• Home
  • »
  • News
  • »
  • politics
  • »
  • अन्नाद्रमुक सांसदों की चुनाव आयोग से मांग, रद्द किए जाएं शशिकला के सभी फैसले

अन्नाद्रमुक सांसदों की चुनाव आयोग से मांग, रद्द किए जाएं शशिकला के सभी फैसले

वी.के शशि‍कला को जयललिता के निधन के बाद पार्टी महासचिव चुनने की प्रक्रिया को चुनौती देते हुए एआईएडीएमके के दूसरे धड़े ने चुनाव आयोग में शि‍कायत की है.

वी.के शशि‍कला को जयललिता के निधन के बाद पार्टी महासचिव चुनने की प्रक्रिया को चुनौती देते हुए एआईएडीएमके के दूसरे धड़े ने चुनाव आयोग में शि‍कायत की है.

वी.के शशि‍कला को जयललिता के निधन के बाद पार्टी महासचिव चुनने की प्रक्रिया को चुनौती देते हुए एआईएडीएमके के दूसरे धड़े ने चुनाव आयोग में शि‍कायत की है.

  • Share this:
    अनुराग ढांडा

    वी.के शशि‍कला को जयललिता के निधन के बाद पार्टी महासचिव चुनने की प्रक्रिया को चुनौती देते हुए एआईएडीएमके के दूसरे धड़े ने चुनाव आयोग में शि‍कायत की है. शशि‍कला के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर एआईएडीएमके के कुछ सांसदों और नेताओं के प्रतिनिधि‍मंडल की चुनाव आयोग से गुरुवार को मुलाकात की.

    डॉ. वी मैत्रेयन की अगुआई में 12 सांसदों सहित 19 नेता चुनाव आयोग की मीटिंग में पहुंचे. इस दौरान मैत्रेयन और साथी सांसदों ने अपना ज्ञापन दिया, हालांकि बाहर निकलने पर वे इस बारे में मीडिया से बात करने को राजी नहीं हुए.

    इसके पहले चुनाव आयोग ने पार्टी को चिट्ठी भेजकर चयन प्रक्रिया और पार्टी संविधान का पूरा ब्योरा मांगा था. सूत्रों के मुताबिक मैत्रेयन ने शशिकला की नियुक्ति को पार्टी संविधान के खिलाफ बताया है. शशिकला द्वारा टीडीवी दिनाकरन की डिप्टी सेक्रेट्री जनरल की नियुक्ति को भी पार्टी संविधान के खिलाफ बताया गया है.

    सांसदों ने मांग की है कि असंवैधानिक तौर पर महासचिव बनीं शशिकला के तमाम फैसले, बर्खास्तगी और नियुक्तियां रद्द किए जाएं. सूत्रों के मुताबिक याचिकाकर्ताओं ने एआईएडीएमके का चिह्न 'दो पत्ती'  भी विवाद सुलझने तक फ्रीज किए जाने की भी मांग की. आयोग ने दूसरे पक्ष की दलील सुनने की बात कह कर फिलहाल इस पर कोई आश्वासन नहीं दिया.

    उल्लेखनीय है कि जयललिता के निधन के बाद पन्नीरसेल्वम को मुख्यमंत्री बनाया गया था, लेकिन पिछले दिनों उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया. अब उन्होंने आरोप लगाया है कि शशिकला के मुख्यमंत्री बनने का रास्ता साफ करने के लिए उन्हें इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया गया था. पिछले दिनों उन्होंने पार्टी महासचिव शशिकला के खिलाफ बगावत कर दी.

    इसके बाद कई विधायक, सांसद, पार्टी के पुराने कार्यकर्ता, पूर्व विधायक और अन्य लोगों ने पन्नीरसेल्वम का समर्थन किया. सत्ताधारी एआईएडीएमके दो गुटों में बंट चुकी है, जिसमें एक का नेतृत्व शशिकला तो दूसरे का नेतृत्व पन्नीरसेल्वम कर रहे हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज