Home /News /punjab /

जमाखोरी करने वाले डीलरों को पंजाब के कृषि मंत्री की चेतावनी, कहा- रद्द कर देंगे लाइसेंस

जमाखोरी करने वाले डीलरों को पंजाब के कृषि मंत्री की चेतावनी, कहा- रद्द कर देंगे लाइसेंस

पंजाब के कृषि मंत्री हैं रणदीप नाभा. (File pic)

पंजाब के कृषि मंत्री हैं रणदीप नाभा. (File pic)

Punjab Agriculture: पंजाब के कृषि मंत्री रणदीप नाभा ने कहा कि एफसीओ-1985 के अनुसार खुदरा विक्रेताओं और पीएसीएस का लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा अगर वे इस तरह के कार्यों में लिप्‍त मिलते हैं. नाभा ने पंजाब में डीएपी की उपलब्धता के बारे में भी विस्तार से बताया. उन्‍होंने कहा कि राज्य को 2021-22 के रबी सीजन के दौरान डीएपी का 5.50 लाख मीट्रिक टन (एलएमटी) आवंटित किया गया है. अक्टूबर माह के लिए 1.97 एलएमटी डीएपी आवंटित किया गया था, जिसमें से 1.51 एलएमटी प्राप्त हुआ था.

अधिक पढ़ें ...

    चंडीगढ़. पंजाब (Punjab) के कृषि मंत्री रणदीप नाभा (Randeep Nabha) ने शनिवार को राज्य के उन डीलरों और प्राथमिक कृषि समितियों (PACS) के खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी दी, जो डायमोनियम फॉस्फेट (DAP) के साथ अनावश्यक उत्पादों की जमाखोरी या कालाबाजारी करते हैं. इस संबंध में राज्‍य के कृषि मंत्री का कहना है कि इससे किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. पंजाब के कृषि मंत्री रणदीप नाभा ने कहा कि एफसीओ-1985 के अनुसार खुदरा विक्रेताओं और पीएसीएस का लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा, अगर वे इस तरह के कार्यों में लिप्‍त मिलते हैं.

    नाभा ने पंजाब में डीएपी की उपलब्धता के बारे में भी विस्तार से बताया. उन्‍होंने कहा कि राज्य को 2021-22 के रबी सीजन के दौरान डीएपी का 5.50 लाख मीट्रिक टन (एलएमटी) आवंटित किया गया है. अक्टूबर माह के लिए 1.97 एलएमटी डीएपी आवंटित किया गया था, जिसमें से 1.51 एलएमटी प्राप्त हुआ था. नवंबर 2021 महीने के लिए कुल 2.56 एलएमटी डीएपी आवंटित किया गया है, जिसमें से अब तक कुल 1.60 एलएमटी प्राप्त हुआ है.

    उन्होंने कहा कि 6 नवंबर तक पंजाब के विभिन्न जिलों में कुल 0.67 एलएमटी डीएपी उपलब्ध था, जिसमें उर्वरक के 50 और रेक कुल 1.0 एलएमटी से अधिक 15 नवंबर तक मिलने की उम्मीद है. डीएपी के सात रेक (18,304 एमटी) नवंबर 2021 के दौरान लुधियाना, जालंधर, तरनतारन, अबोहर, मुक्तसर और रामपुराफुल में प्राप्त हुए हैं. नाभा ने कहा कि डीएपी (34,558 मीट्रिक टन) के 12 रेक ट्रांसिट में हैं और अमृतसर, रोपड़, तरनतारन, जालंधर, मुक्तसर, सुनाम, बटाला, लुधियाना, राजपुरा तक पहुंचाए जाएंगे.

    यह भी पढ़ें: दिल्‍ली की 10 बड़ी खबरें: दिवाली के तीसरे दिन भी दिल्‍ली-एनसीआर में सांस लेना मुश्किल, कई जगह AQI 550 पार

    भारतीय रेलवे में कम से कम 18 और रेक (50,000 मीट्रिक टन) लगाए गए हैं और 15 नवंबर, 2021 तक ये प्राप्त किए जाएंगे. नाभा ने आगे कहा कि डीएपी की प्रीपोजिशनिंग हर साल अगस्त से शुरू होती है और इस साल इसी अवधि के दौरान पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 1.50 एलएमटी डीएपी की कमी थी.

    उन्होंने कहा कि राज्य संकट से निपटने की पूरी कोशिश कर रहा है और अंतरराष्ट्रीय बाजार में उर्वरक की कीमत अधिक है और आवश्यक मात्रा में उपलब्ध नहीं है. मंत्री ने सुझाव दिया कि फॉस्फेटिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए डीएपी के साथ वैकल्पिक फॉस्फेटिक उर्वरकों जैसे नाइट्रोजन, फॉस्फोरस और पोटेशियम (एनपीके), और सिंगल सुपर फॉस्फेट (एसएसपी) का भी उपयोग किया जाना चाहिए.

    Tags: Agriculture, Punjab

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर