भुल्लर को माफी, सिख दंगों पर SIT: केजरीवाल

News18India.com
Updated: January 29, 2014, 6:23 AM IST
भुल्लर को माफी, सिख दंगों पर SIT: केजरीवाल
एक तरफ तो केजरीवाल ने आतंकी देवेंद्र सिंह भुल्लर को माफी देने की अपील की है, वहीं 1984 के सिख दंगों पर एसआईटी के गठन की मांग की है।
News18India.com
Updated: January 29, 2014, 6:23 AM IST
नई दिल्ली। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने तेजी से सियासी चाल चलनी शुरू कर दी है। एक तरफ तो केजरीवाल ने आतंकी देवेंद्र सिंह भुल्लर को माफी देने की अपील की है, वहीं 1984 के सिख दंगों पर एसआईटी के गठन की मांग की है।

एक निजी चैनल पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के इंटरव्यू के बाद दिल्ली में सिख दंगों की जांच पर सियासत एक बार फिर तेज हो गई है। इसी को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल उप राज्यपाल नजीब जंग से मुलाकात की।

इस मुलाकात में केजरीवाल ने 1984 के सिख दंगों की जांच का मामला उठाया। केजरीवाल ने उप राज्यपाल से दंगों की जांच के लिए एसआईटी बनाने की मांग रखी। वहीं, आप सदस्य और 1984 पीड़ितों के वकील एच एस फुल्का ने कहा कि सिख दंगों पर एसआईटी आज तक बनी नहीं है। इससे केस में तेजी आएगी। पहली बार एसआईटी बनाने की मांग की गई है।

भुल्लर को माफी के लिए खत

इसके साथ ही अरविंद केजरीवाल ने फांसी की सजा पाए देवेंद्र सिंह भुल्लर की सजा माफी को लेकर राष्ट्रपति को खत लिखा है। केजरीवाल ने कुछ दिन पहले ही भुल्लर की सजा माफी की फाइल राष्ट्रपति को भेजी थी। वहीं भुल्लर को माफी देने की मांग के सवाल पर पूर्व सीएम शीला दीक्षित ने कहा कि ये उनकी सरकार है, वो ऐसा चाहते हैं तो ठीक है। बता दें कि भुल्लर 1993 बम धमाके का दोषी है और उसे फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है।


केजरीवाल ने अपने चुनावी घोषणापत्र में सिख दंगों की एसआईटी से जांच कराने का वादा भी किया था। विधानसभा चुनाव में आप को पंजाबी बहुल क्षेत्रों में खासी सफलता भी मिली। विधानसभा अध्यक्ष का पद भी सिख विधायक को ही दिया गया।

राहुल के इंटरव्यू के बाद राजनीतिक गलियारों में सिख दंगों की जांच पर नए सिरे से सवाल उठने शुरू हो गए हैं। राहुल ने गुजरात दंगों के लिए तो नरेंद्र मोदी को दोषी ठहराया, लेकिन सिख दंगों पर सफाई ही देते रहे। उधर, मौके की नजाकत देख सीएम अरविंद केजरीवाल ने नजीब जंग से मुलाकात कर सिख दंगों की एसआईटी से जांच कराने की मांग कर दी।

आप से जुड़ी सभी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें



First published: January 29, 2014
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर