लाइव टीवी

CM अमरिंदर सिंह की अपील, गुरुनानक देव जयंती मनाने में SGPC दे साथ

भाषा
Updated: October 27, 2019, 8:43 AM IST
CM अमरिंदर सिंह की अपील, गुरुनानक देव जयंती मनाने में SGPC दे साथ
12 नवंबर को गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती मनाई जाएगी. (फाइल फोटो)

पंजाब (Punjab) के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (SGPC) से सुलतानपुर लोधी में 12 नवंबर को सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव (Guru Nanak Dev) की 550वीं जयंती उत्सव मनाने में सरकार के साथ हाथ मिलाकर चलने की अपील की.

  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब (Punjab) के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (SGPC) से सुलतानपुर लोधी में 12 नवंबर को सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव (Guru Nanak Dev) की 550वीं जयंती उत्सव मनाने में सरकार के साथ हाथ मिलाकर चलने की अपील की. मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) हिस्सा लेंगे.

अमित शाह भी ले सकते हैं कार्यक्रम में हिस्सा
उन्होंने कहा कि 11 नवंबर को मुख्य कार्यक्रम शीर्ष गुरुद्वारा निकाय-शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति के निरीक्षण में हो सकता है जिसमें केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के आने की संभावना है. इसे 550 वीं जयंती संयुक्त रूप से मनाने को लेकर राज्य सरकार और एसजीपीसी के बीच जारी गतिरोध को दूर करने के नये फार्मूला के रूप में देखा जा रहा है. मुख्यमंत्री ने यहां एसजीपीसी के अध्यक्ष गोबिंद सिंह लोंगोवाल के साथ एक बैठक में यह सुझाव दिया.

पूर्व में सिख समुदाय एकजुट रहा है

उन्होंने बैठक के दौरान इस ऐतिहासिक अवसर पर खासकर विभिन्न कार्यक्रमों में देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री जैसे गणमान्य व्यक्तियों की भागीदारी के आलोक में एकता की कमी को लेकर अपनी चिंता रखी. उन्होंने कहा कि इससे सभी संबद्ध लोगों/पक्षों के लिए असहज स्थिति पैदा होगी जबकि सिख समुदाय अतीत में ऐसे समारोहों में हमेशा एकजुट रहा है.

राज्य सरकार भी ले सकती है हिस्सा
उन्होंने कहा कि चेतावनी कि अतीत की परिपाटी से थोड़ा सा भी हटने से समुदाय को अपूरनीय क्षति होगी. लोगोंवाल ने राष्ट्रपति कोविंद और केंद्रीय गृह मंत्री शाह को क्रमश: 12और 11 नवंबर को सुलतानपुर आने का निमंत्रण देने के फैसले को लेकर मुख्यमंत्री की सराहना की. मुख्यमंत्री ने सुझाव दिया कि सुलतानपुर लोधी में गुरुद्वारा परिसर में एसजीपीसी मंच का उपयोग 11 नवंबर को साझे मंच के तौर पर किया जा सकता है और राज्य सरकार भी वहां उसमें हिस्सा ले सकती है.
Loading...

12 नवंबर को राष्ट्रपति कार्यक्रम में लेंगे हिस्सा
उन्होंने प्रस्ताव दिया कि लेकिन 12 नवंबर को राष्ट्रपति के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के मद्देनजर राज्य सरकार के लिए राष्ट्राध्यक्ष के रूप में उनकी मेजबानी करना उचित है . इससे मुख्य कार्यक्रम के बारे में लोगों का भ्रम दूर होगा और सिखों के बीच एकता का भी संदेश जाएगा. लोगोंवाल ने मुख्यमंत्री को आश्वासन दिया कि एसजीपीसी इस प्रस्ताव पर विचार करेगा और शीघ्र ही अपने निर्णय से उन्हें अवगत कराएगा.

एसजीपीसी मुख्य मंचा लगाएगा
कुछ दिन पहले अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा था कि केवल एसजीपीसी ही 550 वें समारोह के दौरान सुलतानपुर लोधी में धार्मिक कार्यक्रम के लिए मुख्य मंच लगाएगा. लेकिन उन्होंने कपूरथला के सुलतानपुर लोधी में पंजाब सरकार द्वारा पृथक मंच का स्वागत किया और कहा कि इसका राजनीतिक भाषणबाजी के बजाय सिख गुरु के संदेश को फैलाने के लिए किया जाना चाहिए.

550 वें समारोह को संयुक्त रूप से मनाने के लिए गतिरोध है. एसजीपीसी ने 12 नवंबर को सुलतानुपर लोधी में गुरुद्वारा बेर साहिब के समीप एक स्टेडियम में मुख्य कार्यक्रम करने का फैसला किया है जबकि राज्य सरकार वहां एक टेंट सिटी में कार्यक्रम करने को इच्छुक है.

ये भी पढ़ें-

मनीष तिवारी ने की भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के लिए भारत रत्न की मांग

कनाडा के किंगमेकर को 2013 में नहीं मिला था भारत आने का वीजा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ (पंजाब) से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 27, 2019, 8:43 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...