टैंकर घोटाले में बारे में जानिए 10 बातें

टैंकर घोटाले में बारे में जानिए 10 बातें
फाइल फोटो

टैंकर घोटाले से जुड़ी हुईं कुछ खास बातें.

  • Share this:
दिल्ली का टैंकर घोटाला कोई नया नहीं है. 2012 में टैंकर घोटाला उस वक्त सामने आया था जब कांग्रेस की शीला दीक्षित दिल्ली की सीएम और जल बोर्ड की अध्यक्ष थीं. लेकिन सरकार बदलने के साथ ही टैंकर का जिन्न नई सरकार के साथ लग गया. इसी घोटाले के आरोपों को लेकर सीएम अरविन्द केजरीवाल निशाने पर आ गए हैं.

दिल्ली जल बोर्ड ने पानी की सप्लाई के लिए स्टील के 385 टैंकर किराए पर लिए थे. आरोप है कि किराए के टैंकरों में 400 करोड़ का घोटाला हुआ है.

देखें टैंकर घोटाले से जुड़ी हुईं कुछ खास बातें:

  1. आरोपों के अनुसार टैंकर घोटाले में प्राइवेट पानी टैंकरों को किराए पर लेकर पानी वितरण में गड़बड़ी हुई थी, जो दिल्ली जल बोर्ड के पाइप लाइन नेटवर्क के दायरे से बाहर का मामला था.



  2. आरोप सामने आते ही मई, वर्ष 2015 में आप सरकार ने कपिल मिश्रा की अध्यक्षता में समिति बनाकर जांच के आदेश दिए.

  3. अगस्त 2015 में समिति ने रिपोर्ट सौंपते हुए स्वीकार किया कि टैंकर घोटाला हुआ है.

  4. रिपोर्ट में समिति ने बताया कि 400 करोड़ का टैंकर घोटाला 2012 में शीला दीक्षित के समय में हुआ था.

  5. रिपोर्ट में बताया कि भाई-भतीजावाद निभाते हुए 385 टैंकर किराए पर लिए गए थे.

  6. समिति की रिपोर्ट को तत्कालीन एलजी नजीब जंग के पास भेज दिया गया.

  7. एलजी से मांग की गई कि घोटाले की जांच सीबीआई या फिर एसीबी से कराई जाए.

  8. एलजी ने समिति की रिपोर्ट एसीबी को जांच के लिए भेज दी.

  9. एसीबी ने कथित टैंकर घोटाले के संबंध में एफआईआर दर्ज कर ली.

  10. टैंकर घोटाले की शिकायत सबसे पहले व्हिसल ब्लोअर इंजीनियर जेपी गौड़ ने की थी.


ये भी पढ़ें-
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading