लाइव टीवी

विजय बहुगुणा की छुट्टी तय, हरीश रावत रेस में

News18India
Updated: March 1, 2015, 10:55 AM IST

पार्टी की शक्ल-ओ-सूरत चमकाने और सूबे में ज्यादा सीट पाने में आलाकमान को विजय बहुगुणा की कुर्सी बाधक नजर आ रही है। विजय बहुगुणा का मुख्यमंत्री पद जाना तय है।

  • News18India
  • Last Updated: March 1, 2015, 10:55 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली। निशाने पर 2014 आम चुनाव हैं और गाज गिरने वाली है उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पर। पार्टी की शक्ल-ओ-सूरत चमकाने और सूबे में ज्यादा सीट पाने में आलाकमान को विजय बहुगुणा की कुर्सी बाधक नजर आ रही है। विजय बहुगुणा का मुख्यमंत्री पद जाना तय है।

उत्तराखंड में आई भीषण बाढ़ के वक्त बहुगुणा के नेतृत्व की बहुत छीछालेदर हुई। कार्यकर्ताओं की अनदेखी कर मुख्यमंत्री की कुर्सी पर उन्हें बिठाने का आरोप आलाकमान पर पहले ही लग चुका था। तब से लेकर अब तक पार्टी के भीतर जारी मतभेद जारी हैं। हाल ये रहा कि पिता के मुख्यमंत्री रहते बेटे साकेत बहुगुणा लोकसभा का उपचुनाव हार गए।

ऐसे माहौल में जब प्रदेश कांग्रेस के सह प्रभारी संजय कपूर राज्यपाल से मिलने पहुंचे तो बहुगुणा के पत्ता साफ होने की खबर ने जोर पकड़ लिया। हालांकि उन्होंने कुछ न बोल कर भी बहुत कुछ कह दिया। संजय कपूर ने कहा कि अभी कोई आखिरी फैसला नहीं हुआ है। अभी दिल्ली से भी कोई फैसला नहीं हुआ है। अभी मंथन चल रहा है। राज्यपाल से बस औपचारिक मुलाक़ात हुई है।

बहुगुणा पर मुख्यमंत्री के रूप में खराब कामकाज, भ्रष्टाचार का आरोप है। इसके अलावा अपने विधानसभा क्षेत्र में बढ़ती अलोकप्रियता भी उनकी विदाई की वजह बनी है। जमीनी हकीकत जानने के लिए पार्टी ने देहरादून केंद्रीय पर्यवेक्षक भेजने का फैसला किया है। जनार्दन द्विवेदी, गुलाम नबी आजाद और अंबिका सोनी में से किसी एक को पर्यवेक्षक के रूप में उत्तराखंड भेजा जा सकता है। सूत्रों की मानें तो वहां से मिली रिपोर्ट के आधार पर एक फरवरी तक कांग्रेस आलाकमान अपना फैसला सुना सकती है।



सूत्रों की मानें तो मुख्यमंत्री की दौड़ में हरीश रावत और प्रीतम सिंह बने हुए हैं। साथ ही कांग्रेस का एक धड़ा इंदिरा हृदयेश के साथ है। कांग्रेस के सूत्रों का तो यहां तक दावा है कि आलाकमान ने बहुगुणा की जगह नए सीएम का नाम तय कर लिया है। उस नाम पर विधायकों की राय जानने की खानापूर्ति बची है।



News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पॉलिटिक्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 31, 2014, 3:18 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर