मुसलमानों ने डर और लालच में किया मोदी को वोट: कलराज

मुसलमानों ने डर और लालच में किया मोदी को वोट: कलराज
भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और उत्तर प्रदेश में पार्टी के वरिष्ठ नेता कलराज मिश्र ने कहा है कि गुजरात में मुसलमानों ने भी नरेंद्र मोदी को वोट दिया क्योंकि इसके पीछे उनका डर व लालच था।

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और उत्तर प्रदेश में पार्टी के वरिष्ठ नेता कलराज मिश्र ने कहा है कि गुजरात में मुसलमानों ने भी नरेंद्र मोदी को वोट दिया क्योंकि इसके पीछे उनका डर व लालच था।

  • Share this:
लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और उत्तर प्रदेश में पार्टी के वरिष्ठ नेता कलराज मिश्र ने कहा है कि गुजरात में मुसलमानों ने भी नरेंद्र मोदी को वोट दिया क्योंकि इसके पीछे उनका डर व लालच था। डर इस बात का कि वे मोदी के खिलाफ जाकर उनकी आंखों की किरकिरी नहीं बनना चाहते थे और लालच था विकास का।

कलराज मिश्र ने दिए एक साक्षात्कार में कहा कि मुसलमानों ने मोदी को ही वोट दिया क्योंकि उन्हें लगा कि मोदी की ही सरकार बननी है और सत्ता के साथ रहकर ही उनका भी विकास सम्भव है। दरअसल वे मोदी की आंखों की किरकिरी नहीं बनना चाहते थे।

मोदी की प्रधानमंत्री पद की दावेदारी के बारे में कलराज ने कहा कि गुजरात में मोदी का कोई विकल्प नहीं है। नरेंद्र मोदी राष्ट्रीय स्तर पर एक बड़े जन नेता हैं। उनकी स्वीकार्यता पूरे देश में बढ़ी है। समय आने पर उचित फोरम में यह तय किया जाएगा कि प्रधानमंत्री का दावेदार कौन होगा।



हिमाचल प्रदेश में बीजेपी को मिली हार के बारे में कलराज ने साफतौर पर स्वीकार किया कि वहां उम्मीदवारों का चयन सही तरीके से नहीं किया गया इसीलिए पार्टी को वहां हार मिली।
कलराज ने कहा कि हिमाचल में हार की कुछ वजहे हैं। हमने प्रचार के दौरान यह महसूस किया कि लोगों के मन में पूर्व मुख्यमंत्री प्रेमकुमार धूमल को लेकर एक साफ छवि है लेकिन उम्मीदवारों का चयन सही तरीके से नहीं किया गया। अगर उम्मीदवारों का चयन सही तरीके से होता तो परिस्थतियां कुछ और होतीं।

कलराज ने कहा कि उम्मीदवारों के गलत चयन के अलावा कुछ लोगों ने पार्टी से बगावत कर चुनाव लड़ा। जो पांच निर्दलीय विजयी हुए हैं, उनमें से तीन लोग हमारे ही लोग हैं। अगर इनको साथ लेकर चला जाता तो परिस्थति उलट सकती थी।

उत्तर प्रदेश में बीजेपी के गिरते जनाधार को लेकर कलराज काफी चिंतित भी दिखाई दिए। उन्होंने कहा कि पार्टी प्रदेश में तीसरे नंबर पर पहुंच गई है। विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी की रणनीतिक भूल की वजह से बीजेपी की ऐसी स्थिति हुई। अगर गलत लोगों को उस दौरान पार्टी में शामिल नहीं किया गया होता तो पार्टी की स्थिति मजबूत होती।

कलराज ने सवालिया लहजे में कहा कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी की स्थिति कभी अच्छी नहीं थी। राममंदिर आंदोलन के समय सारा हिंदू समाज एकजुट हुआ था। उस समय भी बीजेपी को महज लगभग 225 सीटें ही मिल पाई थीं। इस बार मुलायम सिंह यादव की पार्टी तो 227 तक पहुंचने में कामयाब हो गई जिसकी उन्होंने कभी कल्पना भी नहीं की थी।

कलराज की मानें तो आगामी लोकसभा चुनाव के दौरान पिछली गलतियों से पार्टी सबक लेगी। वह कहते हैं कि मैं फिर दोहराता हूं कि विधानसभा चुनाव से पहले जनता का मुलायम और मायावती से मोहभंग हो चुका था। बीजेपी विकल्प के सामने उभरी थी लेकिन अंतिम समय में रणनीतिक चूक से सारा मामला बिगड़ गया। भ्रष्ट लोगों को पार्टी में शामिल करने से लोगों की नजर में पार्टी की गलत छवि बनी। उन्हें लगा कि अरे ये भी भ्रष्ट लोगों के साथ ही हैं।

कलराज के मुताबिक लोकसभा चुनाव में इन तथाकथित भ्रष्ट लोगों से पार्टी को मुक्ति मिलेगी और नए जोश तथा उत्साह के साथ लोकसभा के मैदान में उतरेगी।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading