लाइव टीवी

'करतारपुर यात्रा के लिए 20 डॉलर सेवा शुल्क अदा करे शिरोमणि प्रबंधक गुरुद्वारा कमेटी'

भाषा
Updated: November 13, 2019, 11:05 PM IST
'करतारपुर यात्रा के लिए 20 डॉलर सेवा शुल्क अदा करे शिरोमणि प्रबंधक गुरुद्वारा कमेटी'
अमरिंदर ने बुधवार को इसके लिए यह तर्क दिया कि करतारपुर गलियारा शुरू होने के बाद से बहुत कम संख्या में श्रद्धालु वहां जा पा रहे हैं.

पंजाब के मुख्यमंत्री (Punjab CM) अमरिंदर सिंह (Amrinder Singh) ने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (SGPC) से गुरुद्वारा दरबार साहिब की यात्रा के लिए पाकिस्तान द्वारा लिए जा रहे 20 डॉलर का सेवा शुल्क अपने खजाने से अदा करने को कहा है.

  • भाषा
  • Last Updated: November 13, 2019, 11:05 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब के मुख्यमंत्री (Punjab CM) अमरिंदर सिंह (Amrinder Singh) ने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (SGPC) से गुरुद्वारा दरबार साहिब की यात्रा के लिए पाकिस्तान द्वारा लिए जा रहे 20 डॉलर का सेवा शुल्क अपने खजाने से अदा करने को कहा है. अमरिंदर ने बुधवार को इसके लिए यह तर्क दिया कि करतारपुर गलियारा शुरू होने के बाद से बहुत कम संख्या में श्रद्धालु वहां जा पा रहे हैं.

मुख्यमंत्री ने गुरु नानक देव के 550 वें प्रकाश वर्ष को मनाने के लिए मंगलवार को सुल्तानपुर लोधी में अलग कार्यक्रम आयोजित करने पर एसजीपीसी के अकूत खर्च करने का जिक्र करते हुए कहा कि यह दृष्टांत है कि धार्मिक संस्था (एसजीपीसी) के पास प्रचुर मात्रा में धन है. उन्होंने कहा कि कम संख्या में श्रद्धालुओं का गुरुद्वारा दरबार साहिब जाना रुचि में कमी के चलते नहीं है बल्कि दो शर्तों के चलते हैं-पासपोर्ट और 20 डॉलर शुल्क, जिसे पड़ोसी देश ने लगाया है.



अधिकारियों ने बताया कि करतारपुर गलियारा का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नौ नवंबर को उद्घाटन किये जाने के बाद पहले तीन दिनों में महज 897 श्रद्धालु ही वहां (पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा) जा सके.मुख्यमंत्री ने कहा कि सिखों के शीर्ष धार्मिक संगठन एवं प्रचुर मात्रा में नकदी रखने वाले एसजीपीसी को कम से कम ‘पीला कार्ड धारकों’ का सेवा शुल्क वहन करना चाहिए. ये ऐसे श्रद्धालु हैं जो गरीबी रेखा से नीचे गुजर-बसर करते हैं और वे यह शुल्क वहन नहीं कर सकते. श्रद्धालुओं के बीच भ्रम की स्थिति की खबरों के मद्देनजर मुख्यमंत्री ने दोनों देशों, भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों से करतारपुर गलियारा के जरिए यात्रा के लिए पासपोर्ट की शर्त में छूट देने का भी अनुरोध किया.

उन्होंने कहा कि आधार कार्ड और ड्राइविंग लाइसेंस जैसे अन्य पहचान पत्रों को भी स्वीकार किया जाना चाहिए. एसजीपीसी को आड़े हाथ लेते हुए सिंह ने कहा कि अपने अहम को पूरा करने के लिये धन खर्च करने और इस धार्मिक मौके के मार्फत राजनीतिक हित साधने के बजाय उसे यह राशि श्रद्धालुओं की मदद के लिये खर्च करना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘एसजीपीसी और उनके राजनीतिक आका, शिरोमणि अकाली दल (शिअद) और खासतौर पर बादल परिवार समुदाय के वास्तविक हित के लिये धन क्यों नहीं खर्च करते.’ उल्लेखनीय है कि गुरु नानक देव के 550 वें प्रकाश पर्व के संयुक्त समारोहों के मुद्दे को लेकर कांग्रेस नीत पंजाब सरकार और एसजीपीसी के बीच तरकार रही.
ये भी पढ़ें:

MNC में जॉब करने वाली लड़की से कार चालक ने रेप का किया प्रयास

सीएम ने बुलाई बीजेपी विधायक दल की बैठक, रात्रिभोज में जेजेपी भी होगी शामिल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ (पंजाब) से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 10:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर