कैप्‍टन अमरिंदर से विवाद सुलझाने के लिए सिद्धू ने कांग्रेस के सामने रखीं ये 3 शर्तें

नवजोत सिंह सिद्धू राष्ट्रीय राजनीति की बजाय पंजाब कांग्रेस में अहम पद चाहते हैं. इसके अलावा उन्होंने राहुल गांधी से खुद को पंजाब का डिप्टी सीएम नियुक्त करने की मांग की थी लेकिन उनकी ये मांग खारिज कर दी गई थी.

News18Hindi
Updated: June 20, 2019, 11:35 AM IST
कैप्‍टन अमरिंदर से विवाद सुलझाने के लिए सिद्धू ने कांग्रेस के सामने रखीं ये 3 शर्तें
कैप्‍टन सिंह से विवाद सुलझाने के लिए नवजोत सिंह सिद्धू ने राहुल गांधी और कांग्रेस के सामने रखीं तीन शर्तें.
News18Hindi
Updated: June 20, 2019, 11:35 AM IST
पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर के साथ विवाद सुलझाने को लेकर उनकी सरकार में शामिल मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने नया पैंतरा अपनाया है. सिद्धू ने कांग्रेस आलाकमान और अध्‍यक्ष राहुल गांधी के सामने इससे जुड़ी 3 शर्तें रखी हैं. सिद्धू की पहली शर्त है कि उन्‍हें बिजली मंत्रालय के साथ-साथ पंजाब का डिप्टी सीएम बनाया जाए. दूसरी शर्त कि- नए मंत्रालय के साथ उन्‍हें पंजाब कांग्रेस का अध्‍यक्ष बना दिया जाए. वहीं तीसरी शर्त में सिद्धू ने कहा है कि अगर ये दोनों नहीं कर सकते तो उन्‍हें उनका पुराना स्‍थानीय निकाय मंत्रालय ए‍क बार फिर वापस दे दिया जाए.

सूत्रों के मुताबिक राहुल गांधी और कांग्रेस आलाकमान ने नवजोत सिंह सिद्धू को बिजली विभाग में बतौर मंत्री जल्द जॉइन करने के लिए कहा था. ऐसा करने पर उन्हें कांग्रेस की सीनियर राष्ट्रीय लीडरशिप में राष्ट्रीय महासचिव जैसी जिम्मेदारी देने का भरोसा भी दिया था. लेकिन नवजोत सिंह सिद्धू राष्ट्रीय राजनीति की बजाय पंजाब कांग्रेस में ही अहम पद चाहते हैं.

पहले नवजोत सिंह सिद्धू ने राहुल गांधी से उन्हें पंजाब का डिप्टी सीएम नियुक्त करने की मांग की थी. लेकिन राहुल ने उनकी इस मांग को खारिज कर दिया था. ऐसे में अब नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष का पद भी अपने नये मंत्रालय के साथ चाहते हैं. वो इसी शर्त पर अपने नये मंत्रालय को जॉइन करना चाहते हैं.

पंजाब कांग्रेस के अध्‍यक्ष सुनील जाखड़ भेज चुके हैं इस्‍तीफा

दरअसल गुरदासपुर संसदीय सीट से चुनाव हारने के बाद पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने अपना इस्तीफा राहुल गांधी को भेज दिया था. लेकिन वो अभी तक मंजूर नहीं हुआ है. ऐसे में नवजोत सिंह सिद्धू चाहते हैं कि उन्हें सुनील जाखड़ की जगह पंजाब कांग्रेस का नया अध्यक्ष घोषित कर दिया जाए. हालांकि सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह, पंजाब प्रभारी आशा कुमारी और राज्य के अन्य वरिष्ठ नेता सुनील जाखड़ के इस्तीफे को मंजूर नहीं करने के हक में है. वो सभी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर दबाव बना रहे हैं कि सुनील जाखड़ ही पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष बने रहें.

कैप्‍टन अमरिंदर के बराबर कद चाहते हैं सिद्धू
सिद्धू की ये तीन शर्तें इस बात का इशारा करती हैं कि वो पंजाब की जनता के बीच संदेश देना चाहते हैं. वे चाहते हैं कि जनता ये माने कि उनका कद किसी भी तरह से कैप्टन अमरिंदर सिंह से कम नहीं है.
Loading...

बता दें कि सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच लंबे समय से तनातनी चल रही है. दोनों के बीच बयानबाजी के दौरों के बाद तल्‍खी और भी बढ़ गई है.

यह भी पढ़ें- सनी देओल की संसद सदस्यता पर खतरा, EC ने भेजा नोटिस

ऐसे हैं शानदार ईको फ्रेंडली फ्लैट्स, जिनमें रहेंगे सांसद
First published: June 20, 2019, 9:47 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...