कहां गायब हो गए नवजोत सिंह सिद्धू? 4 दिनों से तलाश में जुटी है पुलिस
Chandigarh-Punjab News in Hindi

कहां गायब हो गए नवजोत सिंह सिद्धू? 4 दिनों से तलाश में जुटी है पुलिस
नवजोत सिंंह सिद्धू ने लोकसभा चुनाव में बिहार में रैली के दौरान की थी सांप्रदायिक टिप्पणी. (फ़ाइल फोटो)

नवजोत सिंह सिद्धू Navjot Singh Sidhu) पर आरोप है कि उन्होंने पिछले साल 16 अप्रैल को कटिहार में चुनाव प्रचार के दौरान भड़काऊ भाषण दिया था.

  • Share this:
अमृतसर. क्रिकेटर से राजनेता बने नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) की बिहार पुलिस पिछले चार दिनों से तलाश कर रही है. लेकिन कांग्रेस के इस नेता का कोई अता-पता नहीं है. सब इंस्पेक्टर जावेद अहमद और जनार्दन पिछले 4 दिनों से अमृतसर में सिद्धू से मिलना चाह रहे हैं, लेकिन हर रोज उन्हें खाली हाथ लौटना पड़ रहा है. सिद्धू अपने घर में हैं या नहीं किसी को इसकी कोई जानकारी नहीं है.

सेक्युरिटी गार्ड बना रहे हैं बहाना!
पुलिस अफसर ने मीडिया से कहा कि वो दस्तावेज देने और जमानत के लिए उनके हस्ताक्षर लेने के लिए आए हैं. लेकिन उनके सेक्युरिटी गार्ड उन्हें मिलने नहीं दे रही है. इस बीच अमृतसर के पुलिस कमिश्नर सुखचैन सिंह गिल ने कहा कि स्थानीय पुलिस से बिहार पुलिस ने फिलहाल कोई संपर्क नहीं किया है. बिहार के दोनों पुलिस अधिकारी फिलहाल वापस लौटने के मूड में नहीं हैं. उन्होंने कहा है कि इस बारे में वे सीनियर पुलिस अधिकारी के आदेशों का इंतज़ार करेंगे.

ये भी पढ़ें:- सीरियल किलर: महिलाओं को सायनाइड खिलाकर करता था मर्डर, 20वीं हत्या का दोषी करार
सिद्धू पर क्या है आरोप?


नवजोत सिंह सिद्धू पर आरोप है कि उन्होंने पिछले साल 16 अप्रैल को कटिहार में चुनाव प्रचार के दौरान भड़काऊ भाषण दिया था. वो कांग्रेस प्रत्याशी तारिक अनवर के पक्ष में चुनाव प्रचार करने के लिए पहुंचे थे. बाद में उनके खिलाफ कटिहार के बारसोई थाना में केस दर्ज किया गया था. रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा था कि 'आप (मुस्लिम समुदाय) यहां अल्पसंख्यक होकर भी बहुसंख्यक हैं. आप अगर एकजुटता दिखाएंगे तो आपके प्रत्याशी तारिक अनवर को कोई भी नहीं हरा सकता है.'

कांग्रेस में साइडलाइन!
नवजोत सिंह सिद्धू साल 2017 में बीजेपी को छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए थे. कांग्रेस ने उन्हें कैबिनेट में भी जगह दी थी. लेकिन बाद में मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने उनसे मंत्री पद छीन लिया था. इसके बाद से सिद्धू पार्टी में अलग-थलग पड़ गए हैं. इन दिनों यूट्यूब चैनल के जरिए जनता के सामने वो अपनी बातें रखते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज