वैक्सीनेशन में पंजाब राष्ट्रीय औसत से पिछड़ा, केंद्र से भेजी 66 फीसदी ही वैक्सीन हुई इस्तेमाल

कोरोना वैक्‍सीनेशन के मामले में पंजाब पिछड़ा गया है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

कोरोना वैक्‍सीनेशन के मामले में पंजाब पिछड़ा गया है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

Covid-19 Vaccination: केंद्र सरकार ने पंजाब को पत्र लिखकर निर्देश दिए हैं कि राज्य में वैक्सीनेशन की रफ्तार को तेज करना होगा. पत्र में फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन देने पर बल दिया गया है.

  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब कोविड-19 वैक्सीनेशन (Covid-19 Vaccination)  की मुहिम में राष्ट्रीय औसत से पिछड़ गया है. केंद्र सरकार (Central government) द्वारा मुहैया कराई गई वैक्सीन का राज्‍य सरकार अभी तक केवल 67 फीसदी ही इस्तेमाल कर पाई है. इसमें बर्बाद हुई वैक्सीन की संख्या भी शामिल है. केंद्र सरकार ने इस बाबत राज्य सरकार को एक पत्र भी लिखा और वैक्सीनेशन की मुहिम को तेज करने के निर्देश दिए हैं.

केंद्र सरकार ने राज्य को पत्र लिखकर निर्देश दिए हैं कि राज्य में वैक्सीनेशन की रफ्तार को तेज करना होगा. पत्र में फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन देने पर बल दिया गया है. केंद्र सरकार का कहना है कि पंजाब को केंद्र ने कोविड वैक्सीन की 22,36,770 डोज उपलब्ध करवाई थी. इसमें से राज्य स्वास्थ्य विभाग 14,94,663 का इस्तेमाल ही कर पाया है.

ये भी पढ़ें: कोरोना का कहर: नोएडा में 17 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू का ऐलान, गाजियाबाद में भी बढ़ी सख्ती



ये भी पढ़ें: कोरोना के बिगड़ते हालात पर 6:30 बजे PM मोदी की बैठक, ममता नहीं होंगी शामिल
पंजाब के अलावा दिल्ली और महाराष्ट्र भी पिछड़े
केंद्र सरकार की तरफ से ये पत्र पंजाब सहित दिल्ली और महाराष्ट्र के मुख्य सचिव को भी भेजा गया है. केंद्र सरकार ने कहा है कि ये तीनों राज्य वैक्सीनेशन में राष्ट्रीय औसत से पीछे चल रहे हैं. हालांकि इससे पहले महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में वैक्सीन की कमी होने का दावा करते हुए कहा था कि राज्य के पास एक या दो दिन का वैक्सीन का स्टॉक बचा है. इसके बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा था कि सभी राज्यों के पास पर्याप्त वैक्सीन है और राज्य अपनी कमियों को छुपाने के लिए वैक्सीन की कमी का बहाना बना रहे हैं.

कैप्टन ने किया है 2 लाख वैक्सीन लगाने का टारगेट
राज्य सरकार के इस पत्र के बाद ही मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बुधवार को स्वास्थ्य विभाग के लिए प्रतिदिन 2 लाख लोगों का टीकाकरण करने का टारगेट फिक्स किया है. उन्होंने एक मरीज के संपर्क में आए 30 लोगों के टेस्ट भी सुनिश्चित करने के आदेश दिए हैं. इसके साथ ही राज्य में 50 हजार लोगों की सैंपलिंग भी अनिवार्य कर दी गई है. मुख्यमंत्री ने कहा कि मौजूदा टीकाकरण मुहिम के अंतर्गत रोजाना लगभग 90,000 लोगों को टीके लगाए जा रहे हैं, परंतु इसको रोजाना 2 लाख लोगों तक पहुंचाने की जरूरत है. उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए कि इस मुहिम को और तेज करने के लिए तुरंत कदम उठाए जाएं, क्योंकि टीकाकरण कोरोना के फैलाव को रोकने का एकमात्र जरिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज