विवादों में घिरे रहने वाले चंद्रा स्‍वामी कौन थे?

विवादों में घिरे रहने वाले चंद्रा स्‍वामी कौन थे?
फाइल फोटो- तांत्रिक चन्द्रास्वामी

विवादित तांत्रिक चंद्रा स्‍वामी मूल रूप से राजस्थान के रहने वाले थे. उनका मूल नाम नेमीचंद जैन था.

  • Share this:
विवादित तांत्रिक चंद्रा स्‍वामी मूल रूप से राजस्थान के रहने वाले थे. उनका मूल नाम नेमीचंद जैन था. आजादी के एक साल बाद यानी 1948 में उनका जन्‍म हुआ था. स्‍वामी का पूरा जीवन विवादों से घिरा रहा. नेताओं से लेकर अभिनेताओं तक पर उनका जादू चला.

राजनेताओं पर चंद्रास्वामी से ज्यादा असर डालने और विवाद पैदा करने वाला शायद ही कोई और ज्योतिषी या धर्मगुरु रहा हो.

चंद्रास्वामी के रसूख का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि नरसिम्हा राव जब प्रधानमंत्री थे, तब चंद्रास्वामी उनसे बिना समय लिए मिलते थे.



चंद्रास्वामी तांत्रिक बनने के पहले राजनीति में आए थे. राव ने स्वामी को हैदराबाद युवा कांग्रेस का महासचिव बनवाया था. कुछ दिनों बाद चंद्रास्वामी बिहार-नेपाल सीमा पर तांत्रिक साधना के लिए अमर मुनि नामक एक साधु के शिष्य हो गए.
राजीव गांधी हत्या मामले में भी उन पर हत्यारों की वित्तीय मदद करने के आरोप लगे थे. केंद्र सरकार ने इस हत्याकांड की जांच के लिए मिलाप चंद्र जैन आयोग बैठाया था. जिसने लगभग छह सौ पन्नों में यह साबित करने की कोशिश की कि चंद्रास्वामी राजीव गांधी की हत्या का षडयंत्र रचने वाले शिवरासन के मददगार थे. हालांकि इस रिपोर्ट को देश की किसी भी अदालत ने विश्वसनीय नहीं माना.

उनके रिश्‍ते पूर्व विदेश मंत्री नटवर सिंह, ब्रिटेन की प्रधानमंत्री रहीं मारग्रेट थैचर, अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन की पत्नी नैंसी रीगन और हॉलीवुड स्टार एलिजाबेथ टेलर भी बताए गए.

नटवर सिंह के मुताबिक थैचर तांत्रिक चंद्रास्वामी से भी मिली थीं, उन्‍होंने थैचर के प्रधानमंत्री बनने की भविष्यवाणी बहुत पहले उनके सामने ही कर दी थी. सिंह ने अपनी किताब, “वॉकिंग विद लॉयन्स- टेल्स फ्रॉम अ डिप्लोमेटिक पास्ट” में भी किया है.

स्‍वामी पर ईडी ने फेमा के उल्लंघन के मामले में 9 करोड़ रुपए की पेनल्टी लगाई थी. लंदन के एक व्यापारी के साथ धोखाधड़ी के मामले में 1996 में चंद्रास्वामी को गिरफ्तार किया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज