अमृतसर में 6 मरीजों की मौत पर प्रशासन बोला- ऑक्सीजन की कमी के बारे में अस्पताल ने नहीं दी जानकारी

अमृतसर में 6 कोरोना मरीजों की मौत को प्रशासन ने निजी अस्पताल की लापरवाही बताया.

अमृतसर में 6 कोरोना मरीजों की मौत को प्रशासन ने निजी अस्पताल की लापरवाही बताया.

अमृतसर के नीलकंठ अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 6 मरीजों की मौत का मामला. मुख्यमंत्री के आदेश पर हुई जांच के बाद प्रशासन ने मरीजों की मौत के लिए अस्पताल को दोषी ठहराया. सरकार के आदेशों का उल्लंघन करने का भी आरोप.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 26, 2021, 5:05 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. अमृतसर में ऑक्सीजन की कमी से 6 कोरोना मरीजों की मौतों में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा दिए गए जांच के आदेशों के बाद जिला प्रशासन ने निजी अस्पताल नीलकंठ (Neelkanth hospital) को जिम्मेदार ठहराया है. जिला प्रशासन ने कहा है कि निजी अस्पताल ने प्रशासन को बताया ही नहीं कि उनके यहां गैस खत्म हो रही है. इसलिए हादसे के लिए अस्पताल पूरी तरह से जिम्मेदार है.

मुख्यमंत्री ने अमृतसर के डिप्टी कमिश्नर को शहर के अस्पताल में घटित दर्दनाक हादसे की गहराई के साथ जांच शुरू करने के भी आदेश दिए थे. प्राथमिक जांच में डिप्टी कमिश्नर ने अस्पताल को दोषी ठहराया है. उन्होंने कहा है कि पहली नजर में लगता है कि अस्पताल द्वारा सरकार के उन आदेशों का उल्लंघन किया गया है, जिसके तहत ऑक्सीजन की कमी के बाद जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं. सरकार के निर्देशों के मुताबिक सभी प्राइवेट अस्पतालों को कहा गया है कि ऑक्सीजन की कमी होने पर वे अपने यहां भर्ती मरीजों को सरकारी मेडिकल कॉलेजों में शिफ्ट कर दें.

Youtube Video


गौरतलब है कि पंजाब के अमृतसर में ऑक्सीजन की कमी के कारण नीलकंठ अस्पताल में 6 मरीजों की मौत हो गई थी. मौत की सूचना आते ही मरीजों के परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा किया था. मरीजों को जब इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया था तो अस्पताल प्रशासन ने उनके परिजनों से लिखवा कर अंडरटेकिंग ली थी. इसमें कहा गया था कि अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी के कारण यदि मरीज को कुछ होता है, तो इसके लिए अस्पताल प्रशासन जिम्मेदार नहीं होगा. उधर, अस्पताल के  एमडी सुनील देवगन ने प्रशासन पर ऑक्सीजन के आवंटन को लेकर पक्षपात करने के आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि प्रशासन सरकारी अस्पतालों को ही ऑक्सीजन मुहैया करवा रहा है. जिसके चलते उनके अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज