होम /न्यूज /पंजाब /

Punjab: CM भगवंत मान ने आज बुलाई कैबिनेट और MLA की अलग-अलग मीट‍िंग, तय होगी आगे की रणनीत‍ि

Punjab: CM भगवंत मान ने आज बुलाई कैबिनेट और MLA की अलग-अलग मीट‍िंग, तय होगी आगे की रणनीत‍ि

पंजाब के मुख्‍यमंत्री भगवंत मान ने आज व‍िधायकों की अहम बैठक बुलाई है. (File Photo)

पंजाब के मुख्‍यमंत्री भगवंत मान ने आज व‍िधायकों की अहम बैठक बुलाई है. (File Photo)

Punjab Assembly Special Session: पंजाब के मुख्‍यमंत्री भगवंत मान ने आज व‍िधायकों की अहम बैठक बुलाई है. आज सुबह नौ बजे चंडीगढ़ में बुलाई गई इस बैठक में आगे की रणनीत‍ि तय की जाएगी. इसके बाद कैब‍िनेट की खास मीट‍िंग भी बुलाई गई है. पंजाब सच‍िवालय में सुबह 10.30 बजे कैब‍िनेट मीट‍िंग में राज्‍यपाल की ओर से रद्द क‍िए गए व‍िशेष सत्र के आदेश को लेकर चर्चा कर कोई ठोस न‍िर्णय ल‍िए जाने की प्रबल संभावना जताई जा रही है.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

पंजाब कैबिनेट ने विश्वास प्रस्ताव लाने को आज गुरुवार को बुलाया था विधानसभा का विशेष सत्र
मुख्यमंत्री भगवंत मान ने आज सुबह 9 बजे बुलाई आप विधायकों की बैठक
आप व‍िधायकों की मीट‍िंग के बाद सच‍िवालय में बुलाई गई कैब‍िनेट मीट‍िंग

चंडीगढ़. पंजाब की आम आदमी पार्टी सरकार की ओर से आज बृहस्‍पत‍िवार को व‍िधानसभा का व‍िशेष सत्र (Punjab Assembly Special Session) बुलाया गया था. लेक‍िन इससे ठीक एक द‍िन पहले बुधवार को पंजाब के राज्यपाल (Punjab Governor) ने कानूनी कारणों का हवाला देते हुए विधानसभा के व‍िशेष सत्र को बुलाने के अपने आदेश को वापस ले लिया है.

व‍िशेष सत्र बुलाने के आदेश पर नेता प्रत‍िपक्ष प्रताप सिंह बाजवा, कांग्रेस विधायक सुखपाल सिंह खैरा और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष और विधायक अश्विनी शर्मा ने कड़ी आपत्‍त‍ि जताई थी और राज्यपाल को पत्र भी ल‍िखा था. इसमें कहा गया था कि राज्य सरकार (Punjab Government) के पक्ष में विश्वास प्रस्ताव लाने के लिए विशेष सत्र बुलाने का कोई कानूनी प्रावधान नहीं है.

पंजाब विधानसभा का विशेष सत्र रद्द, भगवंत मान के विश्वास प्रस्ताव से एक दिन पहले राज्यपाल ने वापस लिया आदेश

इस पूरे प्रकरण के बाद अब पंजाब की आम आदमी पार्टी सरकार (AAP Government) ने भी आगे की रणनीत‍ि पर व‍िचार व‍िमर्श क‍िया है. पंजाब के मुख्‍यमंत्री भगवंत मान ने आज व‍िधायकों की अहम बैठक बुलाई है. आज सुबह 9 बजे चंडीगढ़ में बुलाई गई इस बैठक में आगे की रणनीत‍ि तय की जाएगी. मीट‍िंग में राज्‍यपाल की ओर से व‍िशेष सत्र बुलाए जाने के आदेश को एक द‍िन पहले वापस लेने के मामले पर चर्चा की जाएगी. इसके बाद सीएम मान ने कैब‍िनेट की खास मीट‍िंग भी बुलाई है. पंजाब सच‍िवालय में सुबह 10.30 बजे कैब‍िनेट मीट‍िंग भी बुलाई गई ज‍िसमें कोई ठोस न‍िर्णय ल‍िए जाने की प्रबल संभावना जताई जा रही है.

बताते चलें क‍ि पंजाब के राज्यपाल कार्यालय की ओर से बुधवार को जारी एक बयान में कहा गया था क‍ि इस मामले की जांच की गई और भारत के अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल सत्यपाल जैन से कानूनी राय मांगी गई. उन्होंने अपनी कानूनी राय दी है कि पंजाब विधानसभा के प्रक्रिया और कार्य संचालन के नियमों में केवल ‘विश्वास प्रस्ताव’ पर विचार करने के लिए विधानसभा को बुलाने के संबंध में कोई विशेष प्रावधान नहीं है.

बयान में आगे कहा गया था कि उपरोक्त कानूनी राय के आलोक में, जो स्थापित करता है कि पंजाब विधानसभा के प्रक्रिया और कार्य संचालन के नियमों के तहत कोई कानूनी प्रावधान नहीं है जो केवल विश्वास प्रस्ताव के लिए एक विशेष सत्र बुलाने का प्रावधान करता है. अत: पंजाब के राज्यपाल ने 22 सितंबर को विधानसभा बुलाने के संबंध में अपना आदेश वापस ले लिया है.

उधर, पंजाब से आम आदमी पार्टी के राज्‍यसभा सांसद राघव चड्ढा ने कहा कि राज्यपाल का ये फैसला उनकी मंशा पर सवालिया निशान खड़ा करता है. उन्होंने कहा कि ये फैसला समझ से परे है. विधानसभा का सामना करने के सरकार के फैसले पर कोई आपत्ति क्यों होनी चाहिए? उनका आदेश ऑपरेशन लोटस के भयावह साजिश को साबित करता है.

इसके साथ ही इस फैसले के बाद द‍िल्‍ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट के जर‍िए अपनी प्रतिक्रिया दी थी. ट्वीट कर अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कैबिनेट की ओर से बुलाए सत्र को राज्यपाल कैसे मना कर सकते हैं? फिर तो जनतंत्र खत्म है. उन्होंने आगे लिखा दो दिन पहले राज्यपाल ने सत्र की इजाजत दी. जब ऑपरेशन लोटस फेल होता लगा और संख्या पूरी नहीं हुई तो ऊपर से फोन आया कि इजाजत वापस ले लो. आज देश में एक तरफ संविधान है और दूसरी तरफ ऑपरेशन लोटस.

Tags: AAP Government, Bhagwant Mann, Governor, Punjab Assembly Session, Punjab Government, Punjab news

अगली ख़बर