होम /न्यूज /पंजाब /पंजाब: पूर्व सैनिकों ने CM भगवंत मान की माता और पत्नी का किया घेराव, GOG की बहाली की मांग

पंजाब: पूर्व सैनिकों ने CM भगवंत मान की माता और पत्नी का किया घेराव, GOG की बहाली की मांग

गार्जियंस ऑफ गवर्नेंस योजना के खत्म होने से बेरोजगार पूर्व सैनिकों ने स्कीम को फिर बहाल करने की मांग की.

गार्जियंस ऑफ गवर्नेंस योजना के खत्म होने से बेरोजगार पूर्व सैनिकों ने स्कीम को फिर बहाल करने की मांग की.

Punjab News: गार्जियंस ऑफ गवर्नेंस (GoGs) खत्म होने के बाद बेरोजगार हुए पूर्व सैनिकों ने शनिवार को जमकर प्रदर्शन किया. ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

पंजाब में गार्जियंस ऑफ गवर्नेंस स्कीम को खत्म करने पर बवाल
बेरोजगार हुए पूर्व सैनिकों ने शनिवार को जमकर किया प्रदर्शन
प्रदर्शनकारियों ने मुख्यमंत्री की माता और पत्नी की गाड़ी का किया घेराव

एस. सिंह

चंडीगढ़. गार्जियंस ऑफ गवर्नेंस (GoGs) योजना के समाप्त होने के बाद बेरोजगार हुए करीब 4300 पूर्व सैनिकों ने शनिवार को संगरूर में जबरदस्त प्रदर्शन किया. पूर्व सैनिकों संगरूर की विधायक नरिंदर कौर के उद्घाटन समरोह में शिरकत करने जा रहीं मुख्यमंत्री भगवंत मान की माता हरपाल कौर और पत्नी मनप्रीत कौर की गाड़ी को घेर लिया और आप सरकार के खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी की. पूर्व सैनिक सीएम मान से बैठक करने के लिए समय मांग रहे थे. आम आदमी सरकार ने सत्ता में आने के बाद पूर्व कांग्रेस सरकार द्वारा शुरू की गई गार्जियंस ऑफ गवर्नेंस (जीओजी) योजना को समाप्त कर दिया है.

इस योजना को रद्द करने का निर्णय जीओजी के खिलाफ कई शिकायतों के मद्देनजर लिया गया था, खासकर ग्रामीण इलाकों में जहां उन पर स्थानीय राजनीति में शामिल होने का आरोप लगाया गया था. राज्य सरकार इन GoGs को मानदेय के रूप में प्रति वर्ष 72 करोड़ रुपये का भुगतान कर रही थी और एक साल से वे कोई काम नहीं कर रहे थे. सरकार का तर्क था कि इस कार्यक्रम को समाप्त करना आर्थिक रूप से विवेकपूर्ण था.

रिपोर्ट में बड़ा दावा

पिछले लगभग एक साल से कैप्टन अमरिंदर सिंह के मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद से उन्हें कोई काम नहीं दिया गया था. एक रिपोर्ट के मुताबिक गांवों में किए जा रहे विकास कार्यों पर रिपोर्ट करने के लिए उनके द्वारा इस्तेमाल किया गया सॉफ्टवेयर एप्लिकेशन भी काफी समय से काम नहीं कर रहा है. इस योजना के तहत प्रत्येक जवान को 11,000 रुपये मासिक वजीफा, पर्यवेक्षक को 13,000 रुपये और तहसील प्रमुख को 25,000 रुपये का मानदेय दिया जा रहा था.

ये भी पढ़ें:  पंजाब: कांग्रेस के हंगामे के बीच सदन में 3 बिल पारित, सोमवार तक कार्यवाही स्थगित

जिलाध्यक्षों को हर माह 50 हजार रुपये दिए जा रहे थे. गार्डियंस ऑफ गवर्नेंस कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार की एक प्रमुख योजना थी. भूतपूर्व सैनिकों को सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में सरकार की आंख और कान के रूप में कार्य करने और वहां विकास कार्यों की निगरानी के लिए GoGs के रूप में नियुक्त किया गया था.

Tags: CM Bhagwant Mann, Punjab news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें