करतारपुर कॉरिडोरः श्रद्धालुओं की मदद के लिए कॉन्सुलेट की स्थापना चाहता है भारत

श्री गुरु नानक देव जी (Sri Guru Nanak Dev Ji) के 550वें प्रकाश पर्व (550th Prakash Parv) के उपलक्ष्य में करतारपुर कॉरिडोर (Kartarpur Corridor) का निर्माण किए जाने की योजना है. भारत श्रद्धालुओं की मदद के लिए करतारपुर में कॉन्सुलेट की स्थापना करना चाहता है. बैठक में कई मुद्दों पर बात हो सकती है.

News18Hindi
Updated: September 4, 2019, 4:46 AM IST
करतारपुर कॉरिडोरः श्रद्धालुओं की मदद के लिए कॉन्सुलेट की स्थापना चाहता है भारत
करतारपुर कॉरिडोरः इतने श्रद्धालुओं के हर रोज दर्शन करने की बात मान सकता है पाकिस्तान. (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: September 4, 2019, 4:46 AM IST
श्री गुरु नानक देव जी (Sri Guru Nanak Dev Ji) के 550वें प्रकाश पर्व (550th Prakash Parv) के उपलक्ष्य में भारत-पाकिस्तान द्वारा करतारपुर कॉरिडोर (Kartarpur Corridor) का निर्माण किए जाने की योजना है. इस विषय पर मतभेदों को सुलझाने के लिए अटारी सड़क सीमा पर बुधवार को दोनों देश एक बैठक करने वाले हैं. बैठक में दोनों देशों के बीच बन रहे पहले वीजा फ्री रास्ते पर अहम फैसले लिए जाने की संभावना है. इंटरनेशनल सिख सम्मेलन (International Sikh Conference) में इमरान खान के भाषण के बाद इस बात की संभावना बढ़ गई है कि पाकिस्तान की इमरान खान सरकार, भारत सरकार की हर दिन 10 हजार श्रद्धालुओं को श्री करतारपुर साहिब के दर्शन करने की आज्ञा देने की शर्त को स्वीकार कर लेगा.

श्रद्धालुओं की मदद के लिए कॉन्सुलेट की स्थापना करना चाहता है भारत
भारत सरकार द्वारा पिछली बैठक में श्री करतारपुर साहिब में एक भारतीय कॉन्सुलेट स्थापित करने की मांग की गई थी. बैठक में इस विषय पर भी बात होने की संभावना है. भारत सरकार का कहना है कि श्री करतारपुर साहिब के दर्शन के लिए जाने वाले श्रद्धालुओं को यदि कोई समस्या आती है तो उनकी मदद के लिए वहां भारतीय कॉन्सुलेट स्थापित होना चाहिए. बैठक में दोनों देश यात्री टर्मिनल में लगाए जाने वाले झंडों की ऊंचाई के साथ-साथ सुबह व शाम को दोनों देशों के सीमा रक्षक दलों के बीच एक बैठक करने पर भी सहमति बनाने की कोशिश करेंगे. धुस्सी बांध के साथ बहने वाली रावी नदी पर पुल के निर्माण का मुद्दा भी भारतीय अधिकारी उठा सकते हैं.

5 हजार श्रद्धालुओं के हर रोज दर्शन करने पर बन चुकी है सहमति

यह बैठक अटारी सीमा पर स्थित इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट (आईसीपी) के मीटिंग हॉल में होगी, जिसमें दोनों देशों के उच्च अधिकारी करतारपुर कॉरिडोर के संचालन के प्रारूप पर चर्चा कर सकते हैं. गौरतलब है कि भारत और पाक इस बात पर सहमत हो चुके हैं कि पाकिस्तान प्रस्तावित करतारपुर गलियारे के माध्यम से देश में हर रोज पांच हजार सिख श्रद्धालुओं को दर्शन करने की अनुमति देगा.

करतारपुर कॉरिडोर की टाइमिंग और श्रद्धालुओं की सुरक्षा पर हो सकती है बात
इसमें करतारपुर कॉरिडोर से सुबह कितने बजे से श्रद्धालुओं को गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब दर्शनों के लिए भेजा जाएगा, कॉरिडोर का रास्ता शाम कितने बजे बंद होगा. श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए पाकिस्तान क्या व्यवस्था करेगा, इस पर भी चर्चा हो सकती है.
Loading...

नवंबर के पहले सप्ताह में खुलेगा करतारपुर कॉरिडोर
नवंबर के पहले सप्ताह में खुलने वाले इस कॉरिडोर के उद्घाटन कार्यक्रम के लिए संभावित मेहमानों के नामों पर भी चर्चा होगी. पाकिस्तान पहले ही घोषणा कर चुका है कि इमरान खान इस कॉरिडोर का उद्घाटन करेंगे. भारत की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस कॉरिडोर के उद्घाटन समारोह में पहुंचेंगे या रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, यह अभी तय नहीं किया गया है.

ये भी पढ़ें - 

कैबिनेट ने 15 एजेंडों पर लगाई मुहर, पटना को जल्द मिलेगी मेट्रो

डीके शिवकुमार को ED ने किया गिरफ्तार, जानें पूरा मामला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गुरदासपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2019, 4:35 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...