पंजाब में 24 घंटे में 87 छात्रों सहित 1074 लोगों की रिपार्ट कोरोना पॉजिटिव, 15 लागों की मौत

पंजाब में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्‍या तेजी से बढ़ रही है.  कॉन्सेप्ट इमेज.

पंजाब में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्‍या तेजी से बढ़ रही है. कॉन्सेप्ट इमेज.

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, पंजाब (Punjab) में अब तक साढ़े पांच लाख से ज्यादा लोगों के कोरोना टेस्ट (Corona test) करवाए जा चुके हैं. इनमें करीब 185381 लोग संक्रमित पाए गए हैं,

  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब में करोना वायरस (coronavirus) का ग्राफ एक बार फिर से ऊपर चढ़ने लगा है. राज्य में बीते 24 घंटों में 1074 लोग करोना पॉजिटिव पाए गए हैं, जबकि 15 लोगों की मौत हुई है. कारोना पॉजिटिव पाए गए लोगों में जालंधर (Jalandhar) जिला के 87 छात्र और लुधियाना (Ludhiana) के 6 शिक्षक भी शामिल हैं. पंजाब में कोरोना से मरने वालों की संख्या 5887 हो चुकी है.

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, राज्य में अब तक साढ़े पांच लाख से ज्यादा लोगों के टेस्ट करवाए जा चुके हैं. इनमें करीब 185381 लोग संक्रमित पाए गए हैं, जबकि 173230 लोग कोराना की गिरफ्त से बाहर आकर ठीक हो चुके हैं. प्रदेश में सक्रिय मामलों की संख्या 6264 है. राज्य में 94 कोरोना के मरीजों को ऑक्सीजन सपोर्ट पर और 14 को वेंटीलेर पर रखा गया है.

जालंधर में बीते वीरवार को एक ही दिन में 5 लोगों की कोरोना से जान गई है, जिले में मरने वालों की अब तक की संख्या 716 हो चुकी है. जालंधर 3,320 लोगों की कोरोना रिपोर्ट आने बाकी है. जिले में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 20,637 पहुंच गया है. लुधियाना में कोरोना से सबसे ज्यादा 1034 मौते हुई हैं.
Youtube Video




इसे भी पढ़ें :- कोरोना वैक्‍सीन पर हाईकोर्ट सख्‍त, कहा- देश में टीका लग नहीं रहा और हम विदेश में दान कर रहे

स्कूल खुलने से हुआ कोरोना के मामलों इजाफा
बताया जा रहा है कि पंजाब सरकार ने जब से छोटे-बड़े स्कूल खोलने का फैसला लिया है. तब से मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है. ऐसा कहा जा रहा है कि स्कूलों में कोरोना से निपटने के नियमों का पालन सख्ती से नहीं किया जा रहा है जिसके चलते छात्र इसकी चपेट में आते जा रहे हैं. इनसे यह दूसरे लोगों में भी फैलने लगा है.संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए पंजाब में 16 माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं. उधर दूसरी ओर राज्य भर में कोरोना वैक्सीनेशन का कार्यक्रम भी जारी हैं. हालांकि वैकसीनेशन की रफ्तार कम है, फिर भी काफी बड़े और बजुर्ग स्वास्थ्य केंद्रों में वैकसीन लगवाने केलिए आ रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज