केजरीवाल पर अब आशुतोष ने किया नया खुलासा

आम आदमी पार्टी का झगड़ा खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। अब आम आदमी पार्टी के नेता आशुतोष ने कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं।

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली। अलग तरह की सियासत करने का दावा करने वाली आम आदमी पाटच् में भीतर ही भीतर क्या चल रहा था और क्या चल रहा है ये धीरे-धीरे सामने आ रहा है। चिट्ठियां, धमकियां और लालच। योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण को पार्टी की सबसे ताकतवर राजनीतिक मामलों की कमेटी से निकाले जाने के बाद से घमासान जारी है। पार्टी के वरिष्ठ नेता आशुतोश ने रविवार को कहा कि लोकसभा चुनाव के बाद अरविंद केजरीवाल पर भारी दबाव बना दिया गया था। यहां तक कि चुनाव के बाद हुई राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अरविंद रोने लगे थे।

योगेंद्र यादव ने चिट्ठी लिखी जिसमें अरविंद पर हमला किया गया था। केजरीवाल ने उस राष्ट्रीय कार्यकारिणी की मीटिंग में कहा कि मैं योगेंद्र या प्रशांत से नहीं लड़ सकता। ये हम लोगों के लिए काफी हैरान कर देना वाला मामला था। शांति भूषण जी ने एक चिट्ठी लिखी थी जिसमे उन्होंने कहा था कि योगेंद्र को संयोजक बना दिया जाए, नहीं तो मैं पीसी करके तुम्हें नंगा कर दूंगा। अरविंद केजरीवाल ने रोने के बाद अपने परिवार से बात करके राजनीति छोड़ने का फैसला कर लिया था।

आशुतोष की मानें तो बाद में प्रशांत और योगेंद्र यादव ने अरविंद केजरीवाल के घर जाकर उनसे बातचीत की थी। दिल्ली के चुनावों में अरविंद केजरीवाल को फ्री-हैंड देने का फैसला किया गया था। लगा कि सब कुछ अब ठीक होता जा रहा है लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पार्टी के एक और वरिष्ठ नेता संजय सिंह के मुताबिक दिल्ली चुनाव के दौरान पार्टी के कुछ साथी पार्टी को ही हराने की साजिश में जुटे थे।



आपन नेता संजय सिंह ने कहा कि जब बातें इस स्तर पर की जाएं कि अगर आम आदमी पार्टी चुनाव हार जाय तो अच्छा है। यह तो लाखों कार्यकर्ताओं की मेहनत पर पानी फेरने जैसा है। जब हम सब सोच रहे थे कि किस तरह मोदी और भाजपा का रथ रोका जाय। ऐसे समय में जब पार्टी कार्यकर्ता अपना सबकुछ झोंक रहे थे तो पार्टी के वरिस्ठ नेता पार्टी को हराने में जुटे थे।



पार्टी के दो वरिष्ठ आशुतोष और संजय सिंह भले ही गंभीर आरोप लगा रहे हों, लेकिन दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और पार्टी के एक और वरिष्ठ नेता मनीष सिसोदिया का कहना है कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में फैसला लिया गया था कि इस बारे में कोई चर्चा नहीं की जाएगी। हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि सच सामने आ ही जाता है।

वहीं, पार्टी के नेता योगेंद्र यादव ने अपने साथियों के इन आरोपों पर तो जवाब नहीं दिया, लेकिन सोशल मीडिया साइट ट्विटर के जरिए जरूर कहा,
हम यहां भ्रष्टाचार से लड़ने आए हैं, एक दूसरे से लड़ने के लिए नहीं। हमें एक दूसरे पर सार्वजनिक रूप से आरोप प्रत्यारोप की जगह असली मुद्दों पर ध्यान लगाना चाहिए।

आम आदमी पार्टी के नेताओं की ये बड़ी-बड़ी बातें अब हवा में ही हो रही हैं। नेताओं के बीच ये घमासान देखकर बड़े पैमाने पर कार्यकर्ताओं में नाराजगी है। जाहिर है आने वाले दिन पार्टी के लिए और परेशानी भरे हो सकते हैं।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading