होम /न्यूज /पंजाब /पंजाब सरकार ने पूर्व खाद्य मंत्री आशु के खिलाफ विजिलेंस ब्यूरो को दी केस चलाने की मंजूरी, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

पंजाब सरकार ने पूर्व खाद्य मंत्री आशु के खिलाफ विजिलेंस ब्यूरो को दी केस चलाने की मंजूरी, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

पंजाब सरकार ने पूर्व खाद्य मंत्री आशु के खिलाफ वीबी को दी केस चलाने की मंजूरी. (फोटो-ANI)

पंजाब सरकार ने पूर्व खाद्य मंत्री आशु के खिलाफ वीबी को दी केस चलाने की मंजूरी. (फोटो-ANI)

Punjab News: लुधियाना के वीबी पुलिस स्टेशन में धारा 420, 409, 467, 468, 471 और 120-बी, आईपीसी, और 7, 8, 12, 13 (2), भ्र ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

पंजाब सरकार ने पूर्व खाद्य मंत्री आशु के खिलाफ वीबी को दी केस चलाने की मंजूरी  
22 अगस्त को गिरफ्तार हुए थे पूर्व मंत्री
भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई थी

रिपोर्ट- एस. सिंह

चंडीगढ़. पंजाब सरकार ने राज्य सतर्कता ब्यूरो (वीबी) को कथित परिवहन निविदा घोटाले में पूर्व खाद्य और आपूर्ति मंत्री भारत भूषण आशु के खिलाफ मुकदमा चलाने की मंजूरी दे दी है. विजिलेंस ने पंजाब विजिलेंस ब्यूरो (वीबी) ने हाल ही में खाद्यान्न परिवहन निविदा घोटाले में पूर्व मंत्री भारत भूषण आशु, ठेकेदार तेलू राम और कमीशन एजेंट कृष्ण लाल के खिलाफ अदालत में 1,556 पन्नों का आरोप पत्र दायर किया था. पूर्व मंत्री को 22 अगस्त को भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार किया गया था.

इन धाराओं में दर्ज हुआ FIR
लुधियाना के वीबी पुलिस स्टेशन में धारा 420, 409, 467, 468, 471 और 120-बी, आईपीसी, और 7, 8, 12, 13 (2), भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई थी. आरोपी पूर्व मंत्री जेल में हैं, क्योंकि उनकी जमानत अर्जी एक स्थानीय अदालत के साथ-साथ पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने खारिज कर दी है. विजिलेंस ब्यूरो के अधिकारियों ने दावा किया कि मामले में आगे की जांच जारी है और अन्य आरोपियों के खिलाफ पूरक आरोप पत्र यथा समय पेश किया जाएगा.

जेल में बंद सिद्धू को प्रियंका ने लिखा खत, बाहर आते ही कांग्रेस हाईकमान हो सकता है मेहरबान!

खाद्यान्न के गबन का मामला
वीबी ने आरोप लगाया था कि ऐसे कई ठेकेदारों में से एक तेलू राम ने 26 लाख रुपये की रिश्वत देकर लुधियाना जिले की मंडियों से गेहूं और धान के अनाज को उठाने और परिवहन करने का ठेका हासिल किया था. वीबी ने कहा कि खाद्यान्न की लोडिंग या अनलोडिंग से संबंधित इन-गेट पास और गाड़ी के लिए उपयोग किए जाने वाले वाहनों के पंजीकरण नंबर स्कूटर, मोटरसाइकिल या कारों के पाए गए, जो खाद्यान्न का परिवहन नहीं कर सकते थे. वीबी ने कहा कि उक्त वाहनों के पंजीकरण संख्या के विवरण के साथ-साथ इन गेट पास में उल्लिखित वस्तु की मात्रा प्रथम दृष्टया फर्जी रिपोर्टिंग और खाद्यान्न के गबन का मामला प्रतीत होता है. वीबी ने कहा कि कृष्ण लाल सस्ते दामों पर यूपी और बिहार से अनाज खरीदता था और उसे पंजाब में ऊंचे दामों पर बेचता था.

Tags: Arrested, Punjab, Vigilance

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें