अपना शहर चुनें

States

Kisan Andolan: 22 साल के युवा किसान ने तोड़ा दम, धरने के दौरान हुए थे बीमार

शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल ने किसान आंदोलन को लेकर कहा कि केंद्र सरकार को किसानों की मांग अनुसार तीनों विवादित कृषि कानूनों को अहंकार त्याग कर रद्द करना चाहिए. (फोटो- AP)
शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल ने किसान आंदोलन को लेकर कहा कि केंद्र सरकार को किसानों की मांग अनुसार तीनों विवादित कृषि कानूनों को अहंकार त्याग कर रद्द करना चाहिए. (फोटो- AP)

Farmer Protest: केन्द्र के तीन नये कृषि कानूनों को निरस्त किये जाने की मांग को लेकर पंजाब और हरियाणा के किसान कई सप्ताह से दिल्ली की सीमाओं पर बैठे हैं

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 25, 2021, 6:49 PM IST
  • Share this:
फरीदकोट. कृषि कानूनों (Agricultural laws) को रद्द करवाने के लिए दिल्ली की सरहद पर चल रहे किसान आंदोलन (Kisan andolan) में बीमार हुए एक और युवा किसान की मौत हो गई है. नौजवान किसान संदीप सिंह सोना महज 22 साल के थे. वो फरीदकोट (Faridkaot) जिला कोटकपूरा के गांव कोठे वडिंग का रहने वाला थे. यह नौजवान किसान दिल्ली धरने में शामिल होने गया था. जिसके बाद से बीमार था. इलाज दौरान पीजीआई चंडीगढ़ में नौजवान की मौत हो गई. परिवार, पंचायत और किसान यूनियन ने परिवार को मुआवजे की मांग की है.

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने ‘फेसबुक लाइव आस्क कैप्टन सेशन’ में ऐलान किया है कि आंदोलन के दौरान जिन किसानों की मौत हुई है, उनके परिवारों को पांच लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जायेगी. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार उनके परिवार के एक सदस्य को नौकरी भी देगी.

ये भी  पढ़ें:- Lalu Yadav Health Update: 25 फीसदी ही काम कर रही लालू यादव की किडनी: सूत्र




‘हम किसानों के साथ हैं और उनके साथ खड़े रहेंगे.’
केन्द्र के तीन नये कृषि कानूनों को निरस्त किये जाने की मांग को लेकर पंजाब और हरियाणा के किसान कई सप्ताह से दिल्ली की सीमाओं पर बैठे हैं. कैप्टन ने जारी बयान में यह भी कहा है, ‘हम किसानों के साथ हैं और उनके साथ खड़े रहेंगे.’कुछ किसानों और आंदोलन के समर्थकों को राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण के नोटिसों पर मुख्यमंत्री ने कहा कि यह एक ‘गलत कदम’ है और वह जल्द ही केंद्रीय गृह मंत्री को इस बारे में पत्र लिखेंगे. उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार को इन कानूनों को वापस लेना चाहिए.

क्या बोले सुखबीर सिंह बादल?
उधर शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल ने किसान आंदोलन को लेकर कहा कि केंद्र सरकार को किसानों की मांग अनुसार तीनों विवादित कृषि कानूनों को अहंकार त्याग कर रद्द करना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज