पंजाबः CM अमरिंदर सिंह की अपील, रेलवे ट्रैक पूरी तरह खाली करें आंदोलनकारी किसान

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (फाइल फोटो)
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (फाइल फोटो)

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Punjab CM Amarinder Singh) ने कृषि कानून (Farm Laws) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे आंदोलनकारी किसानों से रेलवे ट्रैक पूरी तरह खाली करने की अपील की है. राज्य में ट्रैक बाधित होने के चलते ट्रेनों का संचालन ठप है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2020, 9:21 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) ने शुक्रवार को राज्य में आंदोलनकारी किसानों से रेल ट्रैक (Rail Track) खाली करने की अपील की. ताकि राज्य में यात्री ट्रेनों का आवागमन सुचारू रूप से हो सके. पंजाब (Punjab) की ओर से कहा गया है कि केंद्र सरकार ने कृषि कानून (Farm Laws) के मुद्दे पर विचार विमर्श के लिए कदम उठाए हैं. ऐसे में किसानों को ट्रेनों के आवागमन के लिए ट्रैक खाली कर देना चाहिए.

बता दें कि आंदोलनकारी किसानों की ओर से रेल ट्रैक ब्लॉक किए जाने के चलते रेलवे ने पंजाब में ट्रेनों का संचालन रोक दिया है. पंजाब सरकार ने रेलवे से मालगाड़ी चलाने का अनुरोध किया था, लेकिन रेलवे ने यह कहते हुए मना कर दिया कि राज्य तय नहीं कर सकते कि कौन सी ट्रेन चलाई जाए और कौन सी नहीं.

दरअसल, रेलवे की ओर मालगाड़ी बंद किए जाने से राज्य में बिजली संकट खड़ा हो गया है. माल की सप्लाई और ढुलाई भी बेहद प्रभावित हुए हैं और राज्य की अर्थव्यवस्था चरमराती दिख रही है, जिसकी वजह से राज्य के लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.



पंजाब में ट्रेनों का संचालन शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) से भी बात की थी. अमरिंदर ने शाह से बातचीत कर मामले में दखल देकर रेल सेवाएं शुरू करने की मांग की. लेकिन, मामला अभी तक सुलझ नहीं पाया है.
मुख्यमंत्री कार्यालय के मुताबिक किसानों ने मालगाड़ियों की आवाजाही के लिए सभी ट्रैक खाली कर दिए हैं. माल की ढुलाई के लिए पंजाब की जमीनी स्थिति पूरी तरह से शांतिपूर्ण और अनुकूल है.

पिछले हफ्ते रेल मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने कहा था कि पंजाब में ट्रेन सेवा बहाल करने से पहले राज्य सरकार को रेल संपत्तियों और कर्मचारियों की सुरक्षा का आश्वासन देना होगा. साथ आंदोलनकारी किसानों को पटरियों से हटाना होगा.

रेल सेवा शुरू करने के लिए कांग्रेस और बीजेपी के प्रतिनिधिमंडल ने भी रेल मंत्री से मुलाकात की थी. कांग्रेस के सांसदों ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह का एक पत्र सौंपा था, जिसमें रेलवे की संपत्ति की सुरक्षा का वादा किया गया था.

दूसरी ओर नए कृषि कानूनों के खिलाफ नवंबर के अंत तक एक और विरोध प्रदर्शन की किसान संगठनों की योजना से पहले केंद्र सरकार ने शनिवार को कहा कि ये कानून किसानों के हित में लाए गए हैं और किसानों के मन में किसी भी तरह की आशंका है तो सरकार बातचीत के लिए तैयार है.

संसद के मानसून सत्र में तीन नए कृषि कानूनों के पारित होने के बाद कांग्रेस शासित राजस्थान, छत्तीसगढ़ और पंजाब में किसान इनका विरोध कर रहे हैं. इन तीनों राज्यों ने केंद्रीय कानून को बेअसर करने के लिए अपने कानून पास किए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज