• Home
  • »
  • News
  • »
  • punjab
  • »
  • विधानसभा चुनाव से पहले बदल सकती है पंजाब की सूरत, सरकार ने दिया ये मौका

विधानसभा चुनाव से पहले बदल सकती है पंजाब की सूरत, सरकार ने दिया ये मौका

पंजाब में गांवों को स्‍वच्‍छ बनाने के लिए स्‍वच्‍छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2021 शुरू किया जा रहा है.

पंजाब में गांवों को स्‍वच्‍छ बनाने के लिए स्‍वच्‍छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2021 शुरू किया जा रहा है.

पंजाब से किन्‍ही भी 521 गांवों को अचानक इस सर्वे के लिए चुना जाएगा. जिनमें पहुंचकर सर्वे करने वाली एजेंसी गांव के 10 घरों और पांच सार्वजनिक स्‍थानों को स्‍वच्‍छता के पैमाने पर परखेगी. सर्वे के बाद गांवों और जिलों में भी तुलना की जाएगी. इनमें जो भी गांव सबसे बेहतर और साफ मिलेगा वह राष्‍ट्रीय स्‍तर की रैंकिंग में शामिल होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    चंडीगढ़. पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election) 2022 से पहले राज्‍य की सूरत बदल सकती है. पंजाब के हर एक गांव को साफ और स्‍वच्‍छ बनाने के लिए सरकार जल्‍द ही एक सर्वे (Survey) कराने जा रही है. जिसमें गांवों की स्‍वच्‍छता आंकी जाएगी. हालांकि इससे पहले सरकार सभी गांववासियों और पंचायतों के अलावा प्रशासन को गांवों की हालत सुधारने के लिए एक मौका दे रही है.

    देशभर में चलाए जाने वाले स्‍वच्‍छ भारत मिशन (Swachh Bharat Mission) और राष्‍ट्रीय स्‍वच्‍छ सर्वेक्षण से अलग पंजाब सरकार के वाटर सप्‍लाई और सेनिटेशन विभाग (Water Supply and Sanitation Department) ने स्‍वच्‍छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2021 लांच किया है ताकि राज्‍य के गांव गुणवत्‍तापूर्ण स्‍वच्‍छता के पैमानों के अनुसार राष्‍ट्रीय रेंकिंग में शामिल हो जाएं. इसके साथ ही पंजाब अपने स्‍तर पर स्‍वच्‍छ सर्वेच्‍छण ग्रामीण लांच करने वाला पहला राज्‍य भी बन गया है.

    इस बारे में प्रधान सचिव जसप्रीत तलवार का कहना है कि गांवों में यह सर्वे एक स्‍वतंत्र सर्वे एजेंसी इप्‍सोस रिसर्च करेगी. पंजाब से किन्‍ही भी 521 गांवों को अचानक इस सर्वे के लिए चुना जाएगा. जिनमें पहुंचकर सर्वे करने वाली एजेंसी गांव के 10 घरों और पांच सार्वजनिक स्‍थानों को स्‍वच्‍छता के पैमाने पर परखेगी. सर्वे के बाद गांवों और जिलों में भी तुलना की जाएगी. इनमें जो भी गांव सबसे बेहतर और साफ मिलेगा वह राष्‍ट्रीय स्‍तर की रैंकिंग में शामिल होगा.

    तलवार कहती हैं कि ऐसा गांवों को और भी ज्‍यादा साफ-सुथरा और ग्रामीणों को सफाई के प्रति जागरुक बनाने के लिए किया जा रहा है. खास बात है कि सिर्फ सर्वे ही नहीं इस दौरान ग्रामीणों का फीडबैक भी मायने रखेगा. साथ ही प्रशासन या पंचायत की ओर से किए जा रहे सॉलिड या लिक्विड वेस्‍ट मैनेजमेंट (Solid or Liquid Waste Management) के लागू होने की सफलता को भी परखा जाएगा.

    गांवों के लिए 25 अक्‍टूबर तक का है समय

    एसएसजी के तहत गांवों को साफ और स्‍वच्‍छ बनाने के लिए जिला प्रशासन के अलावा पंचायत ग्रामीण विकास विभाग, ग्राम पंचायतें और अन्‍य विभागों को काम करना होगा. साथ ही ग्रामीणों को भी गांवों को साफ बनाने में मदद करनी होगी. इसके लिए 25 अक्‍टूबर तक का समय दिया गया है. इसके बाद 25 अक्‍टूबर से 23 दिसंबर तक गांवों में स्‍वच्‍छता सर्वे किया जाएगा और सफाई का आकलन किया जाएगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज