पंजाब विधानसभा चुनाव में भाजपा को नए पार्टनर की तलाश, असंतुष्टों पर खेल सकती है दाव

पंजाब विधानसभा चुनाव में भाजपा को नए पार्टनर की तलाश. (पीटीआई फाइल पोटो)

Punjab Assembly Election 2022: सूत्रों का कहना है कि किसान आंदोलन (Kisan Andolan) से उत्पन्न हुए विकट समीकरणों के चलते भाजपा, पंजाब (Punjab) विधानसभा चुनाव में के उन बड़े नेताओं पर दाव खेल सकती है जो अन्य पार्टियों से बागी हुए हैं.

  • Share this:
    चंडीगढ़. पंजाब (Punjab) में आगामी 2022 (Upcoming 2022 elections) के चुनाव को लेकर सियासी गतिविधियां (Political activities) तेज हो गई हैं. प्रदेश में शिरोमणि अकाली दल (Shiramani Akali Dal) ने भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) का दामन छोड़कर जहां बहुजन समाजपार्टी (Bahujan Samaj Party) के साथ चुनाव लड़ने का ऐलान किया है तो वहीं अब बीजेपी भी नए गठबंधन का विकल्प तलाश रही है. अमित शाह की कॉल पर हुई पंजाब बीजेपी के नेताओं की बैठक में इस पर चर्चा की गई है. सूत्रों का कहना है कि किसान आंदोलन से उत्पन्न हुए विकट समीकरणों के चलते भाजपा पंजाब के उन बड़े नेताओं पर दाव खेल सकती है जो अन्य पार्टियों से बागी हुए हैं.

    पार्टी मुख्यालय में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा और पंजाब प्रधान अश्वनी शर्मा, पंजाब प्रभारी दुष्यंत गौतम, महासचिव तरुण चुग व अन्य वरिष्ठ नेताओं के साथ हुई बैठक में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर गहन चर्चा हुई है. तीन घंटे तक चली इस बैठक में नड्डा ने पंजाब को 3 जोन में बांटकर चुनाव की तैयारी के निर्देश दिए हैं. हालांकि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अश्वनी शर्मा का कहना है कि यह एक नियमित बैठक थी.

    इसे भी पढ़ें :- पंजाब में राजनीतिक हलचलें तेज, 2022 के विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटे दल

    उन्होंने कहा कि भाजपा कैप्टन सरकार के कार्यकाल में हुए घोटालों को जनता के बीच ले जाएगी. उन्होंने कहा कि भाजपा हाईकमान की अगली बैठक भी जल्द बुलाई जाएगी. उन्होंने कहा कि पार्टी बेअदबी और नशे के मुद्दे पर भी जनता को तथ्यों से अवगत करवाएगी.

    इसे भी पढ़ें :- सोनिया गांधी खत्‍म करेंगी पंजाब में जारी विवाद, अमरिंदर-सिद्धू समेत कई नेता दिल्‍ली तलब

    निकाय चुनाव में हार पर क्या कहा था अमित शाह ने
    गौरतलब है कि पंजाब में अकाली गठबंध से अलग होने पर भाजपा को निकाय चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा था. पंजाब निकाय चुनाव में भाजपा की हार पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा था कि उन्होंने पंजाब में अभी तक अकाली दल और बीजेपी का गठबंधन था. इसलिए हमारी भूमिका सीमित थी. पर अब पंजाब में हमारी भूमिका बड़ी होगी. शाह ने कहा कि यह काम कोई रातों-रात नहीं होता. इससे एक बात तो साफ है कि भाजपा विधानसभा चुनाव में बड़ी रणनीति के तहत उतरने वाली है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.