लाइव टीवी

खतरे में सीएम पृथ्वीराज चव्हाण की कुर्सी!


Updated: June 12, 2014, 4:04 PM IST

पूर्व गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे समेत कई कांग्रेस नेताओं का नाम नए मुख्यमंत्री बतौर चर्चा में है। गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को महाराष्ट्र में बुरी हार का सामना करना पड़ा है।

  • Last Updated: June 12, 2014, 4:04 PM IST
  • Share this:
मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण की कुर्सी ख़तरे में नजर आ रही है। यहां अक्टूबर में विधानसभा चुनाव होने हैं और कांग्रेस में ये चर्चा जोरों पर है कि मौजूदा मुख्यमंत्री के रहते पार्टी को खास कामयाबी हासिल नहीं हो सकती। ऐसे में पूर्व गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे समेत कई कांग्रेस नेताओं का नाम नए मुख्यमंत्री बतौर चर्चा में है। गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को महाराष्ट्र में बुरी हार का सामना करना पड़ा है।

महाराष्ट्र में लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद अब कांग्रेस को विधानसभा चुनाव में हार का डर सता रहा है। सूत्रों की मानें तो कांग्रेस आलाकमान विधानसभा चुनाव से पहले पृथ्वीराज चव्हाण की जगह किसी और को मुख्यमंत्री बनाने पर विचार कर रहा है।
नए मुख्यमंत्री बतौर महाराष्ट्र की कमान संभाल चुके पूर्व केंद्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदा का नाम चर्चा में है। इसके अलावा महाराष्ट्र के कृषिमंत्री राधाकृष्ण विखे पाटील, संसदीय कार्यमंत्री हर्षवर्धन पाटिल और राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात का नाम भी चर्चा में है।
दरअसल, लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद ना सिर्फ कांग्रेस बल्कि एनसीपी नेताओं ने भी कांग्रेस आलाकमान से पृथ्वीराज चव्हाण की शिकायत की थी । हांलाकि कोई भी नेता नेतृत्व परिवर्तन को लेकर खुलकर कुछ नहीं बोल रहा है। महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष माणिकराव ठाकरे ने कहा कि नेतृत्व बदलाव को लेकर आलाकमान फ़ैसला करेगा। खबरें बेबुनियाद हैं।



लेकिन इस सुगबुगाहट ने बीजेपी को चुटकी लेने का मौका दे दिया है। बीजेपी नेता राजीव प्रताप रूडी ने कहा कि पृथ्वीराज चव्हाण पररमोदी जी आने से जहां भी गैर बीजेपी सरकार हैं हलचल मची हुई है। देखिए आगे क्या क्या होता है।
आदर्श घोटाले मे नाम आने के बाद अशोक चव्हाण की जगह पृथ्वीराज चव्हाण को मुख्यमंत्री बनाया गया था। लेकिन कहा जा रहा है कि वे बतौर प्रशासक अपनी छाप छोड़ने में नाकाम रहे।



बतौर मुख्यमंत्री के अपने तीन साल से ज़्यादा के कार्यकाल में भलेही सीएम चव्हाण ने अपनी छवी पर कोई दाग नहीं लगने दिया लेकिन जनहित से जुड़े काम पर फ़ैसला लेने में देरी और सहयोगी दल एनसीपी से समन्वय बनाने में चव्हाण पूरी तरह से नाकाम रहे। मुख्यमंत्री पद से हटाये जाने की इन चर्चाओं ने सी एम चव्हाण के लिये ख़तरे की घंटी जरुर बजा दी है। लेकिन चूंकि चुनाव सिर पर हैं ऐसे में क्या चव्हाण को मुख्यमंत्री पद से हटाने का जोखिम पर कांग्रेस उठाएगी, ये देखना अहम होगा।


First published: June 12, 2014, 4:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading