सिद्धू ने दिया इस्तीफा तो AAP बोली- आपका स्वागत है

नवजोत सिंह सिद्धू बल्कि इमानदार और साफ सुथरे अक्स वाले हर उस नेता का ‘आप’ में स्वागत है.

News18Hindi
Updated: July 14, 2019, 8:17 PM IST
सिद्धू ने दिया इस्तीफा तो AAP बोली- आपका स्वागत है
आप ने किया सिद्धू का स्वागत (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: July 14, 2019, 8:17 PM IST
नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे की बात सार्वजनिक होते ही पंजाब में आम आदमी पार्टी ने सिद्धू पर डोरे डालने शुरू कर दिए हैं. आप ने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू अगर आम आदमी पार्टी में आना चाहें तो उन जैसे ईमानदार छवि के सभी नेताओं का पार्टी में वेलकम है.

आम आदमी पार्टी (आप) के सीनियर नेता और पंजाब विधानसभा में विरोधी पक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा ने बिजली मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की तरफ से बतौर कैबिनेट मंत्री इस्तीफा दिए जाने पर प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि सिद्धू को अब कांग्रेस पार्टी में भी बने रहने का कोई हक नहीं, उनको तुरंत इस भ्रष्ट कांग्रेसी पार्टी को छोड़ देना चाहिए. हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि बिना शक नवजोत सिंह सिद्धू का साफ सुथरा राजनैतिक अक्स है.



पंजाब कैबिनेट में सिर्फ नवजोत सिंह सिद्धू ही थे जिन्होंने बादलों के 10 सालों के माफिया राज के विरुद्ध बेबाकी के साथ बोला जो कि  मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह को रास नहीं आ रहा था. आम लोगों में सिद्धू के बढ़ते राजनैतिक कद को कैप्टन अपनी कुर्सी के लिए भी खतरा समझने लगे थे. इस लिए सिद्धू को लगातार जलील किया जा रहा था. आखिर सिद्धू को इस्तीफे के लिए मजबूर कर दिया गया.

हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि बेहतर होता नवजोत सिंह सिद्धू बतौर बिजली मंत्री का पद संभाल कर पिछली बादल सरकार के दौरान सरकारी थर्मल प्लांट बंद करके प्राइवेट थर्मल कंपनियों के साथ किए महंगे और नाजायज शर्तों वाले समझौते रद्द करते और बादलों के बिजली माफिए का पर्दा फाश करते. कैप्टन अमरिन्दर सिंह प्राइवेट थर्मल कंपनियों के साथ हुए समझौते रद्द करने से क्यों भाग गए.

चीमा ने कहा कि सिद्धू ने राज्य और पंजाब के सभी बिजली खप्तकारों को राहत देने का मौका गवां दिया है, क्योंकि लोगों को सिद्धू से काफी उम्मीदें थी. सिद्धू को तुरंत कांग्रेस पार्टी से ही किनारा करना चाहिए. उन्होंने कहा कि ना केवल नवजोत सिंह सिद्धू बल्कि इमानदार और साफ सुथरे अक्स वाले हर उस नेता का ‘आप’ में स्वागत है. जो पंजाब की जवानी, किसानी, दलितों, व्यापारियों, उद्योगपतियों, कर्मचारियों, बेरोजगारों के हक में माफिया राज के विरुद्ध डटने का जज्बा रखता है.

ये भी पढ़ें: 

CM अमरिंदर से नहीं बनी बात, सिद्धू ने छोड़ा मंत्री पद
Loading...

सिद्धू और CM अमरिंदर के बीच खत्म नहीं हो रही टकरार

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...