• Home
  • »
  • News
  • »
  • punjab
  • »
  • पंजाब: दिल्ली मॉडल और सिख CM के सहारे विधानसभा चुनाव जीतने की उम्मीद में AAP

पंजाब: दिल्ली मॉडल और सिख CM के सहारे विधानसभा चुनाव जीतने की उम्मीद में AAP

चंडीगढ़ के सेक्टर 39 में APP का दफ्तर है और यहां इन दिनों अभी से ही चुनावी गहमागहमी देखी जा रही है. (फ़ाइल फोटो)

चंडीगढ़ के सेक्टर 39 में APP का दफ्तर है और यहां इन दिनों अभी से ही चुनावी गहमागहमी देखी जा रही है. (फ़ाइल फोटो)

Punjab Assembly Election 2022: पंजाब में अटकलें लगाई जा रही हैं कि अगर नवजोत सिंह सिद्धू की कांग्रेस में बात नहीं बनती है तो वो आप में फिर शामिल हो सकते हैं और उन्हें सीएम का उम्मीदवार बनाया जा सकता है. वहीं भगवंत मान का खेमा उन्हें स्वाभाविक दावेदार के रूप में देखता है.

  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election 2022) के लिए आम आदमी पार्टी (AAP) ने अभी से तैयारियां शुरू कर दी हैं. पार्टी के प्रदेश प्रभारी जनरैल सिंह के मुताबिक दिल्ली मॉडल के आधार पर पंजाब का रोडमैप तैयार किया जा रहा है. साथ ही उन्होंने कहा कि पार्टी का फोकस सही वक्त पर मुख्यमंत्री का उम्मीदवार भी चुनना होगा. पार्टी के नेताओं का कहना है कि पिछली बार के हार से सीख लेते हुए आम आदमी पार्टी ने अभी से ही रणनीतियां बनानी शुरू कर दी है.

चंडीगढ़ के सेक्टर 39 में APP का दफ्तर है और यहां इन दिनों अभी से ही चुनावी गहमागहमी देखी जा रही है. पार्टी में कुछ नए नेताओं की एंट्री होने वाली है. लिहाज़ा दिल्ली के आप विधायक जरनैल सिंह और विपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा दोनों यहां लगातार मंथन कर रहे हैं. यहां साल 2017 के चुनावों में AAP को 20 सीटों पर जीत मिली थी और पार्टी अकाली दल को पीछे छोड़ते हुए दूसरे नंबर पर रही थी. हरपाल सिंह चीमा ने न्यूज़ 18 से बातचीत में कहा, 'पिछली बार शुरुआती लय अंत तक नहीं टिक सकी. हमने इससे सीखा है, इसलिए आने वाले महीनों में कई घोषणएं की जाएंगी. आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल नियमित रूप से पंजाब के दौरे पर आते रहेंगे.'

मालवा क्षेत्र  पर नज़र
पंजाब के मालवा क्षेत्र को आम आदमी पार्टी का गढ़ माना जाता है. यहां कुल 69 सींटें हैं. यहां के लोग पार्टी को दूसरा मौका देने के लिए तैयार है. मालवा के संगरूर से ही भगवंत मान दो बार लोकसभा का चुनाव जीत चुके हैं. आप को पिछली बार यहां 20 में से 18 सीटों पर जीत मिली थी. चीमा का कहना है कि आप इस बार पंजाब के दो अन्य क्षेत्रों, माझा और दोआबा में अपने पैर फैलाने की पूरी कोशिश कर रही है. 25 सीटों के साथ माझा में सिखों की पवित्र सीट अमृतसर शामिल है और ये अकाली दल का गढ़ रहा है जहां पिछली बार आप को एक भी सीट पर जीत नहीं मिली थी. चीमा कहते हैं, 'माझा क्षेत्र ने 2017 में पूरी तरह से कांग्रेस को वोट दिया था. लेकिन इस बार मालवा में 2015 की बेअदबी और पुलिस फायरिंग के मामलों में कांग्रेस की निष्क्रियता उनके खिलाफ काम करेगी.'

बूथ प्रबंधन पर काम
संगरूर स्थित AAP कार्यालय में भगवंत मान के करीबी नेताओं ने News18 को बताया कि पार्टी तीनों क्षेत्रों में बूथ प्रबंधन पर काम कर रही है और चुनाव आने तक AAP के पास प्रत्येक बूथ पर 21 लोगों की टीम होगी. एक नेता ने कहा, 'बूथ की टीम संगठन और घर-घर प्रचार पर ध्यान दे रही है.'

ये भी पढ़ें:- डेल्टा से कई गुना ज्यादा घातक हो सकता है लैम्ब्डा, डरा रही हैं ये 5 बातें

जल्द होगा CM कैंडिडेट का ऐलान
जरनैल सिंह और हरपाल चीमा दोनों ने News18 को बताया कि पार्टी चुनाव से पहले मुख्यमंत्री पद के लिए अपना चेहरा घोषित करेगी. लेकिन दोनों ने इस बात पर चुप्पी साध ली कि कि CM पद का उम्मीदवार कौन होगा. उन्होंने कहा, 'हमने पिछली बार से महसूस किया है कि पंजाब में चुनाव लड़ने के लिए एक चेहरा महत्वपूर्ण है. हम सही समय पर इसकी घोषणा करेंगे. कांग्रेस और अकाली दल ने अभी तक अपने-अपने मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के बारे में कुछ नहीं कहा है.'

इन नामों पर हो रही है चर्चा
पंजाब में अटकलें लगाई जा रही हैं कि अगर नवजोत सिंह सिद्धू की कांग्रेस में बात नहीं बनती है तो वो आप में फिर शामिल हो सकते हैं और उन्हें सीएम का उम्मीदवार बनाया जा सकता है. एक और संभावना जिसके बारे में पंजाब में बात की जा रही है, वो है भारत किसान यूनियन (राजेवाल) के नेता बलबीर सिंह राजेवाल जैसे वरिष्ठ किसान नेता. इसके अलावा भगवंत मान का खेमा उन्हें स्वाभाविक दावेदार के रूप में देखता है, क्योंकि वो पंजाब में आप प्रमुख हैं, लेकिन बहुत से लोगों का कहना है कि ऐसा होने की संभावना नहीं है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज