होम /न्यूज /पंजाब /

तीज पर दलितों के लिए खाने का काउंटर अलग लगाने, मंच से उतारने का आरोप- AAP नेता पर FIR दर्ज

तीज पर दलितों के लिए खाने का काउंटर अलग लगाने, मंच से उतारने का आरोप- AAP नेता पर FIR दर्ज

तीज कार्यक्रम के दौरान दलितों के लिए अलग से खाने का स्टॉल लगाने और 
लड़कियों को मंच से उतारने का मामला सामने आया है. (फोटो News18)

तीज कार्यक्रम के दौरान दलितों के लिए अलग से खाने का स्टॉल लगाने और लड़कियों को मंच से उतारने का मामला सामने आया है. (फोटो News18)

Punjab Dalit Atrocities: शिकायतकर्ता सुखदीप कौर ने पुलिस को दी शिकायत में कहा है कि 'जब मैं खाने के काउंटर पर गई तो कुलदीप कौर ने बताया कि दलितों के लिए अलग से स्टॉल है. कार्यक्रम के आयोजक रघवीर सिंह ने घोषणा करते हुए कहा कि दलित लड़कियों को मंच से उतर जाना चाहिए.'

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

तीज के कार्यक्रम के दौरान दलितों के लिए खाने का काउंटर अलग लगाने का मामला
मामले में दलित नेता किरणजीत सिंह गेहरी ने आईजी से मुलाकात की
गेहरी ने आरोपियों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी की मांग की, आंदोलन की धमकी दी

(एस. सिंह)
चंडीगढ़. पंजाब पुलिस ने दलित लड़कियों को खाने के काउंटर से कथित तौर पर भगाने और अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित काउंटर से खाना मंगवाने की बात कहने वाले आम आदमी पार्टी के नेता सहित तीज कार्यक्रम के आयोजकों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. शिकायतकर्ता सुखदीप कौर ने पुलिस को दी शिकायत में कहा है कि ‘जब मैं खाने के काउंटर पर गई तो कुलदीप कौर ने बताया कि दलितों के लिए अलग से स्टॉल है. कार्यक्रम के आयोजक रघवीर सिंह ने कहा कि दलित लड़कियों को मंच से उतर जाना चाहिए. कथित घटना बुधवार को मलूका गांव में हुई है.’

दि ट्रिब्यून के मुताबिक आरोपियों में आभूषण की दुकान के मालिक रघवीर सिंह और आप नेता लाखा सिंह भी शामिल हैं. रिपोर्ट के मुताबिक दलित नेता किरणजीत सिंह गेहरी ने बठिंडा रेंज के आईजी से मुलाकात की और आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी की मांग की है. दयालपुरा पुलिस ने कार्यक्रम के आयोजक रघवीर सिंह, जगसीर सिंह, लाखा सिंह और कुलदीप कौर के खिलाफ आईपीसी की धारा 506 और अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम की धारा 3 के तहत मामला दर्ज किया है. ये सभी मलूका गांव के रहने वाले हैं.

दलित परिवारों की 13 सदस्यीय कमेटी गठित
रघवीर भगत भईका गांव में एक आभूषण की दुकान के मालिक हैं, जबकि जगसीर मलूका नगर पंचायत अध्यक्ष के पति हैं. वहीं लाखा AAP नेता हैं. शिकायतकर्ता सुखदीप कौर ने दावा किया कि ‘जब मैं फूड काउंटर पर गई, तो कुलदीप कौर ने यह कहकर मुझे मना कर दिया कि दलितों के लिए एक अलग स्टॉल है. उसके बगल में खड़े स्वर्णा सिंह और जगसीर ने मुझे वही बताया.’ सुखदीप कौर ने आरोप लगाया कि कार्यक्रम के आयोजक रघवीर सिंह ने घोषणा करते हुए कहा कि दलित लड़कियों को मंच से उतर जाना चाहिए. इससे नाराज दलित महापंचायत के अध्यक्ष किरणजीत सिंह गेहरी ने शनिवार को बठिंडा रेंज के महानिरीक्षक (आईजी) एलके यादव से मुलाकात की और मांग की कि आरोपी को जल्द गिरफ्तार किया जाए. उन्होंने मलूका गांव का दौरा किया और पीड़ित परिवारों की 13 सदस्यीय समिति का गठन किया.

अकाल तख्त से हस्तक्षेप की मांग
गेहरी ने आरोप लगाया कि पीड़ितों को आरोपी शिकायत वापस लेने की धमकी दे रहे थे. उन्होंने कहा कि आईजी ने मुझे आश्वासन दिया है कि आरोपी को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा. दलित महापंचायत के अध्यक्ष ने यह भी मांग की है कि अकाल तख्त जत्थेदार को हस्तक्षेप करना चाहिए क्योंकि यह एक धार्मिक मामला भी है. आरोपी ने सिख समुदाय की जाति को लेकर दलितों के साथ भेदभाव किया है. उन्हें धार्मिक सजा मिलनी चाहिए. गेहरी ने आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी नहीं होने पर आंदोलन शुरू करने की धमकी दी है.

Tags: Aam aadmi party, Punjab

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर