लाइव टीवी

टोल पर राज'नीति', हंगामा, हिरासत फिर रिहाई

News18India
Updated: March 1, 2015, 11:37 AM IST

महाराष्ट्र में टोल पर टकराव की राजनीति को आगे बढ़ाते हुए बुधवार को एमएनएस कार्यकर्ताओं ने राज्य के तमाम हाईवे जाम कर दिए।

  • News18India
  • Last Updated: March 1, 2015, 11:37 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली। महाराष्ट्र में टोल पर टकराव की राजनीति को आगे बढ़ाते हुए बुधवार को एमएनएस कार्यकर्ताओं ने राज्य के तमाम हाईवे जाम कर दिए। मुंबई में एमएनएस सुप्रीमो राज ठाकरे भी सड़क पर उतरे, लेकिन कानून-व्यवस्था का हवाला देते हुए पुलिस ने उन्हें कुछ देर के लिए हिरासत में ले लिया। बाद में मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण के साथ बातचीत की पेशकश को मंजूर करते हुए उन्होंने एक दिन के लिए आंदोलन स्थगित करने का ऐलान किया।

बुधवार सुबह से ही मुंबई में राज ठाकरे के घर के बाहर एमएनएस कार्यकर्ताओं का जमावड़ा शुरू हो गया था। टोल के मुद्दे पर रास्ता रोको आंदोलन की शुरुआत दहिसर टोल प्लाजा से हुई। एमएनएस कार्यकर्ताओं ने ईस्टर्न और वेस्टर्न हाइवे को पूरी तरह बंद करा दिया। मुंबई से शुरू हुआ रास्ता रोको आंदोलन कुछ ही वक्त में पूरे राज्य में फैल गया।

पुणे, नासिक, औरंगाबाद, नागपुर, ठाणे, नवी मुंबई जैसे कई बड़े शहरों में जगह-जगह एमएनएस कार्यकर्ताओं ने चक्का जाम कर दिया। सुबह 10 बजे राज ठाकरे पूरे दलबदल के साथ वाशी टोल नाका पर रास्ता रोकने के लिए निकले। उनके परिवार के लोग भी साथ थे लेकिन जैसे ही राज ठाकरे की गाड़ी चेंबूर हाइवे पर पहुंची, पुलिस ने आगे बढ़ने से रोक दिया। राज ठाकरे को हिरासत में देखकर कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया। पुलिस किसी तरह राज ठाकरे को थाने लेकर पहुंची। डेढ़ घंटे बाद बॉम्बे पुलिस एक्ट के तहत राज को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया। कहा गया कि अगली बार कोई भी ऐसा आंदोलन न करें जिससे मुंबई की आम जनता के तकलीफ हो।

उधर राज ठाकरे के हिरासत में रहने के बीच कार्यकर्ताओं ने जगह-जगह हंगामा किया। राज की पत्नी शर्मिला ठाकरे भी पुलिस थाने के बाहर धरने पर बैठ गईं। कई जगहों पर गाड़ियों पर पथराव किया गया। जनता को काफी तकलीफ का सामना करना पड़ा। राज ठाकरे ने समर्थकों से शांत रहने की अपील की।

थाने पर मौजूद राज ठाकरे के पास महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण का फोन आया। उन्होंने आंदोलन वापस लेने की बात कहते हुए गुरुवार को टोल के मसले पर राज ठाकरे के साथ बैठक की की पेशकश की। सीएम के आश्वासन के बाद राज ठाकरे ने अपना आंदोलन तो वापस ले लिया लेकिन कहा कि गुरुवार को सीएम के साथ होने वाली मुलाकात में अगर टोल के मसले का हल नहीं निकला तो वो अपना आंदोलन और उग्र कर देंगे।

आंदोलन खत्म होने के बाद महाराष्ट्र के सभी हाईवे पर यातायात सामान्य हो गया। लेकिन अब सबकी नजर गुरुवार को मुख्यमंत्री और राज ठाकरे की मुलाकात पर है। चुनावी माहौल को देखते हुए साफ है कि रास्ता नहीं निकलने पर एमएनएस दोबारा रास्ता रोकने निकल पड़ेगी।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पॉलिटिक्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2014, 5:49 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...