पंजाब: कैप्टन अमरिंदर सिंह के समर्थन में आए 10 विधायक, बोले- माफी मांगें सिद्धू

नवजोत सिंह सिद्धू ने शुक्रवार को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी. इस बैठक के बाद से ही कैप्टन अमरिंदर सिंह के खेमे में खलबली मच गई है. (फ़ाइल फोटो)

Punjab Congress: विधायकों ने नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर पार्टी को सावधानी बरतने की सलाह दी. उन्होंने कहा कि सिद्धू एक सेलिब्रिटी थे और निस्संदेह पार्टी के लिए एक संपत्ति थे, लेकिन सार्वजनिक रूप से अपनी ही पार्टी और सरकार की आलोचना की.

  • Share this:
    (स्वाति भान)

    चंडीगढ़.  पंजाब की सियासी तस्वीर इन दिनों लगातार बदल रही है. एक तरफ नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनने के लिए लगातार ताल ठोंक रहे हैं, तो दूसरी तरफ कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी उन्हें रोकने के लिए पूरी ताकत झोंक दी है. पंजाब कांग्रेस की कमान दिए जाने की खबरों के बीच सिद्धू लगातार पार्टी के बड़े नेताओं से मिल रहे हैं. लेकिन इस बीच पार्टी के एक सीनियर नेता सुखपाल सिंह खैरा ने सिद्धू की तरफ गुगली फेंक दी है. खैरा ने अपने पक्ष 10 विधायकों के समर्थन का दावा किया है. साथ ही उन्होंने एक संयुक्त बयान जारी कर सिद्धू को माफी मांगने के लिए कहा है.

    बता दें कि खैरा ने हाल ही में आम आदमी पार्टी को छोड़ कर कांग्रेस का हाथ थामा है. संयुक्त बयान में उन्होंने कहा है कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि राज्य पीसीसी प्रमुख की नियुक्ति पार्टी आलाकमान का विशेषाधिकार है, लेकिन साथ ही साथ गंदगी को धोना भी है. पिछले दो महीने के दौरान पार्टी की साख भी गिरी है.

    कैप्टन का समर्थन
    विधायकों ने कहा कि कैप्टन की वजह से ही 1984 में दरबार साहिब पर हमले और उसके बाद दिल्ली और देश में अन्य जगहों पर सिखों के नरसंहार के बाद पंजाब में पार्टी ने सत्ता हासिल की. बयान में कहा गया है कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह को मुख्यमंत्री के रूप में अपने पहले कार्यकाल में अपने खिलाफ भ्रष्टाचार और आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज करने के लिए बादल परिवार के हाथों बदले की राजनीति का भी सामना करना पड़ा था.

    पार्टी को होगा नुकसान
    विधायकों ने कहा कि चूंकि चुनाव में केवल छह महीने बचे हैं, इसलिए पार्टी को अलग-अलग दिशाओं में खींचने से 2022 के चुनावों में नुकसान होगा. उन्होंने कैप्टन अमरिंदर सिंह की इस मांग का भी समर्थन किया कि नवजोत सिंह सिद्धू, जिन्होंने उनके और सरकार के खिलाफ कई ट्वीट किए थे, उन्हें सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए, ताकि पार्टी और सरकार मिलकर काम कर सकें.

    सिद्धू ने पार्टी को कमजोर किया
    विधायकों ने नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर पार्टी को सावधानी बरतने की सलाह दी. उन्होंने कहा कि सिद्धू एक सेलिब्रिटी थे और निस्संदेह पार्टी के लिए एक संपत्ति थे, लेकिन सार्वजनिक रूप से अपनी ही पार्टी और सरकार की निंदा और आलोचना करने से उन्होंने पार्टी को कमजोर कर दिया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.