कब तक पार्टी की 'शोभा' बढ़ाते रहेंगे बीजेपी में आए बगावती नेता?

कब तक पार्टी की 'शोभा' बढ़ाते रहेंगे बीजेपी में आए बगावती नेता?
भाजपा ने बसपा और कांग्रेस से आए नेताओं स्वामी प्रसाद मौर्य, ब्रजेश पाठक और रीता बहुगुणा जोशी को अभी तक कोई बड़ी जिम्‍मेदारी नहीं सौंपी है। आखिर क्या है रणनीति?

भाजपा ने बसपा और कांग्रेस से आए नेताओं स्वामी प्रसाद मौर्य, ब्रजेश पाठक और रीता बहुगुणा जोशी को अभी तक कोई बड़ी जिम्‍मेदारी नहीं सौंपी है। आखिर क्या है रणनीति?

  • Share this:
नई दिल्‍ली। भारतीय जनता पार्टी ने बसपा और अन्‍य दलों से आए नेताओं को अभी तक कोई जिम्‍मेदारी नहीं सौंपी है। तो क्‍या इन्‍हें सोची-समझी रणनीति के तहत पार्टी में लिया गया है ताकि चुनाव अभियान आसान हो सके? ये सवाल इसलिए उठ रहा है क्‍योंकि दूसरे दलों से लिए गए नेताओं को भाजपा ने अभी तक तवज्‍जो नहीं दी है।

बहुजन समाज पार्टी छोड़कर भाजपा में आए मायावती के खासमखास रहे स्‍वामी प्रसाद मौर्य तक से पार्टी कोई काम नहीं ले रही है, जबकि वह बसपा में रहते हुए काफी सक्रिय रहते थे। उन्‍हें पिछड़ा वर्ग सम्‍मेलन का भी हिस्‍सा नहीं बनाया गया, जबकि वह इसी वर्ग के नेता हैं।

बीएसपी से पूर्व सांसद ब्रजेश पाठक भी बीजेपी में आकर मौन हो गए हैं। बसपा में ब्राह्मण नेता के रूप में उनकी अच्‍छी पहचान थी। कांग्रेस नेत्री से भगवा ब्रिगेड में शामिल हुईं रीता बहुगुणा जोशी की भूमिका भी अब तक तय नहीं हुई है।



swami prasad maurya1
इस पर वरिष्‍ठ पत्रकार आलोक भदौरिया कहते हैं, दूसरे दलों से बीजेपी में आए नेताओं को बहुत बड़ी जिम्‍मेदारी नहीं दी जानी है। इन लोगों को भाजपा सिर्फ माहौल बनाने के लिए लाई है। इसमें पहले से ही कई क्षेत्रीय क्षत्रप हैं, पहले पार्टी उनका उपयोग करेगी। हां, इतना जरूर है कि इन्‍हें तोड़ने से भाजपा ने अपने पक्ष में तात्‍कालिक हवा बनाने की कोशिश की है।

यूपी में नेता प्रतिपक्ष रहे स्‍वामी प्रसाद मौर्य का कहना है कि ‘मेरी भूमिका तो उनको तय करना है। मैंने तो मोदी के विकास कार्यों से प्रभावित होकर अपने दल-बल के साथ बीजेपी में आने का निर्णय लिया। भाजपा नेतृत्व मेरा किस रूप में उपयोग करना चाहता है इसका निर्णय उसे करना है। मैंने सारा निर्णय पार्टी पर छोड़ दिया है। टिकट को लेकर भी देख रहे हैं कि वे क्‍या करते हैं, क्‍या नहीं करते हैं। हम इंतजार कर रहे हैं।

amit-shah2

 
 भाजपा में सब कार्यकर्ता हैं। अपने-अपने क्षेत्र में काम कर रहे हैं। यहां कोई कांग्रेस कल्‍चर तो है नहीं कि किसी विशेष व्‍यक्‍ति को प्रमोट करने का काम होगा। जितने भी लोग दूसरे दलों से लिए गए हैं वह बदलाव की हवा बनाने का काम कर रहे हैं। यूपी में तो पहले से ही हमारी मजबूत लीडरशिप है। चुनाव हो जाने के बाद सबकी असली भूमिका की बात आती है।

-श्रीकांत शर्मा, राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता, भाजपा

up_bjp_ibn7_271016
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading