• Home
  • »
  • News
  • »
  • punjab
  • »
  • गन्ना किसानों ने जाम किए रेलवे ट्रैक और हाईवे , पंजाब, हरियाणा की 50 से ज्यादा ट्रेनें रद्द

गन्ना किसानों ने जाम किए रेलवे ट्रैक और हाईवे , पंजाब, हरियाणा की 50 से ज्यादा ट्रेनें रद्द

करोड़ों किसानों ने बीते शुक्रवार को अनिश्चित काल के लिए आंदोलन शुरू किया है ताकि पंजाब सरकार पर गन्ना बकाया और गन्ना कीमतों में बढ़ोतरी से संबंधित उनकी मांगों को स्वीकार करने के लिए दबाव डाला जा सके.

करोड़ों किसानों ने बीते शुक्रवार को अनिश्चित काल के लिए आंदोलन शुरू किया है ताकि पंजाब सरकार पर गन्ना बकाया और गन्ना कीमतों में बढ़ोतरी से संबंधित उनकी मांगों को स्वीकार करने के लिए दबाव डाला जा सके.

Farmer Protest: जालंधर-चहेरू खंड पर बैठे किसानों ने जालंधर में लुधियाना-अमृतसर और लुधियाना-जम्मू रेल पटरियों को अवरुद्ध कर दिया है, जिससे अमृतसर-नई दिल्ली और अमृतसर-नई दिल्ली शेन-ए-पंजाब सहित कई ट्रेनें प्रभावित हुई हैं.

  • Share this:

    चंडीगढ़. गन्ने की कीमतों (Sugarcane Prices) में बढ़ोतरी की मांग कर रहे किसानों (Farmers) ने शनिवार को जालंधर में रेल ट्रैक और एक राष्ट्रीय राजमार्ग (Rail tracks and a National highway) को अवरुद्ध कर दिया, जिससे ट्रेनों और वाहनों की आवाजाही प्रभावित हुई है. फिरोजपुर मंडल (Firozpur division) के रेलवे अधिकारियों के अनुसार 50 ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है, जबकि 54 को या तो डायवर्ट किया गया है या शॉर्ट टर्मिनेट (Short terminated) किया गया है. हरियाणा की अंबाला छावनी में भी कई ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है.

    लाखों किसानों ने बीते शुक्रवार को अनिश्चित काल के लिए आंदोलन शुरू किया है ताकि पंजाब सरकार पर गन्ना बकाया और गन्ना कीमतों में बढ़ोतरी से संबंधित उनकी मांगों को स्वीकार करने के लिए दबाव डाला जा सके. शनिवार को किसानों ने अपनी मांगें पूरी होने तक नाकेबंदी हटाने से इनकार कर दिया है. उन्होंने कहा कि हालांकि आपातकालीन वाहनों को चलने की अनुमति दी गई है.

    ये भी पढ़ें:- Taliban 2.0: पहले से ज्यादा पैसा, लुक भी अलग- 20 सालों में इतना बदल गया तालिबान

    दि ट्रिब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक जालंधर-चहेरू खंड पर बैठे किसानों ने जालंधर में लुधियाना-अमृतसर और लुधियाना-जम्मू रेल पटरियों को अवरुद्ध कर दिया है, जिससे अमृतसर-नई दिल्ली और अमृतसर-नई दिल्ली शेन-ए-पंजाब सहित कई ट्रेनें प्रभावित हुई हैं. वे मांग कर रहे हैं कि पंजाब सरकार गन्ने का राज्य सुनिश्चित मूल्य (एसएपी) बढ़ाए और 200 करोड़-250 करोड़ रुपये के बकाया का जल्द भुगतान करे. जालंधर जिले के धनोवली गांव के पास प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रीय राजमार्ग के जालंधर-फगवाड़ा खंड को जाम कर किया है. नाकाबंदी से जालंधर, अमृतसर और पठानकोट आने-जाने वाले यातायात प्रभावित हुए, हालांकि प्रशासन ने वैकल्पिक मार्गों से यातायात को डायवर्ट किया.

    गौरतलब है कि राज्य के गन्ना काश्तकारों के हितों की सुरक्षा के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) ने आज पिराई सीजन, 2021-22 के लिए गन्ने की सभी कीमतों के ऐग्रिड प्राइस (एसएपी) में प्रति क्विंटल 15 रुपये की बढ़ोतरी करने की मंजूरी दी है. इस फैसले से गन्ने के भाव में हुए वृद्धि के मुताबिक अग्रिम किस्म की कीमत 310 रुपये से बढ़ कर 325 रुपये, दरमियानी किस्म 300 से 315 रुपये और पिछेती किस्म 295 से बढ़कर 310 रुपये प्रति क्विंटल हो गई है. आगामी पिराई सीजन 2021-22 के लिए राज्य भर में 1.10 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल गन्ने की काश्त अधीन है जिसमें से चीनी मिलों द्वारा लगभग 660 लाख क्विंटल गन्ने की पिराई की जाएगी. सरकार की माने तो गन्ने की कीमतों में हुई वृद्धि से पंजाब के किसानों को बीते साल की अपेक्षा 230 करोड़ रुपये का और ज्यादा लाभ होगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज