• Home
  • »
  • News
  • »
  • punjab
  • »
  • पंजाब विधानसभा चुनाव में AAP का फ्री बिजली का वादा, कांग्रेस-शिअद को लग सकता है झटका

पंजाब विधानसभा चुनाव में AAP का फ्री बिजली का वादा, कांग्रेस-शिअद को लग सकता है झटका

 पंजाब में बिजली के रेट बहुत महंगे हैं. (फाइल फोटो)

पंजाब में बिजली के रेट बहुत महंगे हैं. (फाइल फोटो)

आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) ने फ्री बिजली का वादा किया है. पंजाब के निवासी पहले से ही बहुत ज्यादा कीमत पर बिजली के बिल भर रहे हैं और इस मुद्दे पर कांग्रेस और अकाली दल दोनों से नाराज हैं. ऐसे में यह मुद्दा शिअद, कांग्रेस को खासतौर से परेशान कर सकता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) के संयोजक और दिल्ली के संयोजक अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) की अगुवाई में पार्टी ने पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election 2022) की तैयारियां अभी से शुरू कर दिया है. आम आदमी पार्टी ने फ्री बिजली का वादा किया है. राज्य के निवासी पहले से ही बहुत ज्यादा कीमत पर बिजली के बिल भर रहे हैं और इस मुद्दे पर कांग्रेस और अकाली दल दोनों से नाराज हैं. ऐसे में यह मुद्दा शिअद, कांग्रेस को खासतौर से परेशान कर सकता है. हाल ही में केजरीवाल ने पंजाब का दौरा किया था. इस दौरान उन्होंने आप की ओर से सीएम पद के लिए जाट सिख का वादा किया था. इसके बाद केजरीवाल ने दिल्ली सरीखी सस्ती बिजली का वादा किया. आप ने पंजाब में पावर प्लांट चलाने वाली निजी कंपनियों के साथ एकतरफा बिजली खरीदने समझौतों को रद्द करने और फिर से बातचीत करने का भी वादा किया है.

आप जनता के बीच यह दावा करेगी कि अगर इन समझौतों पर दोबारा विचार नहीं किया गया तो लोगों को नुकसान उठाना पड़ेगा. पूर्ववर्ती शिअद-भाजपा की सरकार में राज्य में हुए समझौतों के बाद बिजली महंगी हो गई. राज्य बिजली उत्पादन के लिए इन कंपनियों पर बहुत अधिक निर्भर है. कैप्टन अमरिन्दर सिंह साल 2017 में सत्ता में आए और इन बिजली खरीद समझौतों को रद्द करने और उन्हें फिर से बातचीत करने का वादा किया. हालांकि, पिछले साढ़े चार साल में अब तक कुछ भी नहीं बदला है.

कांग्रेस की बैठक में उठा था मुद्दा
दावा किया जा रहा है कि बिजली का यह मुद्दा कांग्रेस की पंजाब में चल रहे मतभेदों को दूर करने के लिए गठित कमेटी के सामने भी उठा. सूत्रों ने News18 को बताया कि इसमें सीएम से तत्काल कार्रवाई करने का आग्रह किया गया था. जिस पर मुख्यमंत्री ने कहा है कि राज्य में इस मई (मार्च, 2022 तक लागू) में छोटे उपभोक्ताओं के लिए 1 रुपये प्रति यूनिट तक बिजली की दर कम कर दी गई थी.

सीएम के फैसले के बाद 2 किलोवाट तक लोड और 100 यूनिट तक की खपत वाले उपभोक्ताओं के लिए बिजली दर में 1 रुपये की कमी की गई जबकि 101 से 300 यूनिट के बीच खपत के लिए दर में 50 पैसे की कमी की गई. 2kw-7kw के बीच लोड वाले उपभोक्ताओं को जून से 75 पैसे और 50 पैसे की छूट मिली.

पंजाब में बिजली का प्लान दिल्ली की तर्ज पर?
पंजाब के लिए केजरीवाल का वादा दिल्ली की तर्ज पर हो सकता है. जहां शुरू के 200 यूनिट तक बिजली मुफ्त है जबकि 200 से 400 यूनिट के बीच बिजली की खपत करने वालों को उनके बिल पर 50 फीसदी सब्सिडी मिलती है. इससे दिल्ली में 200 यूनिट से कम बिजली की खपत करने वाले लोगों के बिल में लगभग 650 रुपये की बचत हुई. केजरीवाल ने दावा किया है कि दिल्ली में 74 फीसदी लोग जीरो बिल का भुगतान करते हैं और वह इसे जल्द ही पंजाब में लाएंगे.

पंजाब विधानसभा में आप के नेता हरपाल चीमा ने कहा 'बिजली उत्पादक राज्य होने के बावजूद पंजाब में सबसे महंगी बिजली दी जाती है. सीएम अमरिंदर सिंह ने बिजली खरीद समझौतों को रद्द करने के अपने वादे को पूरा नहीं किया बल्कि टैरिफ में बढ़ोतरी की है. लोगों के मासिक घरेलू बजट पर 10,000 से 15,000 रुपये के भारी बिजली बिलों का बोझ डाला गया है. अरविंद केजरीवाल, पंजाब में बिजली दरों को कम करने की पूरी योजना तैयार करेंगे.'

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज