Home /News /punjab /

Covid-19: पंजाब में कोरोना टेस्टिंग की संख्या घटी, केंद्र सरकार ने उठाए सवाल

Covid-19: पंजाब में कोरोना टेस्टिंग की संख्या घटी, केंद्र सरकार ने उठाए सवाल

महामारी की दूसरी लहर के दौरान राज्य का उच्चतम दैनिक टेस्टिंग 82,000 दर्ज की गई थी. स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि केंद्र के निर्देशों के अनुसार पंजाब को कम पॉजिटिविटी रेट के बावजूद एक दिन में कम से कम 50,000 टेस्टिंग करनी चाहिए. (फ़ाइल फोटो)

महामारी की दूसरी लहर के दौरान राज्य का उच्चतम दैनिक टेस्टिंग 82,000 दर्ज की गई थी. स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि केंद्र के निर्देशों के अनुसार पंजाब को कम पॉजिटिविटी रेट के बावजूद एक दिन में कम से कम 50,000 टेस्टिंग करनी चाहिए. (फ़ाइल फोटो)

Covid-19: स्वास्थ्य विभाग द्वारा नवंबर में किए गए कुल 6,15,351 टेस्टिंग में से 753 व्यक्तियों को 0.12 फीसदी की पॉजिटिविटी रेट पाई गई. एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि विधानसभा चुनाव से पहले नौकरी नियमित करने की मांग को लेकर विभिन्न कर्मचारी संघों की हड़ताल के कारण टेस्टिंग और टीकाकरण दोनों बुरी तरह प्रभावित हुए हैं.महामारी की दूसरी लहर के दौरान राज्य का उच्चतम दैनिक टेस्टिंग 82,000 दर्ज की गई थी.

अधिक पढ़ें ...

    चंडीगढ़. केंद्र सरकार (central government) द्वारा पंजाब और कुछ अन्य राज्यों में कम कोरोना वायरस टेस्टिंग (low coronavirus testing) पर सवाल उठाने पर राज्य के स्वास्थ्य विभाग (state health department) ने सभी जिलों में कम से कम 60,000 नमूने एकत्र करने के निर्देश दिए हैं. नवंबर में पंजाब की औसत टेस्टिंग एक दिन में लगभग 23,000 रही. पिछले लगभग एक सप्ताह में राज्य ने एक दिन में लगभग 17,500 कोरोना टेस्ट किए.

    महामारी की दूसरी लहर के दौरान राज्य का उच्चतम दैनिक टेस्टिंग 82,000 दर्ज की गई थी. स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि केंद्र के निर्देशों के अनुसार पंजाब को कम पॉजिटिविटी रेट के बावजूद एक दिन में कम से कम 50,000 टेस्टिंग करनी चाहिए. केंद्र की ताजा चिंता विभिन्न देशों में तीसरी और चौथी लहर की चपेट में आने की खबरों के बाद सामने आई है.

    पंजाब के स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि राज्य में प्रति मिलियन प्रतिदिन 2,400 टेस्टिंग विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की प्रति मिलियन 150 परीक्षणों की सिफारिश की तुलना में बहुत बेहतर है. राज्य के आंकड़ों से पता चलता है कि प्रति लाख आबादी पर 51,674 परीक्षण किए जा रहे हैं. राज्य कोविड -19 नोडल अधिकारी डॉ राजेश भास्कर ने कहा कि चूंकि हमारी सकारात्मकता दर कम है. इसके अलावा लोगों के व्यवहार में भी बदलाव देखा गया है. मामलों में तेज गिरावट के कारण कोविड का खतरा कम हो गया है और लोग अब टेस्टिंग से दूर हो रहे हैं.

    स्वास्थ्य विभाग द्वारा नवंबर में किए गए कुल 6,15,351 टेस्टिंग में से 753 व्यक्तियों को 0.12 फीसदी की पॉजिटिविटी रेट पाई गई. एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि विधानसभा चुनाव से पहले नौकरी नियमित करने की मांग को लेकर विभिन्न कर्मचारी संघों की हड़ताल के कारण टेस्टिंग और टीकाकरण दोनों बुरी तरह प्रभावित हुए हैं.

    नोडल अधिकारी ने कहा कि राज्य में अगले साल की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने के साथ हर गुजरते दिन के साथ लोगों की भीड़ बढ़ती जा रही है. यही कारण है कि हमने सभी जिला स्वास्थ्य प्रशासनों को एक दिन में 60,000 नमूने एकत्र करने के लिए अपने का निर्देश दिया है. सिविल सर्जनों को निर्देश जारी किए गए हैं.

    Tags: Covid-19 Crisis, Punjab

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर