अपना शहर चुनें

States

किसान आंदोलन: कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बुलाई ऑल पार्टी मीटिंग, किसानों को मुफ्त कानूनी सहायता देने का ऐलान

कैप्टन ने कहा कि पंजाब के किसान दिल्ली की सरहदों पर दो महीने से भी अधिक समय से दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. उनसे पुलिस और गुंडों द्वारा मारपीट की जा रही है. फाइल फोटो
कैप्टन ने कहा कि पंजाब के किसान दिल्ली की सरहदों पर दो महीने से भी अधिक समय से दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. उनसे पुलिस और गुंडों द्वारा मारपीट की जा रही है. फाइल फोटो

Captain Amarinder Singh on Farmers Protest: पंजाब ह्यूमन राइट्स ऑर्गेनाइजेशन के अलावा दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी, खालसा मिशन और कई अन्य संगठनों ने गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के संबंध में गिरफ्तार किए गए लोगों को मुफ्त कानूनी सहायता देने की घोषणा की गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 31, 2021, 5:19 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Punjab Chief Minister Captain Amarinder Singh) ने किसानों के प्रदर्शन को लेकर 2 फरवरी को सर्वदलीय बैठक बुलाई है. बताया जा रहा है कि इस बैठक में दिल्ली में हाल ही प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसक घटनाओं को लेकर चर्चा होगी. बैठक में केंद्र सरकार से किसानों का तालमेल बिठाने को लेकर भी रणनीति पर विचार विमर्श किया जाएगा. उधर, पंजाब सरकार ने प्रदर्शन में लापता और जेलों में किसानों का केस मुफ्त में लड़ने का भी निर्णय है. मुख्यमंत्री ने सभी पार्टियों से किसानों के आंदोलन (Kisan Andolan) का समर्थन करने की अपील की है. कैप्टन ने पंजाब के हितों को देखते हुए सभी राजनीतिक दलों से इस बैठक में शिरकत करने का आग्रह किया है.

उन्होंने कहा कि सभी राजनीतिक दल किसानों की समस्या को प्रभावी ढंग से सुलझा सकते हैं और उनके हितों की रक्षा कर सकते हैं. कृषि कानूनों से पैदा हुआ संकट पूरे राज्य और इसके लोगों के लिए चिंता का विषय है. कैप्टन ने कहा कि पंजाब के किसान दिल्ली की सरहदों पर दो महीने से भी अधिक समय से दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. उनसे पुलिस और गुंडों द्वारा मारपीट की जा रही है. उनको मूलभूत सुविधाओं से भी वंचित रखकर बेवजह परेशान किया जा रहा है. मुख्यमंत्री ने यह भी बताया कि पंजाब के किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है. इसलिए यह ज़रूरी हो जाता है कि सभी राजनीतिक दल एक मंच पर आकर किसानों के हितों के लिए रणनीति तय करें.

दिल्ली लाल किले पर हुई हिंसक घटना के बाद आंदोलन में हिस्सा ले रहे 100 से ज्यादा किसान लापता हो गए हैं. यह किसान न तो अपने घरों में वापिस पहुंचे हैं और न ही बॉर्डर पर धरना स्थलों पर मौजूद हैं, जबकि दिल्ली पुलिस ने अभी तक कुछ ही किसानों के गिरफ्तार किए जाने की पुष्टि की है. इनमें से 7 किसान बठिंडा जिले के तलवंडी साबो उपमंडल के तहत आने वाले बंगी निहाल सिंह गांव के रहने वाले हैं. पंजाब ह्यूमन राइट्स ऑर्गेनाइजेशन (Punjab Human Rights Organization) एनजीओ ने दावा किया है कि पंजाब से दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के लिए आए 100 से ज्यादा किसान लापता हैं.

उधर, पंजाब ह्यूमन राइट्स ऑर्गेनाइजेशन के अलावा दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी, खालसा मिशन और कई अन्य संगठनों ने गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के संबंध में गिरफ्तार किए गए लोगों को मुफ्त कानूनी सहायता देने की घोषणा की गई है. कांग्रेस के प्रवक्ता सूरजेवाला (Congress spokesperson Surjewala) ने कहा कि पंजाब सरकार भी किसानों को मुफ्त कानूनी सहायता देगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज