लाइव टीवी

बीजेपी में बगावत, ताक पर टिकट देने के नियम, पीएम की नसीहत दरकिनार, हाशिए पर कार्यकर्ता

ओम प्रकाश | News18India.com
Updated: January 17, 2017, 5:25 PM IST
बीजेपी में बगावत, ताक पर टिकट देने के नियम, पीएम की नसीहत दरकिनार, हाशिए पर कार्यकर्ता
अब सियासी बगावत की आंधी झेलने की बारी बीजेपी की है। पंजाब से लेकर उत्‍तराखंड और यूपी तक में टिकट वितरण से नाराज कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने पार्टी नेतृत्‍व के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

अब सियासी बगावत की आंधी झेलने की बारी बीजेपी की है। पंजाब से लेकर उत्‍तराखंड और यूपी तक में टिकट वितरण से नाराज कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने पार्टी नेतृत्‍व के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

  • Share this:
नई दिल्‍ली। बीजेपी अब तक समाजवादी पार्टी की बगावत पर मजे ले रही थी लेकिन अब उसके घर में भी कलह शुरू हो गई है। अब सियासी बगावत की आंधी झेलने की बारी बीजेपी की है। पंजाब से लेकर उत्‍तराखंड और यूपी तक में टिकट वितरण से नाराज कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने पार्टी नेतृत्‍व के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। टिकट देने के लिए बनाए गए सांचे को खुद पार्टी ने तोड़ दिया है। उसने सिर्फ जीतने के दांवपेच लगाए हैं। उत्‍तराखंड से लेकर यूपी तक के हालात देखें तो टिकट देने के लिए किए गए बीजेपी के सर्वे और सात स्तरीय छटनी की पोल खुल गई है। यहां तक कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नसीहत को भी ताक पर रख दिया गया है। दूसरी पार्टियों के बागी नेताओं को बीजेपी ने टिकट दी तो अब बीजेपी के बागियों को दूसरी पार्टियों में शरण देने की तैयारी है। सब बागी-बागी खेल रहे हैं। कार्यकर्ता दरकिनार, दलबदलुओं पर भरोसा है।

उत्‍तर प्रदेश:

उत्‍तर प्रदेश की बात करें तो एक दिन पहले पार्टी में आए राजा अरिदमन की पत्नी रानी पक्षालिका को बाह और धौलाना से रमेश तोमर को टिकट दे दिया गया है। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा का मथुरा में विरोध शुरू हो गया है। शर्मा मूल रूप से मथुरा के रहने वाले हैं लेकिन वह लंबे समय से दिल्‍ली में रहते हैं। उन्‍हें मथुरा के कुछ साधु बाहरी प्रत्याशी बता रहे हैं। उनका कहना है कि मथुरा में पहले से ही बाहरी सांसद है, हेमामालिनी वहां टिकती नहीं हैं।

bjp3 copy

फोटो: न्‍यूज 18 इंडिया डॉटकॉम

आगरा की फतेहपुर सीकरी में चौधरी उदयभान और खैरागढ़ में महेश गोयल के टिकट का विरोध शुरू हो गया है। दोनों सीटों के दावेदारों ने महापंचायत बुलाई है। एक ने पार्टी छोड़ने की बात कही है तो दूसरे ने निर्दलीय चुनाव लड़ने का संकेत दिया है। वंशवाद की राजनीति के खिलाफ आवाज उठाने वाली पार्टी ने पीएम मोदी की नसीहत के बाद भी कल्‍याण सिंह के नाती संदीप सिंह को अतरौली से टिकट दे दिया है। सेंटर फॉर द स्‍टडी ऑफ सोसायटी एंड पॉलिटिक्‍स के निदेशक प्रोफेसर एके वर्मा कहते हैं पार्टियां जो कहती हैं वही नहीं कर पातीं। टिकट वितरण में अक्‍सर फ्रेम टूटते हैं।

Photo_Vidhan_Sabha1फोटो: उत्‍तराखंड विधानसभा सचिवालय

उत्‍तराखंड:

उत्तराखंड की बात करें तो यहां कांग्रेस से बीजेपी में आए सुबोध उनियाल, हरक सिंह रावत, प्रणव सिंह चैंपियन, प्रदीप बत्रा, शैलेंद्र मोहन सिंघल आदि को टिकट दी गई है। कांग्रेस से सीएम रहे विजय बहुगुणा के बेटे सौरभ बहुगुणा को टिकट दी गई है। इसके अलावा रातोरात आए यशपाल आर्य और उनके बेटे संजीव आर्य को टिकट दी गई है। इन सभी सीटों पर बीजेपी के कार्यकर्ता मुखर हो रहे हैं। जो दावेदार थे वह बागी हो रहे हैं। नरेंद्र नगर विधानसभा से सुबोध उनियाल को टिकट दिए जाने के खिलाफ पूर्व विधायक ओम गोपाल रावत और रुड़की से प्रदीप बत्रा को प्रत्‍याशी बनाए जाने के खिलाफ सुरेश चंद्र जैन बागी बन गए हैं। उत्‍तराखंड की सियासत के जानकार पत्रकार अजीत राठी कहते हैं कि कांग्रेस के बागियों को बीजेपी ने टिकट दिया है, अब बीजेपी के बागियों को कांग्रेस टिकट देगी।

vijay-sampla

फोटो: गैटी इमेजेज

पंजाब: 

अब बात करते हैं पंजाब की। जहां उनके सबसे बड़े दलित नेता और प्रदेश अध्‍यक्ष विजय सांपला ने टिकट वितरण से नाराज होकर इस्‍तीफे की पेशकश की है। बताया गया है कि वह टिकट वितरण में अपनी पसंद के दावेदारों को तवज्‍जो न दिए जाने से खफा हैं। होशियारपुर के सांसद विजय सांपला केंद्रीय सामाजिक न्‍याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री भी हैं। पंजाब में 31.94 फीसदी दलित हैं। उनकी नाराजगी पार्टी को नुकसान पहुंचा सकती है। हालांकि पंजाब में बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्‍यक्ष कमल शर्मा ने न्‍यूज 18 इंडिया डॉटकॉम से बातचीत में कहा कि सांपला का इस्‍तीफा हुआ ही नहीं है। होगा भी तो उन्‍हें मना लिया जाएगा।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए यूपी इलेक्शन 2017 से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 17, 2017, 5:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर