होम /न्यूज /पंजाब /नई कृषि नीति बनाने में जुटी पंजाब सरकार, कृषि वैज्ञानिकों और किसानों की लेगी सलाह

नई कृषि नीति बनाने में जुटी पंजाब सरकार, कृषि वैज्ञानिकों और किसानों की लेगी सलाह

पंजाब सरकार नई कृषि नीति बना रही है ताकि किसानों को फायदा मिले. ( प्रतीकात्‍मक फोटो)

पंजाब सरकार नई कृषि नीति बना रही है ताकि किसानों को फायदा मिले. ( प्रतीकात्‍मक फोटो)

पंजाब (Punjab) में नई कृषि नीति के तहत शुद्ध पानी, शुद्ध वातावरण और उपजाऊ भूमि की तैयारी की जा रही है. यह नीति बनाने के ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

पंजाब में बन रही नई कृषि नीति, सरकार ने लिया फैसला
कृषि वैज्ञानिकों और किसानों से ली जा रही है सलाह
शुद्ध पानी, शुद्ध वातावरण बने, इसके लिए होंगे प्रबंध

एस. सिंह

चंडीगढ़. पंजाब सरकार (Punjab government) ने किसानों के लिए नई कृषि नीति तैयार करनी शुरू कर दी है. नई कृषि नीति 31 मार्च, 2023 तक बनकर तैयार हो जाएगी. नई नीति पंजाब की भौगोलिक स्थिति, मिट्टी की सेहत, फसलों और पानी की उपलब्धता को मुख्य रख कर तैयार की जाएगी, जिसके लिए प्रसिद्ध कृषि वैज्ञानिकों और किसान जत्थेबंदियों के साथ सलाह मशवरे किये जा रहे हैं. राज्य सरकार कृषि क्षेत्र को मजबूत करने का हर संभव यत्न करेगी.

पंजाब के कृषि मंत्री कुलदीप सिंह धालीवाल ने बताया कि पिछली सरकारों के गैर जिम्मेदाराना रवैये के कारण और गलत नीतियों के कारण पंजाब का शुद्ध पानी, शुद्ध हवा और वातावरण और उपजाऊ भूमि अब दूषित पानी, जहरीली हवा और गैर- उपजाऊ भूमि में बदल रही है, जिसको साफ नीति और नीयत से बदलने की जरूरत है. प्राकृतिक कृषि के लिए अलग नीति बनाने का ऐलान करते हुए कृषि मंत्री ने कहा कि कृषि में खादों, रसायनों, और कीटनाशकों के अधिक प्रयोग के कारण लोगों को स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि पंजाब को पहले वाली स्थिति में लाने के लिए प्राकृतिक कृषि के अनुसार काम करने की जरूरत है. कृषि मंत्री ने कहा कि कृषि सिर्फ़ कृषि नहीं, यह जीवन के साथ जुड़ा हुआ मुद्दा है. उन्होंने कोआपरेटिव प्रणाली को आबाद करने की जरूरत पर ज़ोर देते हुए कहा कि कृषि को जरूरत मुताबिक करने की जरूरत है.

कृषि मंत्री ने कृषि में आई असुरक्षा को दूर करने की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुए कहा कि राज्य सरकार कृषि को बचाने की दिशा में सबके सहयोग के साथ आगे बढ़ेगी. उन्होंने कहा कि कृषि करने के लिए बड़ी मशीनें खरीदने की जगह छोटी मशीनों का प्रयोग करना चाहिए, जिससे किसानों की आर्थिक स्थिति में भी सुधार होगा. पंजाब की फसलों, पानी और मिट्टी और वातावरण को केंद्र में रख कर अलग-अलग सम्मेलन करने का किया ऐलान करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य सरकार कृषि वैज्ञानिकों और तजुर्बेकार लोगों की मदद से कृषि क्षेत्र को मजबूत करने का हर संभव यत्न करेगी.

Tags: Agriculture, Punjab Government

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें