करतारपुर कॉरिडोर के खुलने से बदल सकती है पाकिस्‍तान की 'किस्‍मत', ये है वजह
Chandigarh-Punjab News in Hindi

करतारपुर कॉरिडोर के खुलने से बदल सकती है पाकिस्‍तान की 'किस्‍मत', ये है वजह
करतारपुर कॉरिडोर से कमाई करना चाहता है पाकिस्‍तान. (फोटो-YouTube)

पाकिस्‍तान को करतारपुर कॉरिडोर से एक रोजाना करीब 1 करोड़ 56 लाख की कमाई होगी है. इसलिए उसकी पूरी कोशिश है कि करतारपुर कॉरिडोर को खोला जाए.

  • News18.com
  • Last Updated: September 4, 2019, 11:08 PM IST
  • Share this:
पंजाब. करतारपुर कॉरिडोर (Katarpur Corridor) के दर्शनों के लिए पाकिस्तान (Pakistan) ने एक दिन में 5000 श्रद्धालुओं को आने की अनुमति दी है और एक श्रद्धालु की फीस 20 अमेरिकन डॉलर रखी है. पाकिस्तान में एक डॉलर की कीमत ₹156 है, जिस हिसाब से पाकिस्तान रोजाना 1 करोड़ 56 लाख की कमाई करतारपुर कॉरिडोर से करना चाहता है.

एक साल में होगी इतनी कमाई
पाकिस्‍तान को करतारपुर कॉरिडोर से रोजाना करीब 1 करोड़ 56 लाख की कमाई होगी और यह रकम हफ्ते के हिसाब से 10 करोड़ 92 लाख रुपए बनती है. जबकि एक महीने की कमाई 46 करोड़ 80 लाख रुपये बनती है. अगर एक साल का अनुमान लगाया जाए तो ये कमाई 5,61,60,00,000 यानि 5 अरब से ज्यादा की बनती है. जबकि गुरु पर्व के दिनों में यह आंकड़ा ओर ज्यादा बढ़ जाएगा.

कंगाली से उबर सकता है पाकिस्‍तान
सबको मालूम है कि पाकिस्तान इस समय कंगाली की हालत से गुजर रहा है और वह पूरी दुनिया से फंड इकट्ठा करने की कोशिश में लगा है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अक्सर किसी अरब कंट्री या चाइना से मदद मांगते नजर आते हैं. अगर इस आमदनी को देखा जाए तो पाकिस्तान की आर्थिक हालत बेहतर हो सकती है. इसलिए पाकिस्तान की पूरी कोशिश है कि करतारपुर कॉरिडोर को खोला जाए और करतारपुर दर्शन करने आने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ से अमेरिकन डॉलर फीस ली जाए, जिससे मंदी से गुजर रहा पाकिस्तान अपनी दशा और दिशा बदल सके.



भारत ने रखी ये शर्त
जबकि भारत चाहता है कि श्रद्धालुओं की कोई भी फीस ना रखी जाए क्योंकि बहुत सारे ऐसे श्रद्धालु लोग होते हैं जो दर्शन करना चाहते हैं, लेकिन उनके पास पैसे नहीं होते. जबकि पाकिस्तान करतारपुर के जरिए मोटी कमाई करने को बेताब है और इसी वजह से वह इस ना सिर्फ खोलना चाहता है बल्कि एक तय फीस भी रखना चाहता है.

(रिपोर्ट-पंकज कपाही)  

ये भी पढ़ें-जमात-ए-इस्‍लामी ने NRC से बाहर हुए लोगों को मुफ्त कानूनी मदद की पेशकश की
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज