अपना शहर चुनें

States

CM अमरिंदर सिंह ने जलियांवाला बाग शताब्दी स्मारक पार्क की आधारशिला रखी

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने जलियांवाला बाग शताब्दी स्मारक पार्क की आधारशिला रखी
पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने जलियांवाला बाग शताब्दी स्मारक पार्क की आधारशिला रखी

Jallianwala Bagh: पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने अमृतसर में जलियांवाला बाग शताब्दी स्मारक पार्क की आधारशिला कार्यक्रम को संबोधित किया. उन्‍होंने कहा कि सभी शहीदों की याद में उनके गांवों में स्‍मारक बनाए जाएं और रिसर्च कर शहादत देने वालों की जानकारी एकत्र की जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 25, 2021, 11:15 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने सोमवार को अमृतसर में जलियांवाला बाग शताब्दी स्मारक पार्क (Jallianwala Bagh Shatabdi Memorial Park) की आधारशिला रखी. उन्होंने वीर सपूतों और उनके परिवारों को भावभीनी श्रद्धांजलि दी और उनकी याद में एक कविता की पंक्ति पढ़ी- 'बरसों बाद भी हम शहीदों का दर्द साथ ले जा रहे हैं.' इस मौके पर मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने अमृतसर जिला प्रशासन द्वारा चिन्हित जलियांवाला बाग शहीदों के 492 परिवारों में से 29 परिवार के सदस्यों को ताम्र-कलश और शॉल देकर सम्मानित किया. जलियांवाला बाग शताब्दी स्मारक पार्क, अमृतसर के रणजीत एवेन्यू में अमृत आनंद पार्क में 4,490 वर्ग मीटर में बनेगा. 3.52 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले इस स्मारक के निर्माण के लिए शहीदों या पंचायतों, सरपंचों और पार्षदों के परिजन अपने इलाके की मिट्टी लाएंगे.

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर गुरु नानक देव विश्वविद्यालय (Guru Nanak Dev University) में जलियांवाला बाग चेयर स्थापित किए जाने की घोषणा की और दुनिया की सबसे बड़ी मानवीय त्रासदी में जान गंवाने वालों की याद में समर्पित एक साहित्यिक समारोह के आयोजन की घोषणा भी की.





शहीदों का सही डाटा एकत्रित करने के निर्देश
मुख्‍यमंत्री ने जनसंहार पर लिखी रक्षंदा जलील की कविता पढ़ी– 'आसमान यहां रोने के लिए आता है रोजाना, तीर अभी भी चुभता है पंजाब के दिल में.' कैप्टन ने कहा कि अभी भी यह ज्ञात नहीं है कि जलियांवाला बाग नरसंहार में कितने लोगों की शहादत हुई थी. उन्होंने पर्यटन और सांस्कृतिक मामलों के मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि इसके बारे में शोध कराकर डेटा तैयार किया जाए, ताकि सही संख्या का पता लगाया जा सके और शहीदों की याद में छोटे स्मारक भी उनके गांवों में बनाए जाएं.

गांधी जी ने 1500 लोगों के शहीद होने की कही थी बात
मुख्यमंत्री ने कहा कि जनरल डायर ने वहां जमा हुए 5,000 लोगों में से 200-300 मौतों के आंकड़े का हवाला दिया था, जबकि गांधी जी ने 1,500 लोगों के शहीद होने का हवाला दिया था. इनमें से केवल 492 शहीदों के नाम वर्तमान में उपलब्ध हैं. उन्होंने काला पानी में सेलुलर जेल की अपनी यात्रा को याद किया, जहां कई पंजाबियों के नाम लिखे थे, जिनके बारे में किसी को जानकारी नहीं है. अमरिंदर सिंह ने चन्नी को शोध और संकलित जानकारी भी हासिल करने का निर्देश दिया और कहा कि उनकी सरकार पंजाब में उन शहीदों के भी स्मारक बनाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज