हाईकोर्ट के फैसले से आहत IPS कुंवर विजय प्रताप ने दिया इस्तीफा,  कैप्टन ने किया नामंजूर

पंजाब के मुख्‍यमंत्री ने आईपीएस कुंवर विजय प्रताप का इस्‍तीफा नामंजूर कर दिया है.

पंजाब के मुख्‍यमंत्री ने आईपीएस कुंवर विजय प्रताप का इस्‍तीफा नामंजूर कर दिया है.

Punjab News: कुंवर विजय प्रताप सिंह जो इस समय कोटकपूरा और बहबल कलां गोली कांड मामलों की जांच के लिए बनाई गई विशेष जांच टीम (एस.आई.टी.) के प्रमुख हैं. उनकी स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति  की अपील को रद्द करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वह बहुत ही समर्थ और कुशल अफसर हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 14, 2021, 6:19 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. कोटकपूरा गोलीकांड (Kotakpura firing case) में हाईकोर्ट के एसआईटी को रद्द करने के आदेशों के बाद इसका नेतृत्व करने वाले  आई.पी.एस. अधिकारी कुंवर विजय प्रताप सिंह ने मंगलवार को इस्तीफा दे दिया. जिसे मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder singh) ने तत्काल प्रभाव से अस्वीकृत कर दिया है. इस्तीफे में उनकी सर्विस से पहले सेवामुक्ति की मांग की गई थी.

कुंवर विजय प्रताप सिंह जो इस समय कोटकपूरा और बहबल कलां गोली कांड मामलों की जांच के लिए बनाई गई विशेष जांच टीम (एस.आई.टी.) के प्रमुख हैं. उनकी स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति  की अपील को रद्द करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वह बहुत ही समर्थ और कुशल अफसर हैं, जिसकी सेवाओं की सीमावर्ती राज्य को जरूरत है. खासकर ऐसे समय पर जब पंजाब विभिन्न आंतरिक और बाहरी खतरों का सामना कर रहा है. मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य को अफसर के अनुभव और महारत की जरूरत है, जिसने पंजाब पुलिस में अलग-अलग महत्वपूर्ण पदों पर रहते हुए बेहतरीन सेवाएं दी हैं. उन्होंने कहा कि कुंवर विजय प्रताप सिंह एक कुशल, काबिल और साहसी अफसर हैं.

Youtube Video


हाईकोर्ट के आदेशों को चुनौती देगी सरकार
कोटकपूरा मामले की जांच में पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के आदेशों के बारे में मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि कुंवर विजय प्रताप सिंह को एस.आई.टी. के प्रमुख से हटाने या केस की जांच रद्द करने के किसी भी फैसले को उनकी सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी जाएगी. कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि इस अफसर और उसकी टीम ने कोटकपूरा मामले की तेजी से जांच करने में शानदार काम किया है, जिसको अकालियों ने पिछले चार सालों से रोकने की पूरी कोशिश की. उन्होंने कहा कि इस योग्य अधिकारी के नेतृत्व और निगरानी अधीन जांच तर्कपूर्ण निष्कर्ष पर लाई जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज