चुनावी जीत के बाद गुरदासपुर और संसद दोनों जगह कम दिखे सनी देओल

News18Hindi
Updated: September 3, 2019, 6:42 AM IST
चुनावी जीत के बाद गुरदासपुर और संसद दोनों जगह कम दिखे सनी देओल
पंजाब में बीजेपी और अकाली दल के 2-2 सासंद हैं. इन सभी सांसदों की सदन में उपस्थिति कम रही है.

सनी देओल को BJP ने गुरदासपुर लोकसभा क्षेत्र (Gurdaspur Lok Sabha constituency) से चुनाव मैदान में उतारा था तो उन्होंने बड़े वायदे किए थे. क्षेत्र की जनता ने उन पर भरोसा जताते हुए बड़े मार्जिन से जीत भी दिलाई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2019, 6:42 AM IST
  • Share this:
2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने जब सनी देओल (Sunny Deol) को गुरदासपुर लोकसभा क्षेत्र (Gurdaspur Lok Sabha constituency) से 2019 के चुनाव मैदान में उतारा था तो उन्होंने बड़े वायदे किए थे. क्षेत्र की जनता ने उन पर भरोसा जताते हुए बड़े मार्जिन से जीत भी दिलाई थी लेकिन इस जीत के बाद सनी की उपस्थिति अपने संसदीय क्षेत्र और सदन में कम रही है. पंजाब में बीजेपी और अकाली दल के 2-2 सासंद हैं. इन सभी सांसदों की सदन में उपस्थिति कम रही है.

कांग्रेसी सांसदों ने मारी बाजी
वहीं राज्य के कांग्रेस सांसदों पर नजर डाली जाए तो उनकी उपस्थिति सदन में बेहतर रही है. सबसे ज्यादा उपस्थिति फतेहगढ़ साहिब के डॉ. अमर सिंह और जालंधर के संतोख सिंह चौधरी (Santokh Singh Chaudhary) के नाम है. इस लोकसभा के पहले सेशन में 17 जून से लेकर 7 अगस्त के बीच 37 दिन काम हुआ. इस दौरान अकाली सांसद सुखबीर बादल (Sukhbir Singh Badal) की उपस्थिति महज 11 दिन रही वहीं सनी देओल कुल 9 दिन ही सदन की कार्यवाही में मौजूद रहे.

महज 3 दिन मौजूद रहे सोम प्रकाश

होशियारपुर से बीजेपी के सांसद सोम प्रकाश तो सिर्फ 3 दिन ही सदन में मौजूद रहे जबकि केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल के सदन के रजिस्टर में सिर्फ दो दिन ही हस्ताक्षर हैं. कांग्रेस के प्रवक्ता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी सदन में 33 दिन शामिल रहे. वे आनंदपुर साहिब से सांसद हैं. उनके अलावा भी राज्य के अन्य कांग्रेसी सांसदों की सदन में उपस्थिति बेहतर रही है.

विनोद खन्ना की सीट रही है गुरदासपुर
गौरतलब है कि पंजाब की गुरदासपुर लोकसभा सीट पर दिवंगत अभिनेता और बीजेपी नेता विनोद खन्ना का कब्जा रहा था. उन्होंने इस सीट से 4 बार लोकसभा चुनाव जीता था. साल 2017 में उनकी मृत्यु के बाद इस सीट पर हुए उपचुनाव में कांग्रेसी नेता सुनील जाखड़ जीते थे. बाद में 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने इस सीट पर सनी देओल को अपना प्रत्याशी बनाया था. सनी देओल के पिता धर्मेंद्र भी बीजेपी के सांसद रह चुके हैं.
Loading...

ये भी पढ़ें:

पाकिस्तान में सिख ग्रंथी की बेटी अगवा, जबरन कराया निकाह

कुकर्म के बाद सिर पर ईंट मार कर की 6 साल के बच्चे की हत्या

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ (पंजाब) से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 3, 2019, 6:06 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...