MLA खैहरा पर ED की कार्रवाई की सदन में निंदा, विधायक बोले- केंद्र सरकार का टूल है एजेंसी

कुछ विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष राणा केपी सिंह से इस प्रकार की गतिविधियों को रोकने के लिए सदन में एक प्रस्ताव पारित करने का अनुरोध किया.

कुछ विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष राणा केपी सिंह से इस प्रकार की गतिविधियों को रोकने के लिए सदन में एक प्रस्ताव पारित करने का अनुरोध किया.

ED raid at MLA Sukhpal Khaira: आप विधायक कंवर संधू ने कहा कि ईडी को खैहरा के घर पर छापा मारने से पहले राज्य सरकार से अनुमति लेनी चाहिए थी.

  • Share this:
चंडीगढ़. बजट सत्र (Budget session) के दौरान सत्तापक्ष और विपक्ष के विधायकों ने पंजाब एकता पार्टी के विधायक सुखपाल खैहरा (MLA Sukhpal Khaira) के घर पर प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate ED) की रेड की निंदा की. विधायकों का कहना था कि क्योंकि खैहरा किसान आंदोलन के आंदोलनकारी किसानों की आवाज उठा रहे थे, इसलिए उन्हें निशाना बनाया जा रहा है. इस मामले को सदन में खरड़ से आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) के विधायक कंवर संधू (Kanwar Sandhu), शिरोमणि अकाली दल (Shiromani Akali Dal) के विधायक परमिंदर सिंह ढिंढसा (Parminder Singh Dhindsa), कैबिनेट मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Cabinet Minister Charanjit Singh Channi) और कांग्रेस विधायक नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने उठाया.

विधायक बोले रेड से पहले लेनी चाहिए थी अनुमति
इनमें से कुछ विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष राणा केपी सिंह से इस प्रकार की गतिविधियों को रोकने के लिए सदन में एक प्रस्ताव पारित करने का अनुरोध किया. इन नेताओं का कहना था कि खैहरा आंदोलनकारी किसानों के मुद्दों को उठा रहे थे, जिसके बाद उन्हें केंद्र सरकार ने निशाना बनाया. आप विधायक कंवर संधू ने कहा कि ईडी को खैहरा के घर पर छापा मारने से पहले राज्य सरकार से अनुमति लेनी चाहिए थी.

Youtube Video

केंद्र सरकार के इरादे निंदनीय


परमिंदर सिंह ढींडसा ने कहा कि ईडी अब केंद्र सरकार का एक हथियार बन गई है. सुखपाल खैहरा ने दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों के मुद्दों और नवप्रीत सिंह की मौत के विवादास्पद मुद्दे को उठाया था. केंद्र सरकार अपने टूल (ईडी) के माध्यम से अब खैहरा को निशाना बना रही है. उन्होंने कहा कि इसे रोका जाना चाहिए.

कैबिनेट मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा कि केंद्र सरकार के इरादे निंदनीय हैं. आज एक ही घर में आग लगी है, लेकिन यह जल्द ही अन्य नेताओं के घरों की ओर फैल सकती है. ईडी पंजाब और बड़े पैमाने पर आंदोलन को दबाने की कोशिश कर रहा है. किसानों का साथ देने वाले नेताओं पर दबाव डालकर केंद्र सरकार उन्हें भाजपा में शामिल करना चाह रही है.

नवजोत सिद्धू ने कहा कि "मैंने लंबे समय से एक शब्द नहीं बोला है, लेकिन अब मुझे लगता है कि यह एक चिंता का विषय है. उन्होंने कहा कि अपनी शक्ति दिखाते हुए ईडी पंजाब के उन नेताओं पर शिकंजा कस रही है, जो किसानों का समर्थन कर रहे हैं. क्या यह है लोकतंत्र? मैं ऐसे मुद्दों पर मैं कभी चुप नहीं रहूंगा."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज