COVID-19: पंजाब सरकार ने निजी अस्पतालों से की अपील- अभी टाल दें गैरजरूरी ऑपरेशन

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की फाइल फोटो

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की फाइल फोटो

पंजाब में कोरोना (Coronavirus) के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए सरकार ने निजी अस्पतालों (Private hospitals) से अनावश्यक सर्जरी ऑपरेशन 30 अप्रैल तक स्थगित करने की अपील की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 11, 2021, 9:38 AM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब में कोरोना (Coronavirus) के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए सरकार ने निजी अस्पतालों (Private hospitals)   से अनावश्यक सर्जरी ऑपरेशन 30 अप्रैल तक स्थगित करने की अपील की है. सरकार ने निजी अस्पतालों को निर्देश भी दिए हैं कि कोविड के मरीजों से निर्धारित की हुई फीस ही वसूली जाए.

इस समय राज्य में 213 निजी अस्पताल कोविड-19 (COVID-19) मरीज़ों की देखभाल कर रहे हैं और सरकार ने निजी अस्पतालों को 230 वेंटिलेटर (ventilators) मुहैया करवाए हैं, जिनकी हिदायतों के अनुसार सही प्रयोग किया जाए.

रेमडेसिवीर दवा की 20,000 से अधिक खुराक उपलब्ध

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग पंजाब के प्रमुख सचिव (Principal Secretary Health)  हुसन लाल ने कहा कि राज्य को रेमडेसिवीर दवा की 20,000 से अधिक खुराक मिली हैं, जोकि निजी अस्पतालों और सरकारी अस्पतालों में मुफ्त उपलब्ध करवाई गई हैं. उन्होंने अस्पतालों को निर्देश दिए कि वह मरीजों को सिर्फ तब तक अपने पास रखें जब तक उनके पास उचित देखरेख का उपयुक्त प्रबंध हो और यदि वह महसूस करते हैं कि मरीज की सेहत के बिगड़ने की संभावना है तो मरीज को समय पर स्तर-3 सुविधा में तुरंत रेफर किया जाना चाहिए.
प्रमुख सचिव स्वास्थ्य ने कहा कि कोविड टीका कीमती है और टीके की किसी भी तरह की बर्बादी को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. उन्होंने निजी अस्पतालों से अपील की कि वह आम लोगों की सुविधा के लिए कोविड टीकाकरण केंद्र स्थापित करें. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन की सप्लाई को प्रोटोकॉल के अनुसार इस्तेमाल किया जाए और यदि अतिरिक्त सप्लाई की जरूरत हो तो संबंधित जिलों के सिविल सर्जन से संपर्क किया जाए.



उन्होंने चिंता जाहिर की कि निजी अस्पतालों के विशेषज्ञ कोविड-19 मैनेजमेंट संबंधी आयोजित सत्रों में शामिल नहीं हो रहे और उनकी तरफ से डॉ. के.के. तलवार द्वारा आयोजित किए जा रहे इन सत्रों में शामिल होना सुनिश्चित बनाया जाए. पंजाब मेडिकल काउंसिल के प्रधान डॉ. ए.एस. सेखों ने स्वास्थ्य विभाग को विश्वास दिलाया कि काउंसिल द्वारा नियमों की पालना करने के लिए सभी अस्पतालों के साथ तालमेल किया जाएगा और वेबीनार सेशन में शामिल होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज