Home /News /punjab /

the government will open medical colleges in every district the number of mbbs seats will double in five years

पंजाब: हर जिले में मेडिकल कॉलेज खोलेगी मान सरकार, 5 साल में MBBS की सीटें होंगी डबल

पंजाब के सीएम भगवंत मान की फाइल फोटो

पंजाब के सीएम भगवंत मान की फाइल फोटो

कम सीटें और कड़ी प्रतिस्पर्धा की वजह से पंजाब के छात्र मेडिकल की पढ़ाई के लिए विदेश जाने पर मजबूर होते हैं. लेकिन अब छात्रों को अपने ही राज्य में चिकित्सा की अच्छी शिक्षा मिल सकेगी. इसके लिए पंजाब सरकार हर जिले में मेडिकल कॉलेज खोलने की योजना बना रही है.

अधिक पढ़ें ...

चंडीगढ़. पंजाब में भगवंत मान सरकार ने राज्य की बीमार स्वास्थ्य सुविधाओं को स्वस्थ करने के लिए एक दूरगामी रोडमैप तैयार किया है. इसके तहत सरकार गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा की पहुंच बढ़ाने के उद्देश्य से पंजाब के प्रत्येक जिले में एक मेडिकल कॉलेज खोलने की योजना बना रही है. पंजाब में सीटों की सीमित संख्या के कारण उम्मीदवारों को विशेष रूप से सरकारी कॉलेजों के लिए बड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ता है, क्योंकि निजी संस्थान लाखों में उच्च शुल्क की मांग करते हैं. लिहाजा, सरकारी मेडिकल कॉलेजों की संख्या बढ़ाने की मांग बढ़ रही है.

टाइम्स और इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक, फिलहाल राज्य में लगभग 3 करोड़ आबादी के लिए 12 मेडिकल कॉलेज हैं. इनमें 4 सरकारी,  6 निजी, एक पीपीपी योजना के तहत और एक केंद्र द्वारा संचालित है. इन सभी में 1,750 एमबीबीएस सीटें हैं. सरकारी में 800 और निजी कॉलेजों में 950 में उपलब्ध है. यह अखिल भारतीय स्तर की 91,000 सीटों का मात्र 2 फीसदी है, जबकि इसके अलावा 725 पीजी सीटें भी राज्य में उपलब्ध है. मेडिकल कॉलेजों के अलावा, पंजाब में 14 डेंटल कॉलेज हैं. इनमें 2 सरकारी और 12 निजी कॉलेज शामिल हैं. राज्य में 257 नर्सिंग संस्थान और 15 आयुष संस्थानों के अलावा दो सरकारी विश्वविद्यालय बीएफयूएचएस फरीदकोट, जीआरएयू होशियारपुर में हैं. वहीं दो निजी विश्वविद्यालयों में आदेश बठिंडा और एसजीआरडी अमृतसर शामिल हैं.

केंद्र की योजना के तहत 3 कॉलेज निर्माणाधीन
12 कॉलेजों के अलावा तीन और कॉलेज कपूरथला, गुरदासपुर, मलेरकोटला और संगरूर में केंद्र प्रायोजित योजना के तहत निर्माणाधीन हैं. केंद्र सरकार पहले ही कपूरथला और गुरदासपुर के लिए 390 करोड़ रुपये के आवंटित कोटे में से 50-50 करोड़ रुपये जारी कर चुकी है. योजना के तहत केंद्र सरकार कॉलेज के लिए कुल धन का 60 प्रतिशत योगदान देती है, जबकि शेष 40 प्रतिशत राज्य सरकार द्वारा साझा की जाती है.

संगरूर कॉलेज के लिए सरकार द्वारा गुरुद्वारा मस्ताना साहिब द्वारा मुफ्त में दी गई जमीन उपलब्ध कराई गई है, जबकि मलेरकोटला मेडिकल कॉलेज के लिए पंजाब वक्फ बोर्ड द्वारा 24.44 एकड़ जमीन लीज पर दी है. प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा और अनुसंधान हुसैन लाल ने कहा कि चिकित्सा शिक्षा विभाग और स्वास्थ्य विभाग सामूहिक रूप से योजना तैयार करेंगे, जिसे राज्य सरकार को मंजूरी के लिए प्रस्तुत किया जाएगा.

सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में है सीटें
NEET के माध्यम से सुलभ सरकारी एमबीबीएस सीटों के आंकड़ों के अनुसार, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक और तमिलनाडु सूची में सबसे ऊपर हैं. महाराष्ट्र में सरकारी कॉलेजों में सबसे ज्यादा 4,330 सीटें हैं, इसके बाद गुजरात में 3,650, तमिलनाडु में 3,600, कर्नाटक में 2,900, राजस्थान में 2,700, मध्य प्रदेश में 1,970, केरल में 1,455 और ओडिशा में 1,250 सीटें हैं.

Tags: Bhagwant Mann, Punjab

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर