• Home
  • »
  • News
  • »
  • punjab
  • »
  • BLACK FUNGUS BECOMES DANGEROUS IN PUNJAB 72 PERCENT PATIENTS GET SINUS INFECTION

पंजाब में खतरनाक हुआ ब्‍लैक फंगस, 72 फीसदी मरीजों के साइनस में मिला संक्रमण

पंजाब में ब्‍लैक फंगस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं.

ब्‍लैक फंगस (Black Fungus) इंसान के किसी भी अंग को प्रभावित कर सकता है. पंजाब (Punjab) में 72 फीसदी मरीजों में ब्‍लैक फंगस साइनस में मिला है जबकि 6 मरीजों में संक्रमण आंखों में फैल गया, जिसके चलते उनकी आंखों की रोशनी चली गई.

  • Share this:
    चंडीगढ़. देश में कोरोना की दूसरी लहर (Corona Second Wave) के बीच ब्‍लैक फंगस (Black Fungus) का खतरा तेजी से बढ़ता जा रहा है. पंजाब ( Punjab) में भी ब्‍लैक फंगस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. पंजाब के स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के मुताबिक राज्‍य के अलग-अलग अस्‍पतालों में भर्ती 72 फीसदी मरीजों के साइनस में ब्लैक फंगस मिला है. इन सभी मरीजों का इलाज किया जा रहा है.

    ब्‍लैक फंगस का इलाज कर रहे डॉक्‍टरों ने बताया है क‍ि ब्‍लैक फंगस इंसान के किसी भी अंग को प्रभावित कर सकता है. पंजाब में 72 फीसदी मरीजों में ब्‍लैक फंगस साइनस में मिला है, जबकि 6 मरीजों में संक्रमण आंखों में फैल गया, जिसके चलते उनकी आंखों की रोशनी चली गई. हालांकि अभी तक ऐसा कोई भी मामला सामने नहीं आया है, जिसमें मरीज के फेफड़े, जबड़े या दांतों में ब्‍लैक फंगस का संक्रमण दिखाई दिया हो.

    इसे भी पढ़ें :- म्यूकरमाइकोसिस के प्रकोप की वजह जिंक सप्लीमेंट तो नहीं?

    बता दें कि म्यूकरमाइकोसिस यानी ब्‍लैक फंगस का खतरा इतना ज्‍यादा है कि ये भले ही मरीज की जान न भी ले लेकिन मरीज के किसी भी अंग को भारी नुकसान पहुंचा सकता है. हिंदुस्‍तान टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक हेल्थ एक्सपर्ट्स कहते हैं कि जो कोविड मरीज ठीक होने के बाद बताए गए निर्देशों का पालन नहीं कर रहे हैं, खासकर ब्लड शुगर को कंट्रोल करने को लेकर उनमें ये संक्रमण तेजी से फैल रहा है.

    इसे भी पढ़ें :- बढ़ा खतरा: होम आइसोलेशन और गलत इलाज से देश में बढ़ रहे फंगस के मामले

    पंजाब में अब म्यूकोरमाइकोसिस यानी ब्लैक फंगस के मामलों की संख्या 188 हो गई है. जबकि 23 लोगों की मौत हो चुकी है. जिसके चलते मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंहने आदेश दिए हैं कि इस बीमारी के इलाज के लिए अम्फोटेरिसिनदवा की कमी को देखते हुए राज्य में वैकल्पिक दवाओं के स्टाक की मात्रा बढ़ाई जाए.
    Published by:Shikhar Srivastava
    First published: