आदर्श घोटाला: महाराष्ट्र कैबिनेट की बैठक आज

आदर्श घोटाले की जांच रिपोर्ट खारिज करने वाली महाराष्ट्र कांग्रेस ने आज कैबिनेट की अहम बैठक बुलाई है। माना जा रहा है कि इस बैठक में अहम फैसला लिया जा सकता है।

  • News18India
  • Last Updated: January 2, 2014, 3:06 AM IST
  • Share this:
मुंबई। आदर्श घोटाले की जांच रिपोर्ट खारिज करने वाली महाराष्ट्र कांग्रेस ने आज कैबिनेट की अहम बैठक बुलाई है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी के एतराज को देखते हुए महाराष्ट्र सरकार सांसत में है। माना जा रहा है कि इस बैठक में अहम फैसला लिया जा सकता है। विपक्षी दल इस मुद्दे पर महाराष्ट्र विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग कर रहे हैं, वहीं सरकार की सहयोगी एनसीपी रिपोर्ट खारिज करने का ठीकरा मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण के सिर फोड़ रही है।

इससे पहले कल आदर्श जांच आयोग की रिपोर्ट खारिज होने के खिलाफ बीजेपी ने आक्रामक रुख अपना लिया। बीजेपी अब इस मामले को पुलिस थाने तक ले गई। बीजेपी के नेता किरीट सोमैया ने कई नेताओं और अधिकारियों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। मुंबई पुलिस अगले हफ्ते तय करेगी कि कांग्रेस के नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा या नहीं।

आदर्श घोटाले के भंवर से कांग्रेस का पीछा छूट ही नहीं रहा है। एक तरफ सोनिया- राहुल का दबाव, सहयोगी एनसीपी के तेवर तो दूसरी तरफ बीजेपी की मुहिम। अब बीजेपी ने आदर्श जांच रिपोर्ट में आरोपी ठहराए गए सभी नेताओं और अधिकारियों के खिलाफ मुंबई के मरीन ड्राइव पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई है। बीजेपी नेता किरीट सोमैय्या ने आदर्श कमीशन की जांच रिपोर्ट समेत करीब पांच हजार पन्नों के अलग अलग दस्तावेज पुलिस को सौंपे हैं।



बीजेपी का दावा है कि इन दस्तावेजों में आदर्श घोटाले में शामिल लोगों के खिलाफ पर्याप्त सबूत है। अपनी शिकायत में बीजेपी ने महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री सुशील कुमार शिंदे, अशोक चव्हाण, शिवाजीराव निलंगेकर पाटील समेत दो दर्जन अधिकारियों पर प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्स के तहत मामला दर्ज करने की है।



बीजेपी नेता किरीट सोमैय्या का कहना है कि कांग्रेस अपने नेताओं को बचाने की कोशिश कर रही है। सीबीआई को कारवाई करने नहीं दे रहीं हैं इसलिए हमने पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई हैं।

सीबीआई ने अपनी जांच पूरी करने के बाद पुर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण के खिलाफ मुकदमा चलाने की इजाजत राज्यपाल से मांगी थी। लेकिन राज्यपाल ने सीबाआई को अशोक चव्हाण के खिलाफ मुकदमा चलाने की इजाजत नहीं दी थी। इसके बाद जांच आयोग ने भी अपनी रिपोर्ट में महाराष्ट्र के 4 पूर्व मुख्यमंत्रियों समेत कई अधिकारियों का इस घोटाले में हाथ माना। लेकिन महाराष्ट्र सरकार ने इस रिपोर्ट को खारिज कर दिया था।

कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत का कहना है कि किरीट सौमैय्या को उनकी पार्टी ने डर्टी पॉलिटिक्स करने की जिम्मेदारी सौंपी हैं। वह किरीट नहीं बल्कि कुटील सौमैय्या हैं। अगर बीजेपी इतनी ही ईमानदार हैं तो वह पहले गडकरी पर मामला दर्ज करवाएं।

गौरतलब है कि आदर्श घोटाले का पर्दाफाश सबसे पहले आईबीएन7 ने ही किया था। आईबीएन7 के खुलासे के बाद ही महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री अशोक च्वहाण को इस्तीफा देना पड़ा था। मुंबई में आदर्श नाम की इस सोसाइटी के लिए जमीन का आवंटन करगिल शहीदों के परिवार को फ्लैट दिए जाने के नाम पर हुआ था। आरोप है कि इसकी आड़ में कई नेताओं, अधिकारियों और आम लोगों ने आदर्श में फ्लैट हासिल किए।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading