अपना शहर चुनें

States

पंजाबः सिद्धू को मनाने के लिए कैप्टन अमरिंदर ने की पहल, साथ करेंगे लंच, अहम मुद्दों पर होगी बात

मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने बुधवार को लंच पर सिद्धू को बुलाया है. फाइल फोटो
मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने बुधवार को लंच पर सिद्धू को बुलाया है. फाइल फोटो

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) ने कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) को खाने पर बुलाया है. माना जा रहा है कि खाने की टेबल पर दोनों नेताओं के बीच सियासी खिचड़ी पक सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 24, 2020, 11:09 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. ऐसा लगता है कि पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू के बीच गिले शिकवे दूर हो गए हैं. दरअसल मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सिद्धू को बुधवार के दिन लंच का बुलावा भेजा है. माना जा रहा है दोनों नेता लंच पर हुई मुलाकात में राज्य और केंद्र की राजनीति पर विचार विमर्श कर सकते हैं. ये जानकारी मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने दी है.

बता दें कि केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब के किसानों ने मोर्चा खोल रखा है. पंजाब में किसान कई हफ्तों से सड़कों और रेल पटरियों पर थे. इसके चलते केंद्र सरकार ने पंजाब में रेल सेवाएं रोक दी थीं. रेल सेवा ठप होने की वजह से पंजाब में आपूर्ति सेवा प्रभावित हुई तो राज्य की अर्थव्यवस्था पटरी से उतर गई. राज्य में बिजली संकट पैदा हो गया.

बाद में राज्य सरकार और केंद्र के बीच बातचीत के बाद किसानों ने 15 दिनों के लिए पटरियां खाली कर दीं. हालांकि किसानों ने केंद्र से बातचीत असफल रहने पर फिर से रेल सेवाएं ठप करने की धमकी दी है. राज्य की अमरिंदर सरकार के आश्वासन के बाद रेलवे ने आंशिक रूप से ट्रेन सेवाएं चालू कर दी हैं.



बता दें कि केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ अमरिंदर सिंह ने राष्ट्रपति से मिलने का समय मांगा था, लेकिन समय नहीं मिलने पर अमरिंदर और उनके सहयोगियों ने राजघाट पर एक दिन का धरना दिया. साथ ही राज्य में कांग्रेस ने विरोध प्रदर्शन भी किया.
पढ़ेंः पंजाब में फिर रफ्तार भरेंगी ट्रेनें, 15 दिनों के लिए रुकेगा किसानों का 'रेल रोको आंदोलन'

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पंजाब कांग्रेस के साथ ट्रैक्टर मार्च की अगुआई की, तो पंजाब कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने इंडिया गेट पर विरोध स्वरूप ट्रैक्टर भी जला दिया.

ये भी पढ़ेंः केंद्र का ग्रामीण विकास कोष रोकने का कदम दुर्भाग्यपूर्णः अमरिंदर सिंह

दूसरी ओर नवजोत सिंह सिद्धू भी कांग्रेस पार्टी के साथ कृषि कानून के खिलाफ आवाज बुलंद करते रहे. पंजाब में अमरिंदर सरकार के गठन के बाद मंत्रालय के बंटवारे को लेकर नवजोत सिंह सिद्धू ने नाराजगी जताई थी, जिसके बाद अमरिंदर सिंह से उनके मतभेद बढ़ते गए... और फिर सिद्धू ने अमरिंदर कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया. बाद में सिद्धू को लेकर कई अफवाहें उड़ती रहीं.

हालांकि सिद्धू खामोशी से पंजाब कांग्रेस में बने रहे और अब पंजाब के मुख्यमंत्री ने उन्हें लंच पर बुलाया है. देखना है कि लंच के बहाने के दोनों नेताओं में क्या खिचड़ी पकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज