लाइव टीवी

...तो राज ठाकरे की संपत्ति जब्त करेगी सरकार

News18India
Updated: February 17, 2014, 10:41 AM IST

राज्य सरकार ने तोड़फोड़ का जुर्माना अदा ना करने पर उनकी संपत्ति जब्त करने की चेतावनी दी है। सरकार ने यहां तक कह दिया है कि वो जुर्माना वसूलना जानती है।

  • News18India
  • Last Updated: February 17, 2014, 10:41 AM IST
  • Share this:
मुंबई। महाराष्ट्र में टोल नाकों पर हुई तोड़फोड़ को लेकर एमएनएस सुप्रीमो राज ठाकरे की परेशानियां बढ़ सकती हैं। राज्य सरकार ने तोड़फोड़ का जुर्माना अदा ना करने पर उनकी संपत्ति जब्त करने की चेतावनी दी है। सरकार ने यहां तक कह दिया है कि वो जुर्माना वसूलना जानती है।

गौरतलब है कि राज ठाकरे के निर्देश पर एमएनएस के कार्यकर्ताओं ने राज्य भर के कई टोल नाकों पर जमकर तोड़फोड़ की थी। 12 फरवरी को रास्ता रोको आंदोलन के दौरान राज्य के कई राजमार्गों पर हंगामा किया गया। बाद में मुंबई कलेक्टर ने एमएनएस को करीब 4 लाख रुपये का जुर्माना भरने का नोटिस भेजा। वहीं पुणे के खेड-शिवपूर टोल नाके पर हुई तोड़फोड़ के सिलसिले में करीब 12 लाख रुपये जुर्माना भरने का नोटिस दिया गया। लेकिन एमएनएस ने कोई जुर्माना नहीं भरा। राज ठाकरे ने चुनौती दी कि सरकार चाहे तो गिरफ्तार कर ले।

राज ठाकरे ने कहा कि टोल के खिलाफ हमारा आंदोलन जारी रहेगा। न मैं टोल भरूंगा, न कोई दूसरा टोल भरे। जब तक टोल में सारी गड़बड़ियां दूर नहीं होंगी हम टोल नहीं भरेंगे। सरकार में हिम्मत हो तो हमें गिरफ्तार करके दिखाएं।

महाराष्ट्र के गृहमंत्री आर आर पाटील ने साफ कर दिया है कि सरकार नोटिस के जवाब का अगले कुछ दिन तक इंतजार करेगी। उसके बाद कार्रवाई होगी। सरकार एमएनएस के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत का भी मन बना रही है। सरकार ने ये भी कहा है कि जुर्माना वसूली के लिए राज ठाकरे की संपत्ति जब्त की जा सकती है। पाटील ने कहा कि जुर्माना तो कोई भी भरना नहीं चाहता है लेकिन हमें मालूम है कि इनसे कैसे जुर्माना वसूला जाता है।

अब तक राज ठाकरे के खिलाफ कार्रवाई करने से बचती आ रही सरकार के अचानक बदले इस रुख के कई मायने हैं। शायद ऐसा करके राज ठाकरे के खिलाफ नरम रुख के आरोप को नकारना चाहती है। एक कयास ये भी है कि टकराव का रास्ता अख्तियार करने से राज का कद बढ़ेगा और वे शिवेसना के वोट में सेंध लगाकर कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन को फायदा पहुंचा पाएंगे।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पॉलिटिक्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 17, 2014, 10:41 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर