Home /News /politics /

यहां ‘मोदी’, ‘केजरीवाल’,सब बिकते हैं, खरीदोगे..!

यहां ‘मोदी’, ‘केजरीवाल’,सब बिकते हैं, खरीदोगे..!

राहुल गांधी, अरविंद केजरीवाल, नरेंद्र मोदी, अजय माकन, मायावती( जी हां, मायावती जी भी), नीतीश, उद्धव, चौटाला जैसे राजनीति के रतन पैरों तले रौंदे जा रहे थे।

राहुल गांधी, अरविंद केजरीवाल, नरेंद्र मोदी, अजय माकन, मायावती( जी हां, मायावती जी भी), नीतीश, उद्धव, चौटाला जैसे राजनीति के रतन पैरों तले रौंदे जा रहे थे।

राहुल गांधी, अरविंद केजरीवाल, नरेंद्र मोदी, अजय माकन, मायावती( जी हां, मायावती जी भी), नीतीश, उद्धव, चौटाला जैसे राजनीति के रतन पैरों तले रौंदे जा रहे थे।

    इलेक्शन स्पेशल
    श्रवण शुक्ल, प्रियंका (दिल्ली के व्यस्ततम थोक बाजारों में से एक सदर बाजार से)
    नई दिल्ली।
    राहुल गांधी, अरविंद केजरीवाल, नरेंद्र मोदी, अजय माकन, मायावती( जी हां, मायावती जी भी), नीतीश, उद्धव, चौटाला जैसे राजनीति के रतन पैरों तले रौंदे जा रहे थे। लोग उनके ऊपर बैठ रहे थे, सप्रयास नाक में दम किए थे। अरविंद केजरीवाल किसी टोपी से आम आदमी बनकर सटे हुए पड़े थे, तो कहीं यहां वहां पड़े हैं। ऐसा ही कुछ हाल राहुल गांधी का भी था। और हमारे पीएम नरेंद्र मोदी जी के तो कहने ही क्या ? किसी की जेब में, किसी के सर पर, तो किसी के माथे पर। और तो और, जनाब कलाई तक पर बंधे पड़े थे। ऐसा लग रहा था, जैसे सामने वाला बस उन्हें खुद से लगाकर रखना चाहता हो। ये तो महज झांकी थी, उस नजारे की। जहां नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी, अरविंद केजरीवाल की कीमत दो रुपयों से लेकर 200 रुपयों तक है। अगर आप अब भी नहीं समझे तो हम आपको रूबरू कराते हैं, अनिल भाई राखी वाले, और मुस्कान झंडे वाले से।

    दरअसल, राखी और झंडे के नाम पर बनी ये दुकाने सदर बाजार में प्रचार सामग्री की थोकमूल्य की दुकाने हैं। जहां हर उस समय हलचल रहती है, जब देश के किसी भी कोने में चुनावी आहट हो। यहां से सभी पार्टियों के लिए प्रचार सामग्री थोक के भाव बेचे जाते हैं। हो सकता है कि आपके इलाके का स्थानीय नेता जो प्रचार सामग्री बंटवा रहा हो, वो इन दोनों या फिर गफ्फार भाई की दुकान से ही गई हो। यहां यूं तो काफी लोग मौजूद थे, लेकिन हमारी निगाहें ढ़ूंढ रही थी, उन कोनों को। जहां प्रचार के लिए नए नए सामान आए हों।

    यूं तो प्रचार हर पार्टी करती है और हर प्रत्याशी के प्रचार करने की एक सीमा होती है। लेकिन अनिल भाई की दुकान न सिर्फ अमीर प्रत्याशी को प्रचार सामग्री देती है, बल्कि कम खर्च कर रहे लोगों को भी काफी तरह की प्रचार सामग्री देती हैं। यहां बैच, टोपियां, झंडे, टी-शर्ट, मग-प्रिंटिंग, गरम कपड़ों की कानपट्टी, ऊनी मफलर से लेकर चीन निर्मित प्रचार सामग्री भी मिल जाएगी। जिनके दाम 2 रुपए से लेकर 200 रुपयों तक हैं।

    यहां नरेंद्र मोदी की तस्वीरों वाली कॉफी मग भी मिली, तो सोनिया गांधी की तस्वीरों वाली कॉफी मग भी। हमनें तस्वीर भी खीचीं। दोनों को साथ रख के। कोशिश भी की, कि दोनों की तस्वीरें एकसाथ लूं। लेकिन एकसाथ दोनों मग भी खड़े होने को तैयार न थे। इसीलिए दोनों की तस्वीरें फिरे मुंह के साथ ही ली। राजनीति में यूं तो कोई स्थाई दोस्त-दुश्मन नहीं होता, लेकिन ये तस्वीर कुछ सोचने पर जरूर विवश कर देती है।

    इसके आगे पूछने पर सर्दी के मौसम में कार्यकर्ताओं का ख्याल रखने वाले प्रचार सामग्रियों के बारे में भी पता चला। यहां कानों के ऊपर चिपकाकर स्टाइल मारने वाली फैंसी पट्टी भी मिली। जिसपर कहीं राहुल गांधी की तस्वीर थी, तो कहीं नरेंद्र मोदी की। इन पट्टियों को देखकर ऐसा लगा, मानों ये पट्टियां कह रही हों, कि ‘मेरे सिवा किसी और की तुम न सुनना’। इन पट्टियों के अलावा सर्दी के मौसम से बचाव के लिए गरम मफलर थे। ये मफलर कोई आम मफलर नहीं, बल्कि ऊनी मफलर हैं, जिनपर राजनीतिक दिग्गजों की तस्वीरें हैं। मानों ये कहने के लिए, कि चुनाव में मेरा साथ दो, मैं तुम्हारी ठंड से रक्षा करूंगा। ऐसी पट्टियों के दाम 7 से 12 रुपयों तक है, तो मफलर भी 35 से लेकर 48 तक की रेंज में है।

    खैर, यहां हमने चीनी प्रचार सामग्रियों का जोर भी देखा। ये प्रचार सामग्रियां दाम में भी सस्ती होती हैं, वो भी बिना किसी गारंटी के। लेकिन बेहतर फिनिशिंग लिए हुए चीनी प्रोडक्ट्स भारतीय प्रोडक्ट्स पर भारी पड़ रहे थे। यहां चीन निर्मित ऐसा पेन भी दिखा, जो प्रोजेक्टर का काम करता। इस प्रोजेक्टर को ऑन कर किसी बड़े से दीवार पर अपने पसंदीदा राजनेता की तस्वीर भी देख सकते हैं। ये प्रोजेक्टर कम पेन महज 45-60 रुपयों के रेंज में मौजूद हैं।

    कार रिफ्रेशनर से भी प्रचार/ बाजी- पीएम मोदी के हाथ
    जी हां। सही पढ़ा आपने। पीएम नरेंद्र मोदी के नाम और ब्रांड से कार रिफ्रेशनर भी अनिल भाई के यहां है। ऐसे रिफ्रेशनर किसी भी गाड़ी में लगा दें, और वो गाड़ी जब भी चले, तो चलाने वाला मोदी-मोदी का जाप करे।

    यहां तमाम तरह की प्रचार सामग्रियों का ढ़ेर लगा पड़ा रहा। अनिल भाई की के शोरूम पर राजनीतिक ग्राहकों की भीड़ रहती है। कोई खरीददार लोगों के बीच ही मोदी का मुखौटा लगाकर आजमा रहा है, तो कोई बीएसपी समर्थक हाथीछाप गांधीटोपी की मांग कर रहा होता है। इन सबके बीच नेताओं की तस्वीरों वाली प्रचार सामग्रियों का मोल भाव होता रहता है। ऐसे ही एक मजेदार लाइन हमारी कानों में उस समय पड़े, जब एक खुदरा व्यापारी अनिल भाई के यहां आया। इस दौरान सेल्समैन और उस व्यापारी के बीच से कुछ ऐसी आवाजें आई, जो चेहरे पर मुस्कान ही ला दे। जी हां!

    Tags: AAP, Arvind kejriwal, BJP, Narendra modi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर