबकि बाकी मंत्री लक्ष्मी नारायण और उनके भांजे को।

    अपनी रिपोर्ट में अतुल कुमार ने लिखा है कि पालसन ने पैसे लेकर मनोज चौधरी के कहने पर मथुरा के थानों में प्रभारियों की मनमानी तैनाती की। ताकि मनोज के गैरकानूनी धंधे में कोई रुकावट ना आए। गोपनीय सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि बीडी पालसन द्वारा मनोज, जो कि चौधरी लक्ष्मी नारायण का सगा भांजा है, से संपर्क कर उसके प्रभाव से उक्त अवैध गोदाम धारकों को अनुचित लाभ से पेट्रोलियम पदार्थ का भंडारण, क्रय, विक्रय का अवसर देकर उनसे प्रतिमाह अनुचित लाभ लिया जाता है। सूत्रों से ये भी पता चला कि चौधरी लक्ष्मी नारायण के भांजे मनोज के प्रभाव से अनूप भारती उपनिरीक्षक को थानाध्यक्ष पद पर पालसन द्वारा रुपये पांच लाख अनुचित लाख लेकर नियुक्त किया गया।

    असल में मथुरा में इंडियन ऑयल की तेल की बड़ी रिफाइनरी है। सूत्रों के मुताबिक टैंकरों में तेल भरते वक्त, तेल की सप्लाई के वक्त और कई बार रिफाइनरी की पाइप को काट कर तेल की चोरी की जाती है। सूत्रों की माने तो इस धंधे का नेटवर्क काफी बड़ा है। आईबीएन7 ने कुछ दिन पहले खुफिया कैमरे में कैद तेल की इस चोरी की तस्वीरें दिखाई थी। अब उत्तर प्रदेश के डीजी की रिपोर्ट तेल के इस काले धंधे से एक आईपीएस के गठजोड़ का आरोप लगा रही है। इस रिपोर्ट में अतुल कुमार ने कई बार लिखा है कि बीडी पालसन और पूर्व मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण के भांजे मनोज चौधरी को इस धंधे में सत्ता का संरक्षण मिला हुआ था।

    लेकिन खुद डीजी अतुल कुमार की रिपोर्ट ही पूर्व मंत्री और उनके भांजे को कठघरे में खड़ा कर रही है। एसएसपी बीडी पालसन के खिलाफ जांच के आदेश माया सरकार में डीजीपी रहे कर्मवीर सिंह ने दिया था। जांच रिपोर्ट में ये भी संस्तुति की गई थी कि बीडी पालसन को महत्वहीन पद पर रखा जाए। लेकिन फिलहाल पालसन वाराणसी के एसएसपी हैं। हैरानी की बात ये भी है कि अखिलेश सरकार के अधिकारी इस रिपोर्ट पर कुछ भी कहने के लिए तैयार नहीं हैं।

    आईबीएन7 ने इस जांच रिपोर्ट के बारे में जब वाराणसी के एसएसपी बीडी पालसन से बात करने की कोशिश की तो वो कैमरे पर आने के लिए तैयार नहीं हुए। फोन पर हुई बातचीत में उन्होंने कहा कि उनका कैरियर बेदाग है और उनपर लगाए गए आरोप झूठे हैं। उनका कहना था कि पिछली सरकार के कुछ अधिकारी उन्हें बिना वजह फंसाने की कोशिश कर रहे हैं।

    Tags: Akhilesh yadav, BJP, Oil mafia, उत्तर प्रदेश

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर